महापौर ने किया च्सात जनम के बादज् उपन्यास का विमोचन

  • एनआरआई लेखिका कमलेश ने लिखी है किताब

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। अपना देश अपनी माटी की तुलना किसी देश से नहीं की जा सकती है। इस बात को सच साबित किया है एनआरआई लेखिका कमलेश चौहान गौरी ने। विदेश में रहकर भी अपने उपन्यास के विमोचन के लिए लेखिका कमलेश चौहान गौरी भारत आईं और यहां पर अपने उपन्यास का विमोचन किया। वहीं हमारी संस्कृ़ति और संस्कारों को बनाएं रखा। यह बातें महापौर संयुक्ता भाटिया ने लेखिका कमलेश चौहान गौरी के उपन्यास सात जनम के बाद के विमोचन के दौरान कही। विमोचन कार्यक्रम का आयोजन गोमती नगर स्थित बेस्ट वेस्टर्न होटल में किया गया। कार्यक्रम का संचालन साबिरा हबीब ने जबकि कार्यक्रम का संयोजन मोनिका भोनवाल ने किया। लेखिका कमलेश ने कहा कि मेरा जन्म पंजाब में हुआ। शादी के बाद अमेरिका जा कर बस गई। मैं आज अमेरिका की नागरिक हूं लेकिन मेरे दिल में आज भी भारत ही बसता है। मेरा यह तीसरा उपन्यास है। सात जनम के बाद उपन्यास भारतीय परिवेश में राजपूती परंपराओं और जीवन शैली पर आधारित एक प्रेम कहानी है। कार्यक्रम में गायिका मालविका हरिओम, शायरा डॉ. अंजना सिंह सेंगर, सेवानिवृत्त आइएएस राजेंद्र भोनवाल, भुवन सिंह कुशवाहा समेत कई लोग मौजूद रहे।

Pin It