मनोज ने मुख्यधारा के पुरस्कारों में होने वाले ‘भेदभाव’ का मुद्दा उठाया

ष्ट्रीय पुरस्कार विजेता अभिनेता मनोज वाजपेयी ने बीते दिनों कहा कि वह इस तथ्य से वाकिफ हैं कि राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर बेहद प्रशंसित उनकी तमाम फिल्मों को कभी भी ‘तथाकथित बड़े मुख्यधारा के पुरस्कारों’ की नामांकन सूची में जगह नहीं मिली।
मनोज ने बीते दिनों अपनी 2018 की फिल्म ‘गली गुलियां’ का एक पोस्टर ट्वीट किया और लिखा, ‘‘आदत सी पड़ गई है यह देखने की कि मेरी सभी फिल्में जो राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर बहुत प्रशंसित हैं, उन्हें तथाकथित मुख्यधारा के पुरस्कारों की नामांकन सूची तक में जगह नहीं मिलती, पुरस्कार मिलने की तो बात ही छोडि़ए। रचनात्मक खोज और शोषण जारी है। गली गुलियां।’’
49 वर्षीय अभिनेता का ट्वीट 64वें विमल फिल्मफेयर अवाड्र्स 2019 के लिए मंगलवार को नामांकन सूची की घोषणा के बाद आया है। मनोज की फिल्म ‘गली गुलियां’ को बुसान इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल और 2017 मियामी फिल्म फेस्टिवल, इंडियन फिल्म फेस्टिवल ऑफ लॉस एंजिल्स, अटलांटा फिल्म फेस्टिवल, 42वें क्लीवलैंड इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल, शिकागो इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल और 2018 इंडियन फिल्म फेस्टिवल ऑफ मेलबर्न में दिखाया गया था।

 

Loading...
Pin It