सीएमएस के ठेंगे पर नियम-कानून सडक़ व फुटपाथ पर किया अतिक्रमण

  • बिना अनुमति लगा दिए होर्डिंग और सडक़ पर कर लिया कब्जा, अगले चार दिनों तक चलेगा आयोजन
  • सडक़ पर खड़े किए गए बेतरतीब वाहनों से पूरे गोमती नगर विस्तार की यातायात व्यवस्था चौपट

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। बच्चों को नियम-कानून की शिक्षा देने वाले स्कूल अगर खुद ही नियमों को खुलेआम ठेंगा दिखा रहे हों तो इसे शहर का दुर्भाग्य ही कहा जाएगा। ऐसा ही कारनामा शहर के नामचीन स्कूलों में शुमार सिटी मॉन्टेसरी स्कूल (सीएमएस) की गोमती नगर विस्तार शाखा ने कर दिखाया है। छात्रों के परीक्षा परिणाम आने की खुशी में सीएमएस की गोमती नगर विस्तार शाखा ने सडक़ और फुटपाथ को होर्डिंग बैनर से पाट दिया गया है। स्कूल में आयोजित कार्यक्रम के चलते सडक़ पर बेतरतीब वाहन खड़े किए जा रहे हैं। जिसके चलते पूरे गोमती नगर विस्तार की यातायात व्यवस्था चौपट हो गई है। समस्या के बावजूद एलडीए और स्थानीय पुलिस को स्कूल प्रशासन की यह दबंगई नजर नहीं आ रही है। जिम्मेदारों ने होर्डिंग बैनर हटाना तो दूर यातायात व्यवस्था चौपट होने के बावजूद स्कूल प्रशासन के खिलाफ कोई कदम नहीं उठाया। इसके पीछे कारण यह है कि सीएमएस में कई नेताओं, मंत्रियों, आईएएस अफसरों और वीआईपी लोगों के बच्चे बढ़ते हैं। ऐसे में कोई भी स्कूल के खिलाफ कार्यवाही करने की हिम्मत नही जुटा पाता।

सडक़ या फु टपाथ पर अतिक्रमण करने का अधिकार किसी को नहीं है। मौके का निरीक्षण करा कर आवश्यक कार्यवाही की जा रही है।
-अवधेश तिवारी, अधिशाषी अभिंयता, जोन-एक, एलडीए

‘यह चौकीदार का गांव है, यहां चोरों का आना वर्जित है’

  • पीएम मोदी के गोद लिए गांव में लगा पोस्टर
  • वाराणसी के ककरहिया गांव का मामला

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
वाराणसी। चुनावी संग्राम में इस बार चौकीदार और चोर शब्द हर कान में गूंज रहा है। कांग्रेस ने पीएम मोदी पर निशाना साधते हुए ‘चौकीदार चोर है’ का नारा छेड़ा तो मोदी ने उसे ही राष्ट्र सुरक्षा के लिए अपना हथियार बना लिया। पूरी भाजपा ही ‘मैं भी चौकीदार’ हो गई। मामला सुप्रीम कोर्ट तक पहुंचा। इतना ही नहीं, राहुल गांधी को माफी भी मांगनी पड़ी। अब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा सांसद आदर्श ग्राम योजना के तहत गोद लिए गांव ककरहिया में लगा पोस्टर चर्चा का केंद्र बना है। ग्रामीणों ने गांव में जगह-जगह ‘यह चौकीदार का गांव है, यहां चोरों का आना वर्जित है’ लिखा पोस्टर चस्पा किया है। गांव में रहने वाले भाजपा से जुड़े कार्यकर्ताओं का कहना था प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 23 अक्टूबर 2017 को ककहरिया गांव गोद लिया था। उनके गांव गोद लेने से यहां की तस्वीर बदल गई। इस गांव में काफी विकास कार्य कराए गए। केंद्र सरकार के कई मंत्रियों का यहां आना-जाना लगा रहता है। ककरहिया गांव के लोगों का कहना है कि इससे पहले जो भी सांसद व विधायक जीत कर आता था वह हमारे गांव को और विकास को दरकिनार कर देता था, लेकिन मोदी ने गांव का कायाकल्प कर दिया। गांव में बिजली व पानी की व्यवस्था ठीक हुई है। लोगों को भरपूर बिजली व पानी मिलने लगा। प्रधानमंत्री को चोर कहकर संबोधित करने वालों ने पूरे देश की गरिमा को ठेस पहुंचाई है। ऐसे लोगों का हमारे गांव में कदम नहीं पड़े इसलिए ऐसे पोस्टर लगाए हैं। गांवों के लोगों द्वारा किए जा रहे इस तरह के विरोध प्रदर्शन को लेकर तरह-तरह की चर्चा भी हो रही है।

कांग्रेस की सरकार बनी तो आतंकवाद को देगी बढ़ावा: पीएम मोदी

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
नई दिल्ली। प्रधानमत्री नरेंद्र मोदी सिरसा लोकसभा सीट पर भाजपा प्रत्याशी सुनीता दुग्गल के समर्थन में आयोजित रैली में फतेहाबाद पहुंचे हैं। यहां उन्होंने अपने संबोधन में कहा कि कांग्रेस की सरकार सिर्फ बयान देती थी। इनकी नीति और नीयत दोनों ही खराब है। इसलिए यदि दिल्ली में कांग्रेस की सरकार बनी तो केवल आतंकवाद को बढ़ावा देगी। पीएम मोदी ने कहा कि लोकसभा चुनाव का पांच चरण खत्म हो चुका है। कांग्रेस और उनके सहयोगी दलों ने अपने हाथ खड़े कर दिए हैं। इसलिए 23 मई को आप सबके आशीर्वाद से एक बार फिर भाजपा सरकार बनेगी। आपका चौकीदार भारत को विश्व शक्ति बनाने के लिए आपकी सेवा में जुटा है। वह आगे भी सेवा के लिए तैयार है।

सुप्रीम कोर्ट ने निर्वाचन आयोग को भेजा नोटिस

  • तेज बहादुर का नामांकन रद्द करने के कारणों का ब्यौरा मांगा

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। यूपी की वाराणसी लोकसभा सीट से समाजवादी पार्टी के कैंडिडेट रहे पूर्व जवान तेज बहादुर यादव की याचिका पर आज सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई की। इस दौरान कोर्ट ने नामांकन मामले में नोटिस देकर चुनाव आयोग से 9 मई को जवाब मांगा है। इससे पूर्व वाराणसी से अपनी उम्मीदवारी रद्द किए जाने को लेकर तेज बहादुर ने सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी थी। बता दें, चुनाव आयोग ने तेज बहादुर का नामांकन उनके द्वारा दाखिल दस्तावेजों में विसंगति पाने के बाद रद्द किया था। उनको बीएसएफ से एनओसी जमा करना था, जिसमें बर्खास्तगी के कारण बताए जाने थे। वह एनओसी जमा नहीं कर पाए थे।

दहेज के लिए विवाहिता की हत्या, आरोपी फरार

  • ट्विïटर पर अनेकों ट्वीट के बाद भी नहीं हो रही कार्रवाई
  • प्रतापगढ़ जनपद के सांगीपुर थाना क्षेत्र का मामला
  • न्याय के लिए दर-दर भटक रहा पीडि़त परिवार

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। प्रतापगढ़ जनपद के सांगीपुर थाना क्षेत्र में दहेज लोभियों ने एक विवाहिता की हत्या कर दी और फरार हो गए। इस मामले में पीडि़त ने स्थानीय थाने पर तहरीर दी लेकिन काफी हीला-हवाली के बाद पुलिस ने मुकदमा तो दर्ज कर लिया लेकिन अभी तक आरोपियों की गिरफ्तारी नहीं हो पाई। पीडि़त ने इस मामले में डीजीपी सहित अन्य अधिकारियों को ट्विटर के माध्यम से ट्वीट कर घटना से अवगत कराया और न्याय की गुहार लगाई लेकिन पुलिस अधिकारियों ने कोई कार्रवाई करने की जहमत नहीं उठाई। इस वजह से आरोपियों के हौसले बुलंद होते जा रहे हैं। वहीं पीडि़त परिवार न्याय के लिए दर-दर भटक रहा है। बता दें कि प्रतापगढ़ में ग्राम हरिहरपुर कैलहा थाना जेठवारा निवासी छोटेलाल द्विवेदी ने अपनी बेटी पूजा शुक्ला की शादी अवनीश शुक्ला निवासी पूरे कलिया तारापुर थाना सांगीपुर से दो वर्ष पूर्व बड़े ही धूमधाम से की थी। वर पक्ष की तरफ से जो भी डिमांड की गई थी, उसे पूरा किया था। पिता छोटेलाल द्विवेदी के मुताबिक शादी के बाद से ही उनकी बेटी को ससुराल में दहेज के लिए प्रताडि़त किया जाता रहा। पूजा को आये दिन शारीरिक और मानसिक रूप से प्रताडि़त किया जाता था। बेटी ने इस बात की शिकायत कई बार की थी लेकिन हम लोगों ने समझा-बुझाकर उसे ससुराल में रहने के लिए राजी करा लिया। इसके बाद कुछ दिनों तक तो सबकुछ ठीक रहा लेकिन अचानक से अवनीश और उसके परिजन दहेज में एक लाख रुपये और कार की मांग करने लगे। अपनी मांग पूरी न होने की स्थिति में उसको छोडऩे और प्रताडि़त करने की धमकियां देने लगे। इसी बीच 5 मई 2019 को ससुराल वालों ने पूजा की जमकर पिटाई की और उसकी हत्या कर दी। इतना ही नहीं मृत हालत में लडक़ी को रायबरेली जिला अस्पताल में छोडक़र फरार हो गए। इस हत्या में पूजा के ससुर अजय कुमार शुक्ल, सास ऊषा शुक्ला, पति अवनीश कुमार शुक्ला व देवर आशीष, गिरीश और सतीश का हाथ है। इस मामले में पुलिस ने मृतका के भाई राहुल द्विवेदी की तहरीर पर दहेज हत्या का मुकदमा दर्ज कर लिया है। लेकिन अब तक किसी भी आरोपी की गिरफ्तारी नहीं की गई है। इस मामले में सांगीपुर थानाध्यक्ष का कहना है कि मृतका के भाई की तहरीर पर मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। जल्द ही आरोपियों की गिरफ्तारी की जाएगी।

Loading...
Pin It