नक्सलियों को गोली का जवाब गोली से ही मिलेगा: भूपेश बघेल

विशेष साक्षात्कार

वह स्वभाव से जितने विनम्र लगते हैं उनकी राजनीति उतनी ही कडक़ है। छत्तीसगढ़ में उनकी मेहनत का ही परिणाम था कि भाजपा उनके जादू को देखकर भौचक्की रह गई। 4पीएम के संपादक संजय शर्मा से बातचीत के दौरान छत्तीसगढ़ के सीएम भूपेश बघेल ने साफ शब्दों में कहा कि अगर नक्सली गोली चलायेंगे तो उसका जवाब गोली से ही दिया जायेगा। पेश है उनसे बातचीत के प्रमुख अंश-

 

संजय शर्मा: आप यूपी में चुनाव प्रचार कर रहे हैं। कैसा लग रहा है यहां का माहौल…
भूपेश बघेल: कांग्रेस के पास यहां खोने के लिए कुछ नहीं है। सब कुछ पाने के लिए ही है। प्रियंका गांधी के आने के बाद पूरे प्रदेश में ऊर्जा आ गई है। महिलाएं और नौजवान खास तौर पर बहुत खुश हैं। बदले हुए माहौल से स्पष्ट है कि कांग्रेस को उम्मीद से ज्यादा समर्थन हासिल होने जा रहा है।

संजय शर्मा: मगर भाजपा तो दावा कर रही है कि यूपी में कांग्रेस का अस्तित्व ही नहीं बचा…
भूपेश बघेल: भाजपा अब ढलान पर है। जितनी ऊंचाई तक वो जा सकती थी जा चुकी। अब उसका ढलान पूरा देश देखेगा।

संजय शर्मा: आप यूपी में अपने लिए कितना सोच रहे हैं मतलब कितनी सीट…
भूपेश बघेल: सोचने को तो कुछ भी सोच सकते हैं पर साफ है कि कांग्रेस को सीधी बढ़त मिल रही है जो कई सीटों में बदल जायेगी।

संजय शर्मा: तो आपका क्या अनुमान है कितनी सीटें…
भूपेश बघेल: आंकड़ों की बात तो ईश्वर ही बता सकता है पर हम काफी सीटें जीतने जा रहे हैं।

संजय शर्मा: काफी सीटें जीतने की कोशिश में आपने अपना सबसे बड़ा तुरुप का इक्का प्रियंका गांधी को भी दांव पर लगा दिया। फिर भी आप सीटों की संख्या बताने में संकोच कर रहे हैं या आपको यकीन है कि सीटें इतनी आने वाली नहीं है…
भूपेश बघेल: मैं कुछ भी आंकड़े पेश करके कोई भी बात कह सकता हूं पर फिर भी हम ईमानदारी से बात करने वाले लोग हैं। मेरा कहना है कि कांग्रेस बड़ी संख्या में यहां सीटें जीतने जा रही है। लोग हमको एनडीए के विकल्प के रूप में मान रहे हैं। एनडीए का विकल्प यूपीए ही है।

संजय शर्मा: मगर आपने यूपीए को मजबूत तो नहीं बनाया। गठबंधन में यूपी की सबसे मजबूत पार्टी सपा और बसपा ही आपके साथ नहीं हैं…
भूपेश बघेल: वो हमारे साथ होते अगर सीबीआई और ईडी नहीं होती। चुनाव से पहले जिस तरह सीबीआई और ईडी का दुरुपयोग हुआ वह लोकतंत्र के लिए खतरनाक है। छत्तीसगढ़ में चुनाव से ठीक पहले सीबीआई के छापों के कारण बसपा और अजीत जोगी जी का गठबंधन हुआ।

संजय शर्मा: मगर यह गठबंधन तो आपको ही फायदा पहुंचा गया…
भूपेश बघेल: यह अलग बात है। हमारी और बसपा के गठबंधन की बात आधी रात तक हो रही थी। मगर सीबीआई के डर से बसपा ने फिर हमसे बात ही नहीं की और जोगी से गठबंधन कर लिया।

संजय शर्मा: मगर यूपी में तो आपने सही कोशिश नहीं की। दो लडक़ों में ही दोस्ती नहीं हो पायी…
भूपेश बघेल: नहीं ऐसा नहीं है। यहां भी बातचीत फाइनल स्टेज पर पहुंचती उससे पहले ही सीबीआई ने अपना काम शुरू कर दिया। यूपी की जनता भी सब समझ गयी है कि यहां भाजपा सीधे लड़ाई नहीं लड़ पा रही है।

संजय शर्मा: मगर अखिलेश यादव का कहना है कि सीबीआई का खेल तो कांग्रेस ने ही शुरू किया। कांग्रेस ने लगातार सीबीआई का दुरुपयोग किया…
भूपेश बघेल: तब तो भाजपा सीबीआई को तोता बोलती थी। आज सीबीआई का पूरा दुरुपयोग भाजपा कर रही है। कांग्रेस कभी भी यह काम नहीं करती।

संजय शर्मा: मगर कांग्रेस तो पश्चिम बंगाल में भी ताकतवार नेता ममता बनर्जी को अपने साथ नहीं ला पाई जबकि वो बहुत मजबूत नेता हैं। मतलब साफ है कि राहुल गांधी में संगठन की क्षमता या यूं कहें लोगों को साथ लाने की क्षमता नहीं है…
भूपेश बघेल: राहुल जी मन के बहुत साफ हैं। हमारे जितने भी सहयोगी हैं सब उनकी साफगोई व ईमानदारी के कायल हैं। जहां तक बंगाल की बात है तो मैं इतना बड़ा नेता नहीं कि राष्ट्रीय स्तर पर कोई बात कह सकूं जब तक मुझे सारी स्थिति पता न हो।

संजय शर्मा: आप न कहें तो अलग बात है, मगर आप अपने को छोटा नेता तो मत कहिए। आपने छत्तीसगढ़ में भाजपा को जो दर्द दिया है भाजपा आज तक उससे नहीं उबर पाई है…
भूपेश बघेल: नहीं मैंने तो साधारण बात कही थी। जैसे केजरीवाल जी ने कह दिया हमारा गठबंधन राहुल जी के कारण नहीं हुआ। हकीकत यह है कि राहुल जी किसी को बता रहे थे कि उन्होंने कभी केजरीवाल जी से बात नहीं की

संजय शर्मा: कांग्रेस कभी-कभी सेल्फ गोल भी कर लेती है। पूरी दुनिया की मीडिया में प्रचारित कर दिया कि प्रियंका गांधी वाराणसी से चुनाव लड़ रही हैं। मगर फिर ऐसा प्रत्याशी दे दिया जिसकी पिछली बार जमानत जब्त हो गई थी…
भूपेश बघेल: कांग्रेस ने कभी नहीं कहा कि प्रियंका गांधी चुनाव लडऩे जा रही हैं। यह मीडिया की बनाई हुई कहानी थी। हां यह बात सही है कि अगर प्रियंका गांधी वहां से चुनाव लड़तीं तो पक्का चुनाव जीत जातीं।

संजय शर्मा: आप छत्तीसगढ़ के सीएम हैं जहां यह बात कही जाती है कि वहां आदिवासियों की जमीनें छीन कर पूंजीपतियों को दे दी गईं। क्या यह आरोप सही है? यदि सही है तो आपने क्या किया…
भूपेश बघेल: यह बात सही है। हमने यह जमीनें आदिवासियों को वापस की हैं। पहली बार किसानों की जमीनें वापस करने की शुरूआत छत्तीसगढ़ से ही हुई। सिंगुर में तो आंदोलन हुए पर किसानों को जमीन वापस छत्तीसगढ़ में ही मिली। 1700 किसानों की 5200 एकड़ जमीन कांग्रेस के सहपत्र राहुल गांधी जी के हाथों से वापस कराई।

संजय शर्मा: आपके राज्य में नक्सलवाद खत्म होने का नाम ही नहीं ले रहा। क्या उपाय करेंगे आप…
भूपेश बघेल: नक्सलवाद अपनी विचारधारा से भटक गया है। अगर नक्सली गोली चलायेंगे तो पुलिस भी उनकी गोली का जवाब गोली से ही देगी। हालांकि सरकार का पहला काम गोली नहीं बल्कि आपसी बातचीत ही होता है।

संजय शर्मा: तो यह बातचीत कब और कैसे शुरू होगी…
भूपेश बघेल: हमने इसकी शुरूआत कर दी है। पत्रकारों, बुद्धजीवियों, सामाजिक संगठन के लोगों, अधिवक्ताओं, व्यापारियों सभी से बातचीत करके इसका रास्ता निकालेंगे। जो इस समस्या से जूझ रहा है वही इसका इलाज भी बता सकता है।

संजय शर्मा: छत्तीसगढ़ में पत्रकारों का भी बहुत उत्पीडऩ हुआ है। उन पर अनेकों फर्जी मुकदमे लगाए गए…
भूपेश बघेल: सही कह रहे हैं आप। यह तथ्य मेरी जानकारी में भी हैं। हम ऐसे सभी मुकदमों की जांच करवा रहे हैं और जो गलत मुकदमे लगे हैं उनको वापस लिया जायेगा।

Loading...
Pin It