धोखा देकर करोड़ों ठगे, रुपये मांगने पर लोगों को पीटा, गिरफ्तार

  • विभूतिखंड पुलिस ने हैलो राइड कम्पनी के डायरेक्टर को किया गिरफ्तार

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। विभूतिखंड पुलिस ने हैलो राइड कम्पनी के डायरेक्टर अभय कुशवाहा को धोखाड़ी और मारपीट के आरोप मेंं कल देर रात गिरफ्तार कर लिया, जबकि उसके अन्य साथी फरार हैं। उसने करोड़ों रुपये की धोखाधड़ी की है। पुलिस इस मामले में फरार अन्य लोगों की गिरफ्तारी के लिए दबिश दे रही है।
सीओ अवनीश्वर चंद्र ने बताया कि अभय कुशवाहा मूलरूप से कौशांबी का रहने वाला है और यहां गोमतीनगर में किराये के मकान में रहता है। उसकी कंपनी हेलो रोड का ऑफिस विभूतिखंड के साइबर हाइट्स टॉवर में है। उसने कंपनी में बाइक किराये पर लगाने का झांसा देकर प्रदेश के विभिन्न जनपदों के सैकड़ों लोगों से करोड़ों रुपये एकत्र करके हजम कर लिए। जब निवेशकों को बाइक के किराये के रूप में दी जाने वाली रकम नहीं मिली तो उन्होंने कंपनी के ऑफिस के चक्कर लगाने शुरू किए। अभय और उसके कर्मचारियों ने पहले तो लोगों को टालना शुरू किया। इसके बाद वह गुंडागर्दी और मारपीट करके निवेशकों को भगाने लगा। पांच मार्च की शाम बाराबंकी के रामनगर सुठियामऊ निवासी अरुण कुमार वर्मा, अजीमुद्दीन और दिलीप कुमार नाग अपना रुपया वापस मांगने कंपनी के ऑफिस पहुंचे तो उनकी लाठियों से जमकर पिटाई की गई। तीनों ने कंपनी के मालिक अभय कुशवाहा समेत निदेशक नीलम वर्मा, राजेश पांडेय व अन्य अधिकारियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई थी।
कल शाम अभय कुशवाहा को पुलिस ने गोमतीनगर स्थित उसके घर से दबोच लिया। अभय ने निवेश की योजना में 61000 रुपये एकमुश्त जमा करने पर हर महीने 9585 रुपये कमाने का लालच दिया था। उसका कहना था कि बाइक का चालक, ईंधन और मेंटेनेंस का सारा खर्च कंपनी वहन करेगी। अरुण कुमार वर्मा ने अभय के झांसे में आकर चार बाइक की रकम के रूप में 2,44,000 रुपये और दिलीप कुमार नाग ने तीन बाइक के लिए 1,83,000 रुपये कंपनी को दिए थे। इसके अलावा बाराबंकी के करीब 50 लोगों ने भी कंपनी में 25 लाख रुपये के आसपास निवेश किए थे।

Loading...
Pin It