प्रयागराज में लगने वाले कुंभ की तैयारियों में जुटा नगर विकास विभाग

  • 30 नवंबर तक सभी संबंधित विभागों को जारी कर दिया जाएगा पूरा पैसा

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। प्रदेश सरकार अयोध्या में होने वाले दीपोत्सव के साथ-साथ प्रयागराज में होने वाले कुंभ की तैयारियों में भी जुट गई है। सरकार अपनी ब्रांडिंग के तौर पर कुंभ को देख रही है। इस लिहाज से नगर विकास विभाग को सरकार की तरफ से इशारा मिल गया है कि वह अपना फोकस कुंभ के आयोजन की तरफ बढ़ाए। इस लिहाज से माना जा रहा है कि कुंभ के लिए जो भी वित्तीय स्वीकृति चाहिए, वे 30 नवंबर तक पूरी हो जाएंगी। इसके अलावा 90 फीसदी काम भी इस मियाद के बीच में पूरा करने के लिए अधिकारियों को आदेश दिए गए हैं। कुंभ की तैयारियों के लिए विभागों से करीब 2625 करोड़ रुपये की परियोजनाओं के प्रस्ताव आए थे, जिन्हें स्वीकृति दी गई थी।
नगर विकास विभाग को कुंभ के आयोजन का नोडल बनाया गया था और अब तक 2599 करोड़ रुपये विभाग से जारी कर दिए गए हैं। नगर विकास विभाग को निर्देश मिले हैं कि बची हुई रकम परियोजनाओं के सापेक्ष इस महीने के अंत तक जारी कर दी जाए। इसके अलावा अगर किसी भी परियोजना के लिए पुनरीक्षित लागत की भी जरूरत होती है तो उसकी भी स्वीकृति इसी महीने के अंत तक जारी किए जाने के निर्देश हैं। विभाग से मिली जानकारी के मुताबिक इस महीने के अंत तक तकरीबन 90 फीसदी काम पूरा करने के अलावा 15 दिसंबर को प्राथमिक डेडलाइन रखी गई है। विभाग का दावा है कि मेले संबंधित तैयारियों की गति सही ट्रैक पर है और 15 दिसंबर तक काम पूरा हो जाने की उम्मीद है। किसी विशेष अवरोध की स्थिति में बचे हुए काम को सप्ताह भर में पूरा करने का मार्जिनल टाइम रखा गया है।

टैनरियों को बंद करने के निर्देश

इसके अलावा 15 दिसंबर से गंगा किनारे की सभी टैनरियों को बंद कराने के लिए विभाग से निर्देश जारी हो गए हैं। जिला अधिकारियों को पत्र लिखकर बता दिया गया है कि 15 दिसंबर से लेकर 15 मार्च तक किसी भी सूरत में टैनरियां न चलें। सरकार का फोकस है कि किसी भी सूरत में गंदगी गंगा में न जाए और कुंभ के दौरान लोगों को गंगा में स्नान के लिए साफ पानी मिले। वहीं, जल निगम को अलग-अलग जगहों पर उन नालों को टैप करने व शोधित करने के भी निर्देश जारी किए गए हैं, जो अब तक डायवर्ट नहीं हो पाए हैं। इनको भी 15 दिसंबर तक का टाइम दिया गया है। इसके अलावा नालों की जियोटैगिंग करने के भी निर्देश विभाग को दिए गए हैं।

मंदिर पर निजी विधेयक आया तो क्या विपक्ष करेगा समर्थन: केशव

लखनऊ। उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने सवाल किया है कि अगर राज्यसभा सदस्य राकेश सिन्हा संसद के आगामी सत्र में राम मंदिर निर्माण के लिए निजी विधेयक लाते हैं तो क्या राहुल गांधी समेत पूरा विपक्ष इस विधेयक का समर्थन करेगा। उन्होंने सोमवार को साफ कहा कि राम मंदिर निर्माण के लिए निजी विधेयक लाने पर उन लोगों की असलियत भी उजागर हो जाएगी, जो भाजपा पर मंदिर के नाम पर कोरी राजनीति करने का आरोप लगाते हैं। उप मुख्यमंत्री ने कहा कि भाजपा अयोध्या में राम मंदिर बनाने के लिए प्रतिबद्ध है और जब भी समय आएगा भाजपा इसके लिए तत्पर रहेगी। भाजपा के राज्यसभा सांसद राकेश सिन्हा का अधिकार है कि वह निजी विधेयक ला सकते हैं। उच्चतम न्यायालय का अनुकूल फैसला आते ही अयोध्या में मंदिर का निर्माण निश्चित रूप से किया जाएगा और बाबर के नाम की एक ईंट भी नहीं रखने दी जाएगी।

 

Pin It