कम वोटिंग परसेंटेज व मतदाताओं की चुप्पी ने बिगाड़ा चुनावी समीकरण

  • 23 मई को होगी वोटों की गिनती, अंतिम चरण पर टिकीं सबकी निगाहें
  • 6 चरण खत्म होने के बाद हर पार्टी अधिक सीटें जीतने का कर रही दावा

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। लोकसभा चुनाव का छह चरण समाप्त हो चुका है। चुनाव में पहले चरण से लेकर अब तक जहां कहीं भी वोटिंग हुई है, मतदाताओं ने किसी भी राजनीतिक दल को अपने इरादों की भनक नहीं लगने दी। सरकार से नाराजगी का मामला हो या विपक्ष के लोकलुभावने वादे किसी पर भी जनता ने खुलकर अपने मन की बात नहीं कही। इतना ही नहीं वोट देने के बाद भी कुछ जाहिर नहीं किया। इसलिए हर राजनीतिक दल अपनी जीत को लेकर आश्वस्त नजर आ रहा है, लेकिन हकीकत में सत्ता की कुर्सी तक कौन पहुंचेगा इसका सभी को बेसब्री से इंतजार है। साथ ही अब सभी राजनीतिक दलों को अंतिम चरण के मतदान का इंतजार है, जो 19 मई को होना है।
लोकसभा चुनाव के दौरान कई जगहों पर अपेक्षा से कम मतदान और उलझे राजनीतिक समीकरणों ने चुनाव को काफी रोमांचक बना दिया है। कम मतदान प्रतिशत किसके पक्ष में है इसका सटीक आंकलन राजनीतिक जानकार भी नहीं कर पा रहे हैं। वहीं जातियों का झुकाव किस तरफ है, किसको जिताएगा और किसे पटखनी देगा, यह भी समझ पाना कठिन है। जबकि छठां चरण पूरा होने के बाद उम्मीद जताई जा रही है कि कई जगहों पर नतीजे अप्रत्याशित हो सकते हैं। माना जा रहा है कि मतदाताओं का रुझान अलग-अलग राज्यों व क्षेत्रों में एक जैसा नहीं है। क्षेत्रीय दलों की घेरेबंदी चुनावी माहौल को दिलचस्प बनाए हुए है। जातियों का समीकरण उत्तरप्रदेश और बिहार जैसे राज्यों में हावी है। लेकिन यह किस सीट पर किसके पक्ष में है इसका गुणा-भाग बेहद जटिल है।

यूपी में गठबंधन मजबूत

राजनीतिक विश्लेषकों की मानें तो यूपी में गठबंधन कई सीटों पर मजबूती से चुनाव लड़ता दिख रहा है। बिहार में एनडीए को मजबूती से लडऩे की अटकलें लगाई जा रही हैं। कांग्रेस के लिए सुकून की बात यह है कि कई राज्यों में जहां उनका खाता भी नहीं खुला था वहां अब वे कुछ सीटों पर सीधे मुकाबले में हैं। यदि मतदाताओं के जेहन में जातीय समीकरण है तो स्पष्ट है कि इस बार का चुनाव बिना किसी लहर के हो रहा है। ज्यादा दारोमदार पहली बार वोट दे रहे युवाओं पर है और इनका रुख निर्णायक होगा। भाजपा को सबसे ज्यादा भरोसा इन्हीं वोटरों पर है। वहीं रोजगार को मुद्दा बनाकर विपक्ष इनका साथ पाने का प्रयास कर रहा है।

मोदी की काशी में भाजपा के दिग्गजों का डेरा, विपक्ष भी घेरेबंदी में जुटा

  • भाजपा अध्यक्ष शाह बनाए हुए हैं नजर, सपा-बसपा भी तैयार

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
नई दिल्ली। लोकसभा चुनाव के सातवें चरण की वोटिंग के पहले अब सबकी निगाह पीएम नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी पर है। यहां 19 मई को चुनाव है। मोदी के चुनाव प्रचार को धार देने के लिए भाजपा के दिग्गज नेताओं का काशी पहुंचना और कैंप करने का सिलसिला शुरू हो गया है। वहीं, विपक्ष भी पीएम मोदी के खिलाफ घेराबंदी करने की तैयारी कर रहा है।
भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने यहां डोर-टू-डोर कैंपेन की योजना तैयार की तो सीएम योगी आदित्यनाथ हर दूसरे दिन बनारस पहुंच रहे हैं। वहीं, प्रियंका गांधी रोड शो के जरिए कांग्रेस प्रत्याशी के पक्ष में माहौल बनाएंगी। सपा प्रमुख अखिलेश यादव और बसपा अध्यक्ष मायावती संयुक्त रैली करके अपने समीकरण को साधने की कवायद में है। शाह ने 17 मई तक पार्टी कार्यकर्ताओं को डोर-टू-डोर अभियान को पूरा करने का काम सौंपा है। माना जा रहा है कि अमित शाह 17 मई तक काशी में ही डेरा जमाए रखेंगे। यूपी के डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य ने वाराणसी में डेरा जमा दिया है। केंद्रीय विदेश मंत्री सुषमा स्वराज 15 मई को वाराणसी पहुंच रही हैं। वहीं मोदी के घेराबंदी के लिए वाराणसी में विपक्ष पूरी तरह से कमर कस चुका है। कांग्रेस के युवा नेताओं की टीम काशी पहुंच चुकी है और वह लगातार डोर-टू-डोर जनसभाएं करके पार्टी के पक्ष में माहौल बनाने में जुटे हैं। बसपा प्रमुख मायावती और सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव भी एक दो दिन में संयुक्त रैली रविदास मंदिर के पास सिरगोबर्धन इलाके में जनसभा को संबोधित करेंगे।

फतेहपुर में दिनदहाड़े इंजीनियर की गोली मार कर हत्या, हडक़ंप

  • बदमाशों ने फिल्मी स्टाइल में रुकवाई कार, ताबड़तोड़ गोलियों से भूना

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। उत्तर प्रदेश के फतेहपुर जिले में आज एक दिन दहला देने वाली वारदात हुई। बेखौफ बदमाशों ने कार से ऑफिस जा रहे एक रेलवे के इंजीनियर की दिनदहाड़े गोलीमार कर हत्या कर दी। बताया जा रहा है कि बदमाशों ने सबसे पहले गाड़ी रुकवाई और ड्राइवर को नीचे उतारा। इसके बाद इंजीनियर को गोली मार दी।
जानकारी के मुताबिक मामला थरियांव थाना क्षेत्र के बिलन्दा अतरहा मार्ग का है। मारे गए इंजीनियर का नाम अजय कुमार है। जो फिरोजाबाद जिले के रहने वाले थे। घटना के चश्मदीद ड्राइवर श्यामू सिंह ने बताया कि रोज की तरह वह आज भी रेलवे के चार अधिकारियों को फतेहपुर से लेकर एकारी नाका के पास बने रेलवे प्लांट जा रहा था। इसी बीच रास्ते में करीब बाइक सवार पांच हमलावरों ने आगे से रास्ता रोक लिया। बदमाशों तमंचे की नोक पर ड्राइवर को नीचे उतार दिया। साथ ही उसके सिर पर डंडा मारकर घायल कर दिया। जबकि कार की बीच वाली सीट पर बैठे इंजीनियर व अन्य लोगों पर फायर झोंक दिया। इसके बाद हमलावर मौके से फरार हो गए। पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है।

जवानों को भी लगा ‘पबजी’ गेम का चस्का

  • सीआरपीएफ ने कहा क्षमता पर पड़ रहा बुरा असर

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
रांची। सीआरपीएफ के आंतरिक सर्वे में एक चौकाने वाली बात सामने आई है कि जवानों को मोबाइल गेम ‘पबजी’ की लत लग रही है। इस संबंध में सीआरपीएफ ने अपने कमांडिंग अफसरों को निर्देश दिए हैं कि वे जवानों के गेम खेलने पर रोक लगाएं। क्योंकि गेम खेलने से जवानों की ऑपरेशनल क्षमता प्रभावित हो रही है।
देश में ‘पबजी’गेम की लत से किशोर और बच्चे बुरी तरह प्रभावित हो रहे हैं। इसी बीच सीआरपीएफ ने कहा कि सेना के जवान ‘पबजी’ गेम की लत के कारण अपने साथी जवानों से मेलजोल भी कम कर रहे हैं और गेम खेलने के कारण शारीरिक गतिविधियों के कम होने से जवानों की नींद भी पूरी नहीं हो पा रही है। इस मामले के बाद सभी डीआईजी को उनके तहत आने वाले सीआरपीएफ जवानों को इस तरह के एप को डिलीट करना सुनिश्चित कराने को कहा गया है। इसलिए जवानों में भी हडक़ंप मचा हुआ है।

ममता का मीम बनाने वाली प्रियंका को मिली जमानत

  • कोर्ट ने माफी मांगने के आदेश के साथ दी हिदायत

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
नई दिल्ली। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी मीम मामले में आज सुप्रीम कोर्ट ने बीजेपी कार्यकर्ता प्रियंका शर्मा को सशर्त जमानत दी। सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई के दौरान स्पष्ट कहा है कि हम उन्हें जमानत दे सकते हैं लेकिन उन्हें माफी मांगनी होगी।
बता दें कि ममता से संबंधित एक मीम शेयर करने के बाद शनिवार को प्रियंका शर्मा को गिरफ्तार किया गया था, जिसके बाद उन्हें 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया। इसलिए प्रियंका ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल कर जमानत की मांग की थी जिस पर जस्टिस इंद्रा बनर्जी और जस्टिस संजीव खन्ना सुनवाई के लिए तैयार हो गए थे। आज सुनवाई में प्रियंका को सशर्त जमानत दी गई। साथ ही दोबारा ऐसा नहीं करने की हिदायत भी दी गई।

 

Loading...
Pin It