अब गरीब सवर्णों के आरक्षण बिल पर राज्यसभा में घमासान

  • कांग्रेस समेत विपक्ष ने किया हंगामा, नारेबाजी, बिल पास करना बड़ी चुनौती
  • बिल की टाइमिंग को लेकर सरकार पर दागे सवाल

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
नई दिल्ली। गरीब सवर्णों को दस फीसदी आरक्षण देने का बिल लोकसभा में पास होने के बाद आज राज्यसभा में पेश किया गया। केंद्रीय मंत्री थावरचंद गहलोत ने इसे पेश किया। बिल के पेश होते ही राज्यसभा में हंगामा शुरू हो गया। विपक्षी सांसद अपनी सीट से उठकर उपसभापति के सामने आकर नारेबाजी करने लगे। हंगामे के बाद कार्यवाही को कुछ देर के लिए स्थगित कर दिया गया।
केंद्रीय मंत्री थावरचंद गहलोत ने संविधान संशोधन विधेयक को राज्यसभा में पेश करते हुए कहा कि इसके अंतर्गत लोगों को आर्थिक आधार पर शिक्षा और रोजगार में आरक्षण मिलेगा। इसमें आरक्षण का प्रावधान कुल स्थानों का 10 प्रतिशत होगा। सरकार इस बिल को अच्छे मकसद से लेकर आई है। यह बिल लोगों को आर्थिक आधार पर आरक्षण देगा। उन्होंने कहा कि इस बिल से एससी/एसटी या पिछड़े वर्ग के लोगों को कोई नुकसान नहीं होगा। मैं इस बिल को पास करने का अनुरोध करता हूं। इसके साथ ही राज्यसभा में हंगामा शुरू हो गया। विपक्षी सांसदों ने पोस्टर लेकर उपसभापति की सीट के सामने नारेबाजी की। कांग्रेस सांसद मधूसूदन मिस्त्री ने जनरल कोटा बिल पर सवाल उठाया। उन्होंने कहा कि बिल अधूरा है। बिल पर इतनी जल्दबाजी क्यों है, सरकार यह बताए। कांग्रेस सांसद आनंद शर्मा ने कहा कि कांग्रेस इस बिल का विरोध नहीं कर रही है। अगर कोई सदस्य सभापति से कोई सवाल उठाता है तो उसे इसका अधिकार है। भाजपा लोगों को गुमराह करने की कोशिश कर रही है। इस बिल के द्वारा भाजपा का सीधा प्रयास राजनीति करना है। भाजपा सांसद विजय गोयल ने कहा कि कांग्रेस और विपक्षी सांसद जानबूझकर इस बिल को रोकने के लिए हंगामा कर रहे हैं। बिल पेश हो चुका है इसलिए सदन में इस पर चर्चा होनी चाहिए। आरजेडी सांसद मनोज झा ने सरकार पर निशाना साधते हुए इसे मध्यरात्रि की डकैती तक कह दिया। मनोज झा ने कहा कि इस बिल से ओबीसी वर्ग के लोगों के आरक्षण को खाने की कोशिश हो रही है। अगर इस विधेयक को राज्यसभा की मंजूरी मिल गई, तो राष्ट्रपति के हस्ताक्षर के साथ ही गरीब सवर्णों के लिए 10 प्रतिशत आरक्षण तत्काल प्रभाव से लागू हो जाएगा। इसके लिए आधे से ज्यादा राज्यों की विधानसभा से मंजूरी की जरूरत नहीं पड़ेगी।

सबका साथ, सबका विकास का प्रतीक है गरीब सवर्णों के आरक्षण पर मुहर: मोदी

प्रधानमंत्री मोदी ने महाराष्ट्र के सोलापुर में आयोजित एक जनसभा में विपक्ष पर निशाना साधते हुए कहा कि आरक्षण के नाम पर जनता को गुमराह किया जा रहा है। कल देर रात लोक सभा में एक ऐतिहासिक बिल पास हुआ है। भाजपा सरकार ने सामान्य वर्ग के गरीब लोगों को 10 प्रतिशत आरक्षण पर मुहर लगाकर, सबका साथ, सबका विकास के मंत्र को और मजबूत करने का काम किया गया है। हमारी सरकार गरीबों की ही नहीं बल्कि मध्यम वर्ग की भी चिंता कर रही है। हम जिसका शिलान्यास करते हैं उसका उद्घाटन भी करते हैं। हम केवल चुनाव जीतने के लिए शिलान्यास नहीं करते हैं।

इतने सदस्यों का वोटिंग में हिस्सा लेना जरूरी
राज्यसभा में कुल 246 सदस्य हैं। बिल पास करने के लिए कम से कम दो-तिहाई वोट की जरूरत है। साथ में यह भी जरूरी है कि वोटिंग में कम से कम आधे सदस्य मौजूद रहे यानी कम से कम 123 सदस्यों का वोटिंग में हिस्सा लेना जरूरी है। अगर सभी सदस्य वोटिंग में हिस्सा लेते हैं तो बिल पास होने के लिए 164 वोटों की जरूरत पड़ेगी।

सिटिजनशिप बिल का भी विरोध
राज्यसभा में सिटिजनशिप अमेंडमेंट बिल को लेकर भी हंगामा हो रहा है जिस पर सभापति ने सदस्यों को आश्वासन दिया कि इस पर गृह मंत्री सदन में आकर बयान दे सकते हैं।

उम्मीद है ताजनगरी से प्रेम का पाठ पढ़कर जाएंगे पीएम मोदी: अखिलेश

  • सपा प्रमुख ने प्रधानमंत्री पर कसा तंज दिल्ली से इतना दूर कभी नहीं रहा यूपी
  • करोड़ों की विकास परियोजनाओं का लोकार्पण व शिलान्यास करेंगे प्रधानमंत्री

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क

लखनऊ। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज आगरा में आयोजित मेगा रैली में शिरकत करने पहुंच रहे हैं। इसके कुछ घंटे पहले सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने पीएम पर तंज कसा है। अखिलेश ने लिखा है कि उम्मीद है कि प्रेम के प्रतीक ताजमहल की नगरी से पीएम मोदी प्रेम-मोहब्बत का पाठ पढ़कर जाएंगे। इतना ही नहीं, वह उत्तर प्रदेश के किसानों का दर्द भी समझेंगे।
सपा के राष्टï्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने लिखा, उम्मीद है देश के प्रधान ताजमहल से प्रेम-मोहब्बत का पाठ पढ़कर जाएंगे और अपने आनंद-विहार के बाद यहां के आसपास के आलू, गन्ने और धान के किसानों के दुख-दर्द भी उनको याद आएंगे। दिल्ली से यूपी इतना दूर पहले कभी न था कि उसके बदहाल किसानों और व्यापारियों की देश के सिरमौर को खबर न हो। गौरतलब है कि मेगा रैली में शिरकत करने के लिए पीएम मोदी आज कर्नाटक के बीदर से आगरा पहुंचेंगे। यहां वह 3907 करोड़ रुपये की विकास परियोजनाओं का लोकार्पण और शिलान्यास करेंगे। पीएम की रैली को मिशन 2019 के लोक सभा चुनाव का आगाज माना जा रहा है।

यूपी में कांग्रेस को कमजोर न समझें अकेले लड़ सकती है चुनाव: राहुल

  • पीएम मोदी को हराना पहला लक्ष्य, कई राज्यों में हो सकता है गठबंधन
  • प्रधानमंत्री के अंदर मेरे परिवार को लेकर भरा है गुस्सा

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने संकेत दिया कि यूपी में अगर गठबंधन नहीं होता है तो उनकी पार्टी अकेले चुनाव लड़ सकती है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस यूपी में काफी मजबूत है और इस राज्य में पार्टी को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता। कांग्रेस यूपी में अच्छा कर सकती है। कांग्रेस का विचार यूपी में काफी मजबूत है इसलिए हमें यहा अपनी क्षमता पर पूरा भरोसा है और हम चकित कर देंगे।
खाड़ी देशों के एक अखबार को दिए इंटरव्यू में राहुल गांधी ने कहा कि हमारा पहला लक्ष्य नरेंद्र मोदी को हराना है। ऐसे कई राज्य हैं, जहां हम काफी मजबूत हैं, जहां हम मुख्य पार्टी हैं और भाजपा से हमारा सीधा मुकाबला है। कई ऐसे राज्य हैं, जहां गठबंधन हो सकता है- जैसे महाराष्ट्र, झारखंड, तमिलनाडु, बिहार। इन राज्यों में हम गठबंधन के फॉर्मूले पर काम कर रहे हैं। गौरतलब है कि यूपी में सपा-बसपा के गठबंधन की चर्चा है जिसमें कांग्रेस के लिए महज दो सीटें छोडऩे की बात की जा रही है। उन्होंने कहा कि मोदी मुझसे बात नहीं करते। नरेंद्र मोदी काफी गुस्से में रहते हैं और मेरे बारे में वह जो कुछ बोलते हैं। वे मेरे परिवार को लेकर गुस्से में रहते हैं। हालांकि पीएम मोदी ने मैंने कई सबक भी सीखे हैं।

Loading...
Pin It