डीजीपी साहब अगर बुलंदशहर हिंसा में थी साजिश तो क्या सो रहा था आपका इंटेलिजेंस विभाग

  • खराब कानून व्यवस्था का ठीकरा सिर पर न फूटे इसलिए साजिश का राग अलाप रहे हैं अफसर
  • किसी के पास नहीं है जवाब कि अगर रची जा रही थी साजिश तो क्या कर रहा था खुफिया विभाग
  • डीजीपी के बयान को आधार माना जाए तो फेल हुआ इंटेलिजेंस विभाग और इसी विभाग के एडीजी को जांच के लिए भेजा गया मौके पर
  • विपक्ष ने साधा निशाना कहा फेल हो गई है सरकार

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के डीजीपी ओपी सिंह ने बुलंदशहर मामले को बहुत सफाई से मोड़ते हुए इसे कानून व्यवस्था से न जोड़ते हुए कहा कि यह एक साजिश थी। जिस बुलंदशहर कांड में इंस्पेक्टर की हत्या के बाद पूरे देश में यूपी पुलिस की किरकिरी हो रही है उसे इस तरह हैंडल करने से और सवाल खड़े हो रहे हैं कि क्या इंस्पेक्टर सुबोध की हत्या की निष्पक्ष जांच हो पायेगी। वहीं इस घटना को राजनीतिक रंग देने की कोशिशें तेज हो गई हैं। भाजपा के राष्टï्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने कहा कि इस घटना को राजनीतिक रंग न दिया जाए। वहीं विपक्ष ने इसे सरकार की विफलता बताया है।
जिस समय यूपी पुलिस पर सवाल खड़े हो रहे थे उस समय यूपी की काबिल पुलिस इस घटना को नया रंग देने में जुुटी थी। अभियुक्तों को पकडऩे की बजाए पुलिस इस बात को साबित करने में जुट गई कि ये घटना किसी बड़ी साजिश का हिस्सा है। बड़ा सवाल यह है कि अगर बुलंदशहर में इस तरह की साजिश रची जा रही थी तो प्रदेश का खुफिया विभाग कहां सो रहा था और उसे किसी भी साजिश की जानकारी क्यों नहीं मिली। दरअसल, यूपी पुलिस के अफसरों की आदत पड़ गई है किसी भी बड़ी घटना में रटा रटाया बयान दे दो कि यह किसी साजिश का हिस्सा है।
दुर्भाग्य की बात यह है कि बुलंदशहर के एसएसपी के ऊपर कुछ दिन पहले ही उन्हीं के एक इंस्पेक्टर ने घूस लेकर तैनाती करने का आरोप लगाया था। होना यह चाहिए था तत्काल इस मामले की जांच करके आरोप सत्य पाए जाने पर एसएसपी को निलंबित किया जाना चाहिए था, मगर इस तरह की कोई कार्रवाई नहीं की गई। बुलंदशहर में इतने बड़े हादसे के बाद भी एसएसपी को नहीं हटाया गया। आईपीएस एसोसिएशन ने भी इस घटना की कड़ी निंदा की है।
सूत्रों का कहना है कि डैमेज कंन्ट्रोल करने के लिए पुलिस के बड़े अफसर इसे 6 दिसंबर से जोडक़र एक नई कहानी बनाने में जुटे हैं, जिससे उनकी कुर्सी सलामत रहे।

बुलंदशहर की घटना दुर्भाग्यपूर्ण है। इसे राजनीतिक रंग नहीं देना चाहिए। एसआईटी गठित कर इसकी जांच की जा रही है। जांच से सबकुछ साफ हो जाएगा।
-अमित शाह,अध्यक्ष, भाजपा

बुलंदशहर में पुलिस व ग्रामीणों के संघर्ष में स्याना कोतवाल सुबोध कुमार सिंह की मौत बेहद दुखद है। सुबोध कुमार को
भावपूर्ण श्रद्धांजलि। उप्र भाजपा के शासनकाल में हिंसा और अराजकता के दुर्भाग्यपूर्ण दौर से गुजर रहा है।
-अखिलेश यादव, राष्टï्रीय अध्यक्ष,समाजवादी पार्टी

तमाम पुख्ता सबूत सामने आ जाने के बाद भी यूपी जैसे सबसे बड़े राज्य की ताकतवर पुलिस के एडीजी हत्यारों के संगठन का नाम छिपाते रहे। राज्य के हालात तालिबान जैसे हो रहे हैं, ये साधारण घटनाएं न हो कर आतंकी
घटनाएं हैं।
-वैभव माहेश्वरी, प्रवक्ता ,आम आदमी पार्टी

अगस्ता वेस्ट-लैंड के खुलासे से बढ़ सकती हैं कांग्रेस की मुसीबतें

  • फिर गरमाया अगस्ता वेस्टलैंड घोटाला, भाजपा ने कांग्रेस को घेरा

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
नई दिल्ली। अगस्ता वेस्टलैंड वीवीआईपी हेलीकॉप्टर डील में हुए घोटाले का मामला फिर गरमा गया है। इस घोटाले के बिचौलिए क्रिश्चियन मिशेल को भारत लाने में सफलता मिली है। मिशेल से सीबीआई पूछताछ चल ही है। मिशेल को पटियाला हाउस कोर्ट में पेश किया जाएगा। उम्मीद है कि मिशेल इस मामले में भारतीय राजनीतिकों के नामों का खुलासा कर सकता है। इस मामले को लेकर भाजपा ने कांग्रेस को घेरा है। इससे राफेल डील पर कांग्रेस के हमलों का सामना कर रही भाजपा को पलटवार का मौका मिल गया है।
मिशेल के दुबई से भारत आते ही बड़े राजनीतिक तूफान का स्टेज सज गया है। अगस्ता-वेस्टलैंड घोटाले के मुद्दे पर पीएम नरेंद्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने कांग्रेस पर निशाना साधा है।

और अब बनारस में पहले से बड़ा बम धमाका करने की धमकी

पीएम मोदी के निर्वाचन क्षेत्र में मिली इस धमकी से हडक़ंप
खुफिया विभाग के अफसरों ने शुरू की पड़ताल

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। पीए नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी के विश्वविख्यात संकट मोचन मंदिर को बम से उड़ाने की धमकी दी गई है। एक अज्ञात व्यक्ति ने मंदिर के महंत प्रोफेसर विश्वम्भरनाथ मिश्र को पत्र भेजकर यह धमकी दी है। पत्र में कहा गया है कि यहां 2006 से बड़ा ब्लास्ट होगा। मंदिर को उड़ाने की धमकी की सूचना पर पुलिस महकमे में हडक़ंप मच गया है। खुफिया विभाग जांच में जुटी है।
संकट मोचन मंदिर के महंत ने बताया कि पत्र में लिखा था कि मंदिर में मार्च, 2006 से बड़ा धमाका करेंगे। इसके साथ ही धमकी को हल्के में न लेने की चेतावनी भी दी गई है। कल देर रात उन्होंने लंका थाने में लिखित शिकायत दर्ज कराई। पत्र हाथ से लिखा हुआ है।

 

Pin It