पुलिस चौकी के करीब कारोबारी को गोली मारकर फरार हो गए बदमाश

  • चौबीस घंटे बाद भी नहीं मिला हत्यारोपियों का सुराग, आलमबाग में देर रात हुई वारदात

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क

लखनऊ। राजधानी में बदमाशों का दुस्साहस ऐसा है कि वह जब चाहे जहां चाहे गोली मारकर फरार हो जा रहे हैं और पुलिस कुछ नहीं कर पा रही है। आलमबाग में चंदरनगर पुलिस चौकी के पास देर रात भरे बाजार में बदमाशों ने कपड़ा कारोबारी अमनप्रीत सिंह (30) को गोली मार दी और फरार हो गए। व्यापारी को ट्रॉमा सेंटर लाया गया जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। एसएसपी कलानिधि नैथानी ने बताया कि 20 लाख रुपये के लेन-देन के विवाद में उसे गोली मारी गई है। जल्द ही बदमाशों को पुलिस गिरफ्तार करेगी। इसके लिए पुलिस दबिश दे रही है।
चंदरनगर निवासी सरदार परमप्रीत के इकलौते बेटे अमनप्रीत की घर से थोड़ी दूरी पर कपड़े की दुकान है। परमप्रीत के मुताबिक बुधवार रात करीब साढ़े नौ बजे वह दुकान से घर के लिए निकले। कुछ देर बाद उन्हें सूचना मिली कि बेटे अमनप्रीत को गोली मार दी गई। उन्होंने बताया कि दो वर्ष पूर्व मोहल्ले के जुगनू ने पैसे के लेन-देन के चलते अमनप्रीत के पैर में गोली मार दी थी। उसे जेल हो गई थी। इस समय जेल से बाहर था, जुगनू ने ही साथी पाली, राजू व सोनू के साथ मिलकर घटना को अंजाम दिया है। घटना के समय अमनप्रीत बुलेट से घर जा रहा था। कपड़ा कारोबारी अमनप्रीत पूर्व में कई बार शराब तस्करी के मामले में जेल जा चुका है। उसके पास से नकली नोट भी बरामद हुई थीं। पुलिस के मुताबिक, अमनप्रीत हरियाणा से शराब की तस्करी कर यहां लाता था और छोटे दुकानदारों में बिक्री करता था। दो साल पहले वह आलमबाग से जेल गया था। करीब पांच साल पहले नकली मोबिल आयल के साथ पकड़े जाने में भी जेल भेजा गया था। एसएसपी कलानिधि नैथानी ने बताया कि रंजिश, शराब तस्करी और रुपयों के विवाद समेत कई बिंदुओं पर मामले की पड़ताल की जा रही है। आरोपितों ने घटना से पहले अमनप्रीत को फोन किया था। अमनप्रीत के मोबाइल फोन में रिकॉर्डिंग भी सुरक्षित है। देर रात एक हमलावर को पुलिस ने हिरासत में ले लिया है। एसएसपी के साथ आइजी रेंज एसके भगत ट्रॉमा सेंटर पहुंचे और पीडि़त परिवार को सख्त कार्रवाई का आश्वासन दिया।

Loading...
Pin It