गठबंधन: सपा+बसपा =38+38

भाजपा के लिए दिल्ली दरबार का रास्ता यूपी में उलझ गया है। सपा-बसपा के गठबंधन ने यूपी की राजनीति में नया तूफान मचा दिया है। भाजपा जिस गेस्ट हाउस कांड की याद दिलाकर माया को भड़काना चाहती थी आज मायावती ने खुद कह दिया कि देश के हालात को देखते हुए गेस्ट हाउस कांड जैसी चीजें वह पीछे छोड़ चुकी हैं। माया ने सीबीआई छापों में अखिलेश का नाम लाने पर भाजपा पर तीखा हमला बोला तो पलटकर अखिलेश ने भी कहा कि मायावती जी का सम्मान मेरा सम्मान है।

गठबंधन से उड़ी मोदी- शाह की नींद: मायावती

  • भाजपा और कांग्रेस  दोनों ने रक्षा सौदों में किया घोटाला

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। बसपा सुप्रीमो मायावती आज बिलकुल बदले हुए अंदाज में नजर आईं। उन्होंने कहा कि देश के जो हालात हैं उसको देखते हुए यह गठबंधन बहुत जरूरी था। हमने कांग्रेस के साथ गठबंधन किए बिना अमेठी और रायबरेली की सीट कांग्रेस के लिए छोड़ दी है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस और भाजपा एक जैसी पार्टी हैं। कांग्रेस के समय घोषित इमरजेंसी थी और अब अघोषित इमरजेंसी है। बसपा सुप्रीमो ने कहा कि बोफोर्स में कांग्रेस की सरकार गई और अब राफेल में बीजेपी की सरकार जायेगी। भविष्य की राजनीति का खुलासा करते हुए उन्होंने कहा कि बसपा भविष्य में कांग्रेस की तरह आगे किसी भी ऐसे गठबंधन के साथ चुनाव नहीं लड़ेगी, जिससे उसको नुकसान उठाना पड़े। उन्होंने कहा कि हम देश हित में गेस्ट हाउस कांड जैसी चीजों से आगे बढ़ चुके हैं। उन्होंने कहा कि आज हमारी यह प्रेस कॉन्फ्रेंस पीएम नरेन्द्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह दोनों गुरू और चेले की नींद उड़ाने के लिए हो रही है। उन्होंने कहा कि जिस तरह सपा और बसपा ने मिलकर बीजेपी के अधिकांश उम्मीदवारों को हराया है वैसे ही यह गठबंधन लोकसभा चुनावों में भी भाजपा को कामयाब नहीं होने देगा। माया ने कहा कि जिस दिन उनकी सपा अध्यक्ष के साथ मीटिंग हुई उसके अगले दिन ही सीबीआई छापों में बेवजह सपा अध्यक्ष का नाम घसीटा गया। उन्होंने कहा कि अब भाजपा शिवपाल को जो करोड़ों रुपए दे रही है वह भी काम नहीं आने वाला।

सपा-बसपा मिलकर करेंगे भाजपा का सफाया: अखिलेश

  • देश में है अराजकता का माहौल, बेरोजगार कर रहे आत्महत्या

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव आज बसपा सुप्रीमो मायावती के सम्मान के लिए खासे सजग थे। उन्होंनें कहा कि समाजवादी पार्टी के सभी कार्यकर्ता समझ लें कि मायावती जी का सम्मान उनका सम्मान है। अखिलेश यादव ने दावा किया कि अगला प्रधानमंत्री उत्तर प्रदेश से ही होगा। उन्होंने कहा कि मैं मायावती जी द्वारा देश हित में लिए गए इस ऐतिहासिक फैसले का स्वागत करता हूं और यकीन दिलाता हूं कि अब केन्द्र में सत्ता परिवर्तन तय है। उन्होंने कहा कि भाजपा के नेता सुन लें कि उनके अत्याचारों से जनता को मुक्ति दिलाने के लिए सपा और बसपा ने एक होने का फैसला किया है। सपा मुखिया ने कहा कि जब से भाजपा सत्ता में आई है तब से गरीबों और पिछड़ों पर अत्याचार बढ़ गए हैं। थाने और अस्पताल जैसी जगहों पर जाति पूछ कर काम किया जाता है। उन्होंने कहा कि जिस दिन भाजपा के अहंकारी नेताओं ने मायावती जी के प्रति अशोभनीय टिप्पणी की और भाजपा ने कोई भी कार्रवाई करने की जगह उनको मंत्री बनाकर सम्मान दिया, राज्य सभा में भीमराव अंबेडकर को छल से हराया गया उसी दिन मेरे मन में इस गठबंधन का ख्याल आ गया। मायावती जी को धन्यवाद कि उन्होंने हमें बराबरी का सम्मान दिया। गठबंधन के तहत अमेठी और रायबरेली कांग्रेस के लिए छोड़ी गई है। वहीं अपना दल और ओमप्रकाश राजभर के लिए भी एक सीट छोड़े जाने की संभावना है।

 

Loading...
Pin It