करतारपुर कॉरीडोर को लेकर भारत-पाक के बीच बैठक शुरू

  • अटारी-बाघा बार्डर पर दोनों देशों के प्रतिनिधियों के बीच हो रही वार्ता

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
नई दिल्ली। करतारपुर कॉरिडोर को लेकर आवश्यक विचार-विमर्श करने व महत्वपूर्ण फैसले लेने के लिए अटारी-वाघा बॉर्डर पर आज भारत और पाकिस्तान के बीच एक मीटिंग हो रही है। इसके लिए पाकिस्तानी अधिकारी सवेरे अटारी-वाघा बॉर्डर पहुंचे। अंतरराष्ट्रीय अटारी सीमा पर स्थित इंटिग्रेटेड चेक पोस्ट (आईसीपी) पर यह बैठक हो रही है। इसकी ब्रीफिंग दोपहर बाद होने की उम्मीद है।
भारत-पाक के बीच हो रही बैठक के संबंध में सूत्रों से मिली जानकारी के तहत बिना पासपोर्ट करतारपुर साहिब के दर्शन के लिए अनुमति दिए जाने के मुद्दे पर चर्चा होगी। वहीं भारत द्वारा पीओके में एयर स्ट्राइक किए जाने के बाद दोनों देशों में पैदा हुए तनाव के बीच यह बैठक काफी अहम मानी जा रही है। हालांकि यह मीटिंग केवल करतारपुर कॉरिडोर तक ही सीमित रहेगी। इस बैठक में भारतीय शिष्टमंडल की अगुवाई विदेश मंत्रालय के पाकिस्तान, अफगानिस्तान व ईरान डेस्क के संयुक्त सचिव दीपक मित्तल और गृह मंत्रालय के संयुक्त सचिव अनिल मलिक कर रहे हैं। वहीं पाकिस्तान शिष्टमंडल का नेतृत्व डायरेक्टर जनरल साउथ एशिया मोहम्मद फैसल कर रहे हैं। केंद्र सरकार ने इस बैठक की कवरेज के लिए किसी भी पाकिस्तानी पत्रकार को वीजा जारी नहीं किया है।

पाकिस्तान ने दिया है यह प्रस्ताव

पाकिस्तान की सरकार ने पिछले महीने भारत सरकार के समक्ष एक प्रस्ताव रखा था। इसमें उन्होंने कहा था कि करतारपुर साहिब के दर्शनार्थ आने वाले श्रद्धालु 15 यात्रियों के जत्थे में आएं और उनके पास पासपोर्ट होना चाहिए। उनके पास भारतीय सुरक्षा एजेंसियों द्वारा जारी क्लीयरेंस सर्टिफिकेट होना अनिवार्य है। आने वाले प्रत्येक श्रद्धालु का एक डेटाबेस तैयार किया जाए। भारतीय सुरक्षा एजेंसियां हर श्रद्धालु के बारे में जानकारी उसके आने के तीन दिन पहले पाकिस्तान को उपलब्ध करवाए।

पाक में आतंकी संगठनों पर रोक नहीं: बिलावल

  • कहा, खुलेआम काम कर रहे आतंकी

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
इस्लामाबाद। पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी (पीपीपी) के चेयरमैन और पाकिस्तान नेशनल असेंबली के सदस्य बिलावल भुट्टो जरदारी ने कहा है कि पाकिस्तान में आतंकी संगठन खुलेआम काम कर रहे हैं। बिलावल पाकिस्तान की पूर्व प्रधानमंत्री दिवंगत बेनजीर भुट्टे और आसिफ अली जरदारी के बेटे हैं। उन्होंने सिंध विधानसभा में पत्रकारों के समक्ष पाकिस्तान की सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कि दूसरे देशों पर हमला करने वाले आतंकी पाकिस्तान में खुलेआम क्यों घूम रहे हैं।
विलावल के मुताबिक पाकिस्तान में काम कर रहे आतंकी संगठनों के खिलाफ कार्रवाई नहीं करने के कारण उनके माता-पिता को सजा भुगतनी पड़ी। ये आतंकी संगठन पाकिस्तान में बच्चों को मार रहे हैं और विदेशी धरती पर हमले कर रहे हैं। इसकी सजा आज पूरा पाकिस्तान भुगत रहा है। बता दें भुट्टे के पिता आसिफ अली जरदारी पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति थे। हाल ही में पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने कहा था कि विदेशों में हमले करने के लिए पाकिस्तान की धरती पर किसी भी आतंकी संगठन को काम नहीं करने दिया जाएगा। उनकी सरकार ने इस्लामिक आतंकवादी संगठनों के खिलाफ कार्रवाई की घोषणा की थी। बिलावल ने दावा किया है कि यह दुनिया की आंखों में धूल झोंकने वाला कदम है।

बर्खास्त होने के बाद भी क्राइम ब्रांच में तैनात है सिपाही

  • सोशल मीडिया पर लगातार अपडेट कर रहा जानकारी
  • फेसबुक आईडी पर क्राइम ब्रांच लिख कर गांठ रहा रौब
  • लखनऊ पुलिस उसको तलाशने का कर रही दावा

 4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। श्रवण साहू की हत्या मामले में जिसे पुलिस तलाशने का दावा कर रही है, वह अपना फेसबुक अकाउंट लगातार अपडेट कर रहा है। वहीं उसने फेसबुक पर लिखा है कि वह क्राइम ब्रांच में तैनात है। जबकि पुलिस विभाग ने सिपाही को बर्खास्त करने के साथ ही उसकी गिरफ्तारी पर इनाम भी रखा है। वहीं दूसरी तरफ लखनऊ पुलिस उसे गिरफ्तार करने का दावा कर रही है। स्वाभाविक है कि यदि पुलिस चाह दे तो सिपाही की लोकेशन मिल जायेगी और वह गिरफ्तार भी हो सकता है।
बता दें कि श्रवण साहू की हत्या के मामले में आरोपी दारोगा धीरेंद्र शुक्ला, सिपाही अनिल सिंह और सिपाही धीरेंद्र यादव ने मिलकर बुगुनाहों को जेल भेजा था। इस मामले का पर्दाफाश होने पर तीनों को बर्खास्त कर दिया गया था। ये तीनों लंबे समय से फरार चल रहे थे। इसके बाद इनके ऊपर इनाम घोषित किया गया था।
इस मामले में दो दिन पूर्व दारोगा धीरेंद्र शुक्ला को अलीगंज थाना परिसर में बने हुए पुलिस आवास से गिरफ्तार किया गया था। जबकि सिपाही अनिल सिंह ऑटोमोबाइल का धंधा चला रहा है। वहीं दूसरी तरफ धीरेंद्र यादव भी अपना फेसबुक अकाउंट लगातार अपडेट कर रहा है। इन तीनों की हर एक गतिविधि के बारे में पुलिस को जानकारी भी है। इस बात से सहज ही अंदाजा लगाया जा सकता है कि लखनऊ पुलिस तीनों को पकडऩे को लेकर कितनी सक्रिय है।

इमरान इतने ही अच्छे हैं तो मसूद को हमें सौंप दें: सुषमा

  • कहा, बातचीत और आतंकवाद साथ नहीं चल सकते

 4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
नई दिल्ली। भारत की विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने अजहर मसूद के मुद्दे को लेकर पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान पर जमकर हमला बोला है। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान के साथ बातें तो बहुत बार हो चुकी है और बातें बहुत बार उठ भी चुकी हैं। हमने साफ कह रखा है कि बातचीत और आतंक साथ नहीं चल सकते हैं। यदि इमरान खान सचमुच शांति चाहते हैं, तो अजहर मसूद को हमें सौंप दें।
विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने कहा कि पाकिस्तान से सामान्य रिश्ते हो सकते हैं लेकिन शर्त ये है कि अपने आतंकियों के खिलाफ ठोस कार्रवाई करे। अपनी धरती से पाकिस्तान के खिलाफ आतंकी को शह देना बंद करो। इस पर ही सामान्य रिश्तों की शुरुआत हो सकती हैं। उन्होंने पाक से कहा कि क्यों अंतरराष्ट्रीय समुदाय को बहका रहे हो। हमने कहा कि जैश ने हमले की जिम्मेदारी ली है लेकिन दस दिनों के बाद भी कोई कार्रवाई नहीं हुई।
इसलिए एयर स्ट्राइक की गई लेकिन हमने ये सुनिश्चित किया कि कोई भी आम नागरिक मरना नहीं चाहिए। इतना ही नहीं पाकिस्तान के पीएम इमरान खान को नसीहत देते हुए कहा कि कुछ लोग कहते हैं कि इमरान खान एक राजनेता हैं, अगर वह इतने उदार हैं तो उन्हें जैश प्रमुख मसूद अजहर को भारत को सौंप देना चाहिए। आइए देखते हैं कि वे कितने उदार हैं।

बीजेपी के पूर्व एमएलए छबील पटेल गिरफ्तार

  • जयंती भानुशाली की हत्या का मामला

 4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
नई दिल्ली। गुजरात बीजेपी के नेता जंयती भानुशाली की हत्या के मुख्य आरोपी भाजपा के पूर्व विधायक छबील पटेल को एसआईटी ने अहमदाबाद एयरपोर्ट से गिरफ्तार कर लिया। छबील पटेल के खिलाफ पहले ही पुलिस ने वारंट जारी कर रखा था। इसके बावजूद वह भानुशाली की हत्या से दो दिन पहले ही मिडिल ईस्ट होते हुए अमेरिका चला गया था।
बता दें, जनवरी में गुजरात बीजेपी के पूर्व उपाध्यक्ष और पूर्व विधायक जयंती भानुशाली की देर रात चलती ट्रेन में गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। अबडासा से विधायक रहे भानुशाली, सयाजी नगरी ट्रेन से भुज से अहमदाबाद जा रहे थे। मालिया के पास बदमाशों ने एसी कोच में घुसकर भानुशाली पर फायरिंग की थी। जिसमें उनकी मौत हो गई थी। इससे पहले जयंती भानुशाली पर पिछले साल एक महिला ने बलात्कार का आरोप लगाया गया था। इसके बाद उन्होंने गुजरात भाजपा के उपाध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया था। मामला सुर्खियों में आने के बाद गुजरात सरकार ने इस मामले की जांच एसआईटी को सौंप दी थी। इस केस में जांच को आगे बढाते हुए एसआईटी ने दो सुपारी किलर गिरफ्तार किए थे। जांच में छबील का नाम भी सामने आया। इल्जाम है कि छबील पटेल ने राजनीतिक दुश्मनी के चलते ही 50 लाख रुपये की सुपारी देकर जयंती भानुशाली की हत्या कराई थी। छबील पटेल पर लगे बलात्कार के आरोपों की जांच दिल्ली पुलिस कर रही है।

 

Loading...
Pin It