जांघ में घुसी सरिया पेट को चीरते हुए पीठ से निकली

  • मासूम के शरीर में घुसी सरिया, डॉक्टरों ने बचाई जान

 4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। ट्रॉमा सेंटर के चिकित्सकों ने तीन साल के मासूम के शरीर में आर-पार घुसी लोहे की सरिया को निकालकर उसे मौत के पंजे से बाहर निकाल लिया है।
मंगलवार को सीतापुर निवासी मजदूर अजीम का तीन वर्षीय बेटा नदीम मडियांव में एक निर्माणाधीन भवन से गिर गया था जिससे उसकी जांघ के नीचे की तरफ से सरिया घुसकर पेट से होती हुई पीठ से निकल गयी थी। बच्चे को आनन-फानन में ट्रॉमा सेंटर पहुंचाया गया। डॉ. समीर ने बताया कि उस समय वहां मौजूद डॉ. अनीता ने बच्चे को रिवाइव किया और उसे ऑपरेशन करने लायक बनाया। इसके बाद डॉ. यादवेन्द्र ने ऑपरेशन शुरू किया। करीब ढाई घंटे तक चले ऑपरेशन के बाद सरिया को निकाल लिया गया। फिलहाल बच्चा पीडियाट्रिक इंटेंसिव केयर यूनिट में है और उसकी हालत ठीक है।

मां ने बेटे को किडनी देकर दिया नया जीवन

  • लोहिया संस्थान में किया गया किडनी ट्रांसप्लांट

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क

लखनऊ। गोंडा निवासी देव प्रकाश पाण्डेय (25) की दोनों किडनियां खराब हो गईं थीं। लोहिया संस्थान के डॉक्टरों ने भर्ती कर इलाज शुरू करने के साथ किडनी ट्रांसप्लांट की जरूरत बताई। डोनर मिलने में देरी से युवक की तबियत बिगड़ती जा रही थी। आखिर में मां सत्यभामा (45) ने खुद की किडनी देने का फैसला लिया। इसके बाद यूरोलॉजी और नेफ्रोलॉजी विभाग के डॉक्टरों ने मंगलवार को सफलतापूर्वक किडनी ट्रांसप्लांट किया। डॉक्टरों के मुताबिक मरीज और डोनर दोनों की हालत में सुधार हो रहा है।
देव प्रकाश की 5 मई 2018 को शादी हुई थी। कुछ ही दिन बाद पेशाब में जलन के साथ पेट में तेज दर्द उठा। परिवारीजनों ने उसे दो जुलाई को लोहिया संस्थान के नेफ्रोलॉजी विभाग में दिखाया। जांच में दोनों किडनी के खराब होने की पुष्टि हुई। नेफ्रोलॉजी विभाग के हेड डॉ. अभिलाष ने बताया कि दूरबीन विधि से इस ट्रांसप्लांट में करीब पांच घंटे लगे।

बीकेटी में डोर-टू-डोर कूड़ा कलेक्शन में लापरवाही जारी

  • कई दिनों तक नहीं होता कूड़ा कलेक्शन

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। बख्शी का तालाब नगर पंचायत क्षेत्र में डोर-टू-डोर कूड़ा कलेक्शन में लापरवाही जारी है। क्षेत्र में 4-5 दिनों में एक बार ही कूड़ा कलेक्शन के लिए गाडिय़ां पहुंच रहीं हैं, जिसके चलते घरों में कई-कई दिनों तक कूड़ा सड़ रहा है। कूड़ा कलेक्शन के लिए नगर पंचायत की ओर से लाखों रूपये निजी संस्था को दिए जा रहे हैं। बख्शी का तालाब क्षेत्र के रूदही, भौली, बरगदी, मुस्लिम नगर समेत नयी विकसित हो रही कालोनियों में डोर-टू-डोर कूड़ा कलेक्शन में लापरवाही हो रही है। रूदही निवासी सुरेश कुमार ने बताया कि महीने में मात्र 10 दिन ही कूड़ा कलेक्शन के लिए गाडिय़ां आती हैं। गोल्डन विंग्स एवेंन्यू के कैलाश ने बताया कि कूड़ा कलेशन कई-कई दिनों तक नहीं होता जिसके कारण कूड़ा सडऩे लगता है।

 

Loading...
Pin It