आखिर क्यों बाज नहीं आता पाक

सवाल यह है कि लगातार मुंह की खाने के बाद भी पाक अपनी हरकतों से बाज क्यों नहीं आ रहा है? भारतीय सीमा में हवाई घुसपैठ करने की कोशिश करने के पीछे पाकिस्तान की मंशा क्या है? क्या भारत और पाकिस्तान एक और युद्ध के मुहाने पर खड़े हैं? क्या जम्मू-कश्मीर में आतंकियों के खिलाफ चलाए जा रहे ऑपरेशन ऑल आउट से पाक सेना और उसके हुक्मरान बौखला गए हैं?

Sanjay Sharma

भारत-पाक सीमा पर अघोषित युद्ध की स्थिति है। आतंकियों के खिलाफ भारतीय सेना की एयर स्ट्राइक के बाद से पाकिस्तान सीमा पर लगातार गोलाबारी कर रहा है। वह जम्मू-कश्मीर के नौशेरा सेक्टर के अलावा अन्य क्षेत्रों में संघर्ष विराम का उल्लंघन कर रहा है। पाकिस्तान सीमावर्ती गांवों को भी निशाना बनाने से बाज नहीं आ रहा है। सवाल यह है कि लगातार मुंह की खाने के बाद भी पाक अपनी हरकतों से बाज क्यों नहीं आ रहा है? भारतीय सीमा में हवाई घुसपैठ करने की कोशिश करने के पीछे पाकिस्तान की मंशा क्या है? क्या भारत और पाकिस्तान एक और युद्ध के मुहाने पर खड़े हैं? क्या जम्मू-कश्मीर में आतंकियों के खिलाफ चलाए जा रहे ऑपरेशन ऑल आउट से पाक सेना और उसके हुक्मरान बौखला गए हैं? क्या पाकिस्तान गोलाबारी के जरिए आतंकियों की घुसपैठ कराने की कोशिश में लगा हुआ है? क्या भारत के साथ संबंधों को लेकर उसे अपने मित्र चीन से सबक नहीं लेना चाहिए? क्या एक और युद्ध पाकिस्तान को तबाह नहीं कर देगा?
भारत व पाकिस्तान के संबंध कभी मधुर नहीं रहे हैं। इसकी बड़ी वजह पाकिस्तान के हुक्मरान, सेना व उसकी खुफिया एजेंसी आईएसआई है। जम्मू-कश्मीर में उसकी नजरें गड़ी हैं। यहां वह आशांति फैलाने की लगातार कोशिश करता है। पाकिस्तान का साथ घाटी में बैठे अलगाववादी नेता देते रहे हैं। वे स्थानीय युवकों को भडक़ा कर आतंकवादी बनाने का काम करते रहे लेकिन सरकार ने जैसे ही आतंकियों के सफाए के लिए सेना को ऑपरेशन ऑल आउट चलाने का आदेश दिया, आतंकी संगठनों की हालत खराब हो गई। सेना घाटी में मौजूद आतंकियों को चुन-चुनकर मार रही है। आतंकियों को संरक्षण देने वाले अलगाववादी नेताओं को न केवल जेल में बंद कर दिया गया है बल्कि उनके संगठनों पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। अलगाववादियों को हवाला के जरिए पैसा मिलता था, जिससे वे आतंकियों को तैयार करते थे। पुलवामा में सैनिकों पर किए गए आतंकी हमले के बाद भारत ने पाकिस्तान के बालाकोट में स्थित आतंकी अड्डे को तबाह कर दिया था। इससे पूरी दुनिया में पाकिस्तान की किरकिरी हुई। साख बचाने के लिए पाकिस्तान ने भारत के खिलाफ सीमा पर अघोषित मोर्चा खोल दिया है। वह आतंकियों की घुसपैठ कराने की कोशिश में गोलाबारी कर रहा है। इसके अलावा पाकिस्तानी सेना अपना वजूद बचाने के लिए भी भारत के साथ युद्ध का माहौल बनाए रखना चाहती है। बावजूद इसके पाकिस्तान को समझना चाहिए कि युद्ध किसी समस्या का हल नहीं है। यदि वह भारत से बेहतर संबंध चाहता है तो उसे आतंकवाद को खत्म करना होगा।

 

Loading...
Pin It