देश और जनहित में मैं फिट, मोदी हैं अनफिट : मायावती

  • दलित विरोधी है भाजपा, कालीन के अंदर छिपा है इनका हिसाब-किताब
  • सिर्फ कागजों पर ही ईमानदार नजर आते हैं पीएम, बहकावे में न आएं दलित

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। बसपा प्रमुख मायावती ने एक बार फिर भाजपा और पीएम नरेंद्र मोदी पर हमला किया है। उन्होंने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि मोदी सरकार दलित विरोधी है। भाजपा दलितों को गुमराह कर रही हैं। लोग भाजपा के बहकावे में न आएं। जनहित और देशहित के मामले में मैं फिट हूं और मोदी अनफिट हैं।
पीएम मोदी के बेनामी संपत्ति के आरोप के जवाब में मायावती ने कहा कि पीएम मोदी शालीनताओं को पार कर चुके हैं, वह बसपा को बहनजी की संपत्ति पार्टी कहने में घबराते नहीं हैं। मेरे पास जो कुछ भी है, वह शुभचिंतकों और समाज के लोगों ने दिया है और सरकार से कुछ भी छिपा नहीं है। सबसे ज्यादा बेनामी संपत्ति वाले लोग भाजपा से जुड़े हैं। इनका हिसाब-किताब कालीन के अंदर छिपा है। उन्होंने कहा कि मोदी सिर्फ कागजों पर ही ईमानदार नजर आते हैं। मोदी वास्तव में कुछ हैं और जनता के सामने कुछ और बनने की कोशिश करते हैं। भाजपा और प्रधानमंत्री मोदी ने पिछले पांच साल में बसपा को बदनाम करने की हर कोशिश की, लेकिन विफल रही क्योंकि उनका हिसाब खुली किताब की तरह है। उन्होंने कहा कि विदेश से कालाधन न ला पाने के पीछे इनकी क्या राजनीति है, यह देश अच्छी तरह जानता है। मायावती ने पीएम मोदी के दलित की नहीं दौलत की बेटी के आरोप पर कहा कि यह उनका असली चेहरा दिखाता है जिनकी मानसिकता दलितों के प्रति घोर जातिवादी है। ये आरक्षण का विरोध करते हैं। गौरतलब है कि पीएम मोदी ने कहा था कि महामिलावटी लोगों के पास नामी और बेनामी संपत्तियों का अंबार है। एजेंसियां इसका हिसाब ले रही हैं। इसीलिए ये एक-दूसरे के साथ आने को मजबूर हो गए हैं।

पश्चिम बंगाल में हिंसा पर बोले शाह सीआरपीएफ के कारण लौटा जिंदा

  • टीएमसी के गुंडों ने सहानुभूति के लिए तोड़ी ईश्वर चंद्र विद्यासागर की प्रतिमा
  • टीएमसी की उल्टी गिनती शुरू, कार्रवाई करे चुनाव आयोग

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
नई दिल्ली। पश्चिम बंगाल में जारी बवाल और रोड शो में हुई हिंसा के लिए भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने टीएमसी को जिम्मेदार ठहराया। उन्होंने कुछ तस्वीरें दिखाकर दावा किया कि रोड शो में टीएमसी के गुंडों ने ईश्वर चंद्र विद्यासागर की प्रतिमा भी तोड़ी। मैं सीआरपीएफ की सुरक्षा के कारण जिंदा बचकर निकला हूं। पश्चिम बंगाल में टीएमसी की उल्टी गिनती शुरू हो गई है।
भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि बंगाल में 6 चरणों में हिंसा हुई जबकि अन्य राज्यों में इस तरह से हिंसा नहीं हुई। कल भाजपा के रोड शो से तीन घंटे पहले जो पोस्टर बैनर लगाए थे, उसको हटाने का काम किया गया। पुलिस मूकदर्शक बनी रही। वहां पर हमारे कार्यकर्ताओं को उकसाने का काम किया गया। भाजपा के पोस्टर फाड़े गए। रोड शो पर तीन बार हमले किये गए और तीसरे हमले में तोडफ़ोड़, आगजनी और बोतल में केरोसिन डालकर हमला किया गया। रोड शो पर पथराव किया गया। भाजपा अध्यक्ष ने टीएमसी के उस आरोप का खंडन किया कि भाजपा कार्यकर्ताओं ने ईश्वर चंद्र विद्यासागर की प्रतिमा तोड़ी। उन्होंने कहा कि विद्यासागर की प्रतिमा दो कमरों के अंदर है। मेरा सवाल इतना ही है कि 7.30 बजे की घटना है। कॉलेज बंद था, कॉलेज किसने खोला? किसके पास चाबी होती है? यह सुनिश्चित हो गया है कि बंगाल के अंदर टीएमसी हारने जा रही है। बंगाल के अंदर मेरी 16 सभाएं हुई हैं। हमें मालूम है कि बंगाल की जनता किस ओर जा रही है। जब पंचायत के चुनाव थे तब भी 60 पॉलिटिकल एक्टिविस्टों की हत्या की गई। चुनाव आयोग की निष्पक्षता पर सवाल उठाते हुए भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि सब कुछ देखते हुए चुनाव आयोग को तत्काल कार्रवाई करनी चाहिए।

चौकीदार ने कालेधन वालों को देश से जाने दिया: अखिलेश

  • भाजपा ने नहीं पूरे किए वादे, किसानों को नहीं मिला लाभ
  • अर्थव्यवस्था को रोकने का किया गया काम

 4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। समाजवादी पार्टी के राष्टï्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव, बसपा प्रमुख मायावती और आरएलडी के राष्ट्रीय अध्यक्ष चौधरी अजित सिंह ने घोसी में आज संयुक्तमहारैली को संबोधित किया। सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने भाजपा और पीएम मोदी पर निशाना साधते हुए कहा कि जो चाय वाला बनकर आए थे वे चौकीदार बन गए। जो चौकीदार बनकर आए हैं उन्होंने कालेधन वालों को देश से जाने दिया। चौकीदार की चौकीदारी छीननी है।
उन्होंने कहा कि भाजपा ने जो वादा किया सब भूल गई। जो सपने दिखाए थे वे पूरे नहीं हुए। कहां हैं अच्छे दिन। किसानों को भरोसा दिलाया था कि लागत का डेढ गुना मुनाफा मिल जाएगा। डीजल पेट्रोल महंगा कर दिया। किसानों को लाभ नहीं मिला। दो करोड़ नौकरी नहीं दे पाए। महिलाओं को गैस दे दिया लेकिन सिलेंडर इतने महंगे कर दिए कि वे भरवा नहीं पा रही हैं। नोटबंदी की थी तो किसको फायदा पहुंचा। बुनकरों का कारोबार रोक दिया। अर्थव्यवस्था को रोकने का काम भाजपा ने किया। उद्योगपति भारत छोडक़र जा रहे हैं। जिन्होंने नोटबंदी के दौरान रुपया बटोरा वह भारत छोडक़र चले गए। हमारे देश से कारोबारी चले जाएंगे तो देश खुशहाली के रास्ते पर कैसे जाएगा। उन्होंने हमारी अर्थ व्यवस्था को रोकने का काम किया है।

 

Loading...
Pin It