स्मार्ट सीवर सिस्टम से लैस होंगे शहर के एक दर्जन से अधिक वार्ड, जल निगम ने तैयार की योजना

  • लगाए जाएंगे सेंसर सीवर उफनाने की समस्या से मिलेगी निजात
  • नगर निगम के कंट्रोल रूम से की जाएगी निगरानी
  • 135 किमी सीवर लाइन के लिए पंपिंग स्टेशन का निर्माण

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क

लखनऊ। शहर की सडक़ों पर अब सीवर उफनाते नहीं नजर आएंगे। इसके लिए जल निगम ने पुख्ता योजना तैयार की है। योजना के मुताबिक शहर के 13 वार्डों को सेंसर युक्त सीवर लाइन से कनेक्ट किया जाएगा। करीब 135 किमी सीवर लाइन पर नजर रखने के लिए एक निश्चित दूरी पर 266 सेंसर लगाए जाएंगे। इसकी मॉनीटरिंग नगर निगम में बनने वाले कंट्रोल रूम के जरिये होगी। खास बात यह है कि 38,669 लोगों को निशुल्क कनेक्शन दिए जाएंगे। यह काम लोक सभा चुनाव के बाद शुरू करने की तैयारी है।
जल निगम द्वारा 298 करोड़ की धनराशि से सेंसर युक्त सीवर लाइन का काम किया जाना है। अमृत योजना के अंतर्गत यह काम किया जाना है। काम के टेंडर की प्रक्रिया पूरी कर ली गई है। जल निगम के अफसरों के अनुसार जून 2019 में काम शुरू हो जाएगा। वही, 31 दिसंबर 2020 में इसे हर हाल में पूरा कर दिया जाएगा।
प्रोजेक्ट मैनेजर के मुताबिक पुरानी सीवर लाइन निकालने के बाद बनाए गए नक्शे के मुताबिक नई सीवर लाइन डाली जाएगी। सीवर पाइप का डाया 200 मिली मीटर होगा। 135 किमी सीवर लाइन के लिए एक नया सीवेज पंपिंग स्टेशन का निर्माण किया जाएगा। मछली मोहाल स्थित सीवेज पंपिंग स्टेशन का नवीनीकरण जल निगम कराएगा। इससे सीवर व्यवस्था जहां बेहतर होगी, वहीं हजारों परिवारों को कई दशक तक सीवर को लेकर परेशानी नहीं उठानी पड़ेगी। जल निगम प्रोजेक्ट मैनेजर जिया उल हक का कहना है कि टेंडर प्रकिया पूरी हो गई है और चुनाव बाद काम शुरू हो जाएगा। 31 दिसंबर 2020 तक काम पूरा करने का लक्ष्य रखा गया है। 298 करोड़ से 135 किमी सीवर लाइन करीब तेरह वार्ड में बिछाई जाएगी। नए सिस्टम से बारिश और अन्य दिनों में राजधानी में सीवर के उफनाने की समस्या लगभग खत्म हो जाएगी। इससे स्थानीय लोगों को काफी राहत मिलेगी। साथ ही सडक़ पर बहने वाली गंदगी पर भी नियंत्रण लग सकेगा।
गौरतलब है कि करीब दस साल पहले जेएनएनयूआरएम योजना के तहत शहर के विभिन्न इलाकों में सीवर लाइन डाली गई थी। सीवर लाइन पडऩे के बाद अब कहीं जाकर उससे घरेलू कनेक्शन जोड़े जा रहे हैं, लेकिन कनेक्शन करने की जो रफ्तार है उसके हिसाब से लोगों को अभी और इंतजार करना पड़ेगा।

जोड़े जा रहे कनेक्शन

लखनऊ। (4पीएम न्यूज़ नेटवर्क) जल निगम अमृत योजना के तहत नगर निगम जोन तीन, चार, छह और सात में कनेक्शन जोडऩे का काम कर रहा है। इन चारों जोन में 90 हजार घरों में कनेक्शन किए जाने हैं लेकिन इसके विपरीत अभी तक 60 हजार घरों में ही सीवर कनेक्शन किए जा सके हैं। अमृत योजना के तहत डिस्टिक्ट वन, डिस्टिक्ट तीन पार्ट एक और पार्ट-2 के लिए 245 करोड़ की धनराशि व्यय की जानी है। जल निगम का कहना है कि मार्च तक कनेक्शन का काम पूरा किया जाना था लेकिन धनराशि न अवमुक्त किए जाने से 60 हजार घरों में ही कनेक्शन किया जा सका है। जोन छह में ठाकुरगंज, बालागंज, दुबग्गा, दौलतगंज में कनेक्शन किया जाना था।

यहां होगा काम
बाबू बनारसी दास, बशीरतगंज, गोलागंज, हजरतगंज, जेसी बोस, लालकुआं वार्ड आंशिक, महात्मा गांधी वार्ड, मशकगंज, मौलवीगंज, नजराबाग, राममोहन राय, रानी लक्ष्मी बाई वार्ड समेत यदुसान्याल वार्ड में काम होगा।

 

Loading...
Pin It