युवाओं को आगे बढऩे की प्रेरणा देगा स्टेडियम: योगी

  • मुख्यमंत्री ने भारत रत्न अटल बिहारी वाजपेयी इकाना स्टेडियम का किया उद्घाटन
  • आज शाम भारत-वेस्टइंडीज के बीच खेला जाएगा टी-20 मुकाबला

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। भारत और वेस्टइंडीज के बीच खेले जाने वाले दूसरे अन्तरराष्टï्रीय टी-20 मुकाबले से पहले आज मुख्यमंत्री योगी अदित्यानात्थ ने भारत रत्न अटल बिहारी वाजपेयी इकाना स्टेडियम का उद्घाटन किया। इस मौके पर डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य, डिप्टी सीएम डॉ. दिनेश शर्मा और यूपीसीए के चेयरमैन राजीव शुक्ला भी मौजूद रहे। गौरतलब है कि सोमवार को इकाना स्टेडियम का नाम बदलकर भारत रत्न अटल बिहारी वाजपेयी इकाना कर दिया गया था।
उद्घाटन मौके पर लोगों को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि लखनऊ का पहला अन्तरराष्टï्रीय स्टेडियम युवाओं को आगे बढऩे की प्रेरणा देगा। इसके बनने से प्रदेश में खेल को लेकर लंबी छलांग लगाई है। उन्होंने कहा कि पिछले दिनों से इस स्टेडियम के नाम को लेकर चर्चाएं हो रहीं थी। बात चल रही थी कि इसे किस शख्स के नाम पर रखा जाए। स्वर्गीय अटल बिहारी वाजपेयी ने लखनऊ के लिए बहुत कुछ किया, लिहाजा उनसे अच्छा नाम इस स्टेडियम को नहीं मिल सकता था। मुख्यमंत्री ने क्रिकेट प्रेमियों को खेल भावना का परिचय देते हुए शांति और सौहार्द से मैच देखने का आग्रह किया। गौरतलब है कि आज शाम भारत-वेस्टइंडीज की टीमों के बीच मुकाबला होगा। प्रदेश के डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य ने कहा कि स्टेडियम का नाम अटल बिहारी वाजपेयी के नाम पर रखने से अंतरराष्टï्रीय स्तर पर संदेश गया है। अटल बिहारी वाजपेयी के प्रति इससे अच्छी श्रद्धांजलि नहीं हो सकती है।

खेल को आगे बढ़ाएंगे: राजीव शुक्ला

मीडिया से बातचीत करते हुए यूपीसीए के चेयरमैन राजीव शुक्ला ने कहा कि लखनऊ में अंतरराष्टï्रीय मैच का आयोजन सौभाग्य की बात है। उन्होंने लखनऊ में अंतरराष्टï्रीय मैच के लिए सीएम योगी से मिले सहयोग के लिए आभार व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि इकाना भारत का सर्वश्रेष्ठ स्टेडियम है। सरकार की नीति के तहत खेल को आगे बढ़ाया जाएगा। यहां क्रिकेट के लिए सभी सुविधाएं मौजूद हैं।

स्टेडियम को लेकर सपा और भाजपा में शब्दों के तीर

  • 24 साल बाद लखनऊ में हो रहे अन्तरराष्टï्रीय क्रिकेट मैच को लेकर राजनैतिक जुमलेबाजी बनी चर्चा का विषय
  • सपा के कार्यकर्ताओं द्वारा नारेबाजी की आशंका के चलते पुलिस सतर्क, लाल टोपी वालों से निपटने की तैयारी

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क

लखनऊ। भारत और वेस्टइंडीज टीमों के बीच चौके-छक्कों की बरसात भले ही मैदान में होनी हो मगर राजनीति के मैदान में बाउंसर मारने का दौर शुरू हो गया है। सपा मुखिया अखिलेश यादव के करीबी संतोष यादव ने टाइम्स ऑफ इंडिया में फुल पेज विज्ञापन जारी करके इस स्टेडियम के निर्माण के लिए अखिलेश यादव को धन्यवाद दिया है तो दूसरी ओर मैच से 24 घंटे पहले स्टेडियम का नाम अटल बिहारी वाजपेयी के नाम पर रखकर भाजपा ने दांव चला है। भाजपा यह मैसेज नहीं देना चाहती कि लोगों के बीच यह बात चर्चा का विषय बने कि यह स्टेडियम अखिलेश यादव ने अपने कार्यकाल में बनवाया था।
खुफिया विभाग को जानकारी मिली है कि बड़ी संख्या में सपा कार्यकर्ताओं ने मैच के टिकट खरीद लिए हैं। इन नौजवानों की रणनीति है कि लाल टोपी लगाकर मैच के बीच नारेबाजी के माध्यम से अखिलेश यादव को इस स्टेडियम को बनाने के लिए बधाई दी जाए। कुछ कार्यकर्ता इस बात की भी रणनीति बनाने में जुट गए हैं कि किसी तरह वह कुछ बैनर अंदर ले जाएं, जिससे इन बैनरों के जरिए वह संदेश दे सकें कि यह स्टेडियम अखिलेश यादव की देन है।
टाइम्स ऑफ इंडिया में छपा यह विज्ञापन अफसरों की नींद उड़ाने के लिए पर्याप्त था। इस विज्ञापन के छपने के बाद आनन-फानन में शासन के बड़े अफसरों के बीच मीटिंग हुई और उसके बाद निर्देश जारी किए गए कि मैच देखने वाले दर्शकों द्वारा किसी भी प्रकार का हुड़दंग और नारेबाजी करना प्रतिबन्धित है। यह भी आदेश दिए गए कि किसी भी प्रकार का राजनैतिक या धार्मिक स्टीकर, बैनर, पोस्टर तथा पानी स्टेडियम में ले जाने की अनुमति नहीं दी जायेगी और स्टेडियम के आस-पास इस तरह के पोस्टर स्टीकर भी नहीं लगाए जायेंगे। पुलिस ने यह भी हिदायत दी है कि किसी भी प्रकार की सीटी या भोंपू अंदर नहीं ले जा सकते।
स्टेडियम के भीतर और बाहर पुलिस के व्यापक इंतजाम किए गए हैं। सपा मुखिया अखिलेश यादव के अपने परिवार के साथ मैच देखने के लिए स्टेडियम आने की खबर ने उनके कार्यकर्ताओं में जोश भर दिया है तो दूसरी ओर पुलिस महकमे को परेशान कर दिया है कि अपने नेता को देखकर कार्यकर्ता और उग्र न हो जाएं।
अब सभी की निगाहें इस बात पर टिकी हैं कि इस मैच में सपा की रणनीति कामयाब होगी या भाजपा के लोग अपनी चाल में कामायाब हो जायेंगे।

भाजपा को झटका कांग्रेस-जेडीएस गदगद

कर्नाटक उपचुनाव नतीजे

  • चार सीटों पर कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन का कब्जा, बीजेपी को मिली एक सीट

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
नई दिल्ली। कर्नाटक विधानसभा और लोकसभा उपचुनाव परिणाम की घोषणा आज हुई। दिवाली से ठीक पहले आए चुनाव नतीजों से कांग्रेस गदगद है तो भाजपा को मायूसी हाथ लगी है। सूबे में सत्तारूढ़ कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन ने पांच में से चार सीटों पर जीत दर्ज कर ली है। भाजपा को मात्र एक लोकसभा सीट (शिमोगा) पर सफलता मिली। यह सीट पहले भी भाजपा के कब्जे में थी।
शिमोगा की लोक सभा सीट पर भाजपा के वीवाई राघवेंद्र ने जीत दर्ज की है। राघवेंद्र पूर्व मुख्यमंत्री और भाजपा के वरिष्ठ नेता बीएस येदियुरप्पा के बेटे हैं। बेल्लारी सीट से कांग्रेस के वीएस उगरप्पा ने बड़े अंतरों से जीत दर्ज की है। मांड्या लोकसभा सीट पर जेडीएस के एलआर शिमरामेगौड़ा ने जीत दर्ज की है। वहीं जामखंडी विधानसभा सीट से कांग्रेस के आनंद सिद्दू न्यामागौड़ा ने जीत दर्ज की है। वहीं रामनगर सीट पर जेडीएस की अनिता कुमारस्वामी ने वोटों से जीत दर्ज की है। लोकसभा चुनाव से पहले मिली इस शानदार जीत से कांग्रेस गठबंधन गदगद है।

 

Pin It