आईएएस अफसरों के बहाने नेताओं को घेरने की तैयारी, चंद्रकला के बाद आज नेतराम के घर छापा

  • दुलारे अफसरों के जरिए माया व अखिलेश को घेरने की चर्चा गर्म
  • मायावती के प्रमुख सचिव रहे नेतराम के ठिकानों पर छापेमारी से राजनेताओं और नौकरशाहों में मचा हडक़ंप
  • नेतराम के कोलकाता स्थित ठिकाने से सौ करोड़ से अधिक की संपत्ति के कागज मिले

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। लोकसभा चुनाव की घोषणा के 48 घंटे के भीतर मायावती के प्रमुख सचिव रहे चर्चित आईएएस नेतराम के घर पड़े आयकर विभाग के छापों ने राजनेताओं और नौकरशाहों के बीच हडक़ंप मचा दिया है। राजनैतिक गलियारों में यह चर्चा आम हो गयी है कि इन दुलारे अफसरों के जरिये माया और अखिलेश को घेरने की रणनीति पर काम किया जा रहा है। नेतराम के घर मिली करोड़ों की संपत्ति को लेकर भाजपा माया पर निशाना साधेगी इसमें किसी को कोई शक नहीं है।
चुनाव घोषणा के तुरंत बाद आये सर्वे मे यूपी में भाजपा को भारी नुकसान दिखाया गया था। भाजपा के नेता भी मान रहे थे कि सपा और बसपा का गठबंधन बहुत नुकसान पहुंचायेगा। इस गठबंधन से निपटने का एक ही तरीका है वह यह कि या तो राष्ट्रवाद के नाम पर जातियों की गोलबंदी खत्म कर दी जाये अन्यथा जनता में संदेश दिया जाये कि यह दोनों नेता दौलत कमाने में बहुत आगे हैं।
सूत्रों का कहना है कि एक दर्जन से अधिक आईएएस अफसरों की सूची बनायी गयी जो सपा और बसपा के बहुत करीबी हैं। इनके फोन रिकार्ड से लेकर जमीन जायदाद तक की रेकी की गयी। इसके बाद ही तय हुआ कि चुनाव से कुछ समय पहले ही इनके यहां छापेमारी की जाये।
इसी क्रम में पहले चंद्रकला की घेराबंदी की गयी थी। वह सपा सरकार में लंबे समय तक हमीरपुर में डीएम रही थीं। बताया जाता है कि ईडी के छापों में उनके यहां भी करोड़ों की संपत्ति मिली थी। इसी क्रम में आज नेतराम के एक दर्जन से अधिक ठिकानों पर आयकर विभाग की कई टीमों ने एक साथ छापेमारी की। सूत्रों का कहना है कि कोलकाता में नेतराम के घर से सौ करोड़ से अधिक मूल्य की संपत्ति के कागज मिले हंै। नेतराम मायावती के बेहद करीबी अफसरों में शुमार किये जाते थे। वे माया शासनकाल में उनके प्रमुख सचिव थे। जाहिर है उस समय सैकड़ों करोड़ के निर्माण कार्यों के टेंडर से लेकर शराब नीति तक का फैसला नेतराम लिया करते थे। अब रणनीति नेतराम के जरिये माया को घेरने की है।

गाढ़ा भंडार पर छापेमारी

आयकर विभाग की टीम ने आज लखनऊ के प्रसिद्ध गाढ़ा भंडार पर छापेमारी की है। सुबह छह बजे से यह कार्रवाई चल रही है। विष्णु बल्लभ रस्तोगी गाढ़ा भंडार के मालिक हैं। स्टेशन रोड स्थित उनके घर में आयकर विभाग की टीम ने आने जाने वालों पर रोक लगा दी है। इससे हडक़ंप मच गया है।

नेतराम व उनकी बेटी के अकाउंट सीज 

नेतराम पर 100 करोड़ से ज्यादा फंड के हेराफेरी का आरोप है। लखनऊ के विपुलखण्ड के एसबीआई शाखा में बेटी पूनम और नेतराम के दो अकाउंट सीज किए गए हैं। स्टेशन रोड के पास बने घर में छापेमारी चल रही है। टीम कोलकाता की एक कंपनी को पहुंचाए गए फायदे की जांच कर रही है। नेतराम बसपा से लोक सभा का चुनाव लडऩे की तैयारी भी कर रहे थे। टैक्स चोरी के मामले में फंसे नेतराम पर तफ्तीश के बाद और शिकंजा कसा जा सकता है। इनकम टैक्स की तफ्तीश के बाद कई अन्य केंद्रीय जांच एजेंसी भी कार्रवाई कर सकती हैं।

राहुल के आतंकी अजहर को जी कहने पर कांग्रेस-भाजपा भिड़ी

  • कांग्रेस ने रविशंकर का हाफिज जी वाला वीडियो किया पोस्ट

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी द्वारा आतंकी मसूद अजहर के नाम के पीछे जी शब्द के इस्तेमाल को लेकर सियासी बयानबाजी तेज हो गई है। भाजपा व कांग्रेस नेता आमने-सामने आ गए हैं।
राहुल गांधी का ये वीडियो खुद मोदी सरकार की मंत्री स्मृति ईरानी ने पोस्ट किया था जो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया। स्मृति ईरानी ने राहुल गांधी की तुलना पाकिस्तान से कर डाली थी। स्मृति ईरानी ने राहुल का वीडियो ट्वीट करते हुए लिखा, राहुल गांधी और पाकिस्तान के बीच क्या समानता है? उनका आतंकियों के लिए प्यार। कृपया आतंकवादी मसूद अजहर के लिए राहुल जी की श्रद्धा पर ध्यान दें। इस पर कांग्रेस प्रवक्ता प्रियंका चतुर्वेदी ने आज केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद का एक वीडियो ट्वीट किया है जिसमें वह आतंकी संगठन हिजबुल मुजाहिदीन के सरगना हाफिज़ सईद को कथित रूप से ‘हाफिज जी’ कह कर संबोधित कर रहे हैं। प्रियंका चतुर्वेदी ने अपने ट्वीट में लिखा, उम्मीद है इस वीडियो को बीजेपी की नई वेबसाइट में अच्छी जगह मिलेगी।

सरकारी वेबसाइटों से हटाई जाएंगी सीएम, डिप्टी सीएम व मंत्रियों की तस्वीरें

  • चुनावों की घोषणा के बाद राज्य के मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने दिए निर्देश
  • आज से शुरू की जाएगी प्रक्रिया, आदर्श आचार संहिता के पालन पर जोर

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। लोक सभा चुनाव की तारीखों का ऐलान होने के बाद से चुनाव आयोग ने देश भर में आदर्श आचार संहिता के पालन पर फोकस तेज कर दिया है। इसी क्रम में राज्यों में निर्देशों का पालन कराया जा रहा है। ताजा आदेश के बाद अब सरकारी वेबसाइटों पर सीएम समेत मंत्रियों की तस्वीरें हटाई जाएंगी। इस प्रक्रिया को आज से शुरू किया जा रहा है।
राज्य के मुख्य निर्वाचन अधिकारी एल वेंकटेश्वर लू ने बताया कि सरकारी वेबसाइटों से मुख्यमंत्री, उपमुख्यमंत्री और मंत्री की तस्वीरें हटाने के निर्देश संबंधित विभागों को दिए गए हैं।

 

 

Loading...
Pin It