महागठबंधन की रैलियों में भीड़ देखकर घबराई भाजपा: अखिलेश

  • संयुक्त रैली में सपा-बसपा और रालोद ने भाजपा पर साधा निशाना
  • चुनाव में हिन्दुओं और मुस्लिमों को भडक़ाने का लगाया आरोप

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। प्रदेश में आगरा के कोठी मीना बाजार मैदान में मंगलवार को महागठबंधन के नेताओं की रैली हुई। इस दौरान भाजपा और चुनाव आयोग नेताओं के निशाने पर रहा। सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव, रालोद प्रमुख अजित सिंह, बसपा महासचिव सतीश मिश्र और मायावती के भतीजे आकाश ने कहा कि गठबंधन से भाजपा भयभीत हो गई है। चुनाव आयोग भाजपा सरकार के दबाव में गलत कार्रवाई कर रहा है। इसलिए उसकी निष्पक्षता भी सवालों के घेरे में आ गई है।
अखिलेश ने कहा कि महागठबंधन की रैलियों में जुटने वाली लाखों लोगों की भीड़ देखकर भाजपा घबरा गई है। महागठबंधन नफरत की दीवार को तोडऩे वाला गठबंधन है। तीन दलों का गठबंधन यदि मिलावट है तो 38 से ज्यादा दलों के गठबंधन को क्या नाम दें। अखिलेश ने मौसम में बदलाव और आंधी का जिक्र करते हुए कहा कि तेज हवाएं लोगों का मनोबल नहीं तोड़ सकीं। जनसभा में लाखों लोगों का मौजूद रहना प्रमाण है कि जनता बदलाव चाहती है। उन्होंने जनसभा में चौकादार चोर के नारे भी लगवाए। इस दौरान बसपा महासचिव सतीश मिश्र ने पार्टी अध्यक्ष मायावती पर कार्रवाई को असंवैधानिक बताया। उन्होंने चुनाव आयोग पर दलित विरोधी मानसिकता का आरोप लगाते हुए कहा कि मायावती सर्व समाज को साथ लेकर चल रही हैं। भाजपा हिन्दू और मुस्लिमों को भडक़ाने का कार्य कर रही है। चुनाव आयोग में इतनी हिम्मत नहीं कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को नोटिस दे। चुनाव आयोग की कार्रवाई से मायावती डरी नहीं हैं। वहीं बसपा अध्यक्ष के भतीजे आकाश आनंद ने कहा कि आज की रैली में बुआ नहीं आ पाई हैं। लेकिन मैं उनका संदेश लेकर आप लोगों के बीच उपस्थित हूं। उन्होंने महागठबंधन के प्रत्याशियों को जिताकर आयोग को करारा जवाब देने की अपील की। रैली में रालोद अध्यक्ष चौ. अजित सिंह ने भी केंद्र सरकार पर निशाना साधा। उन्होंने मायावती की प्रचार पाबंदी को षडयंत्र बताते हुए कहा कि चुनाव आयोग ने मायावती को आगरा में रैली करने से रोका है।

एक मंच पर होंगे माया-मुलायम

सपा-बसपा की दोस्ती के सफर में 19 अप्रैल को बड़ा लम्हा होगा । पच्चीस साल बाद पहली बार मायावती व मुलायम सिंह यादव एक मंच पर होंगे। मायावती मुलायम के लिए वोट मांगेंगी। मैनपुरी की जनता के लिए तो यह ऐतिहासिक पल होगा…और यह सब होगा मुलायम के बेटे व सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव की वजह से। मैनपुरी में अखिलेश यादव, मायावती, मुलायम सिंह यादव व अजित सिंह एक मंच पर होंगे। वहां की जनता के लिए सबसे उत्सुकता तो सपा के मंच पर मायावती की मौजूदगी को लेकर है। देखना है कि मायावती व मुलायम जनता को व एक दूसरे को क्या संदेश देते हैं।

Loading...
Pin It