अयोध्या पर घमासान: कोर्ट से निराश भाजपा सांसद संसद में पेश करेंगे प्राइवेट मेंबर बिल

  • भाजपा सांसद राकेश सिन्हा का ऐलान, सभी दलों को राम मंदिर निर्माण पर अपना पक्ष स्पष्टï करने की दी चुनौती
  • साधु-संतों सहित तमाम संगठनों के दबाव से भाजपा परेशान

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
नई दिल्ली। अयोध्या में राम मंदिर निर्माण पर घमासान तेज हो गया है। सुप्रीम कोर्ट द्वारा इस मामले की सुनवाई अगले वर्ष जनवरी तक टालने के बाद अब भाजपा संसद के भरोसे है। साधु-संत, संघ और कई हिंदूवादी संगठन भी सरकार पर कानून बनाकर मंदिर निर्माण का दबाव बना रहे हैं। इसी बीच आज भाजपा के राज्यसभा सांसद राकेश सिन्हा ने अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए संसद के शीतकालीन सत्र में प्राइवेट मेंबर बिल लाने का ऐलान किया है। उन्होंने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और बसपा सुप्रीमो मायावती समेत अन्य नेताओं को राममंदिर निर्माण पर अपना पक्ष स्पष्टï करने की चुनौती भी दी है। जाहिर है 2019 के चुनावी साल से ठीक पहले अयोध्या मुद्दा एक बार फिर संसद के साथ जनता के बीच डिबेट का हिस्सा बनने जा रहा है।
राकेश सिन्हा ने आज इस सिलसिले में कई ट्वीट किए हैं। उन्होंने ट्वीट में लिखा, जो लोग भाजपा और संघ को उलाहना देते रहते हैं कि राम मंदिर की तारीख बताएं, उनसे सीधा सवाल है कि क्या वे मेरे प्राइवेट मेंबर बिल का समर्थन करेंगे? समय आ गया है दूध का दूध पानी का पानी करने का। उन्होंने इस ट्वीट में राहुल गांधी, अखिलेश यादव, सीताराम येचुरी, लालू प्रसाद यादव और चंद्रबाबू नायडू को टैग भी किया। उन्होंने दूसरे ट्वीट में लिखा, आर्टिकल 377, जलिकट्टू और सबरीमाला पर फैसला देने में सुप्रीम कोर्ट ने कितने दिन लगाए? लेकिन दशकों दशक से अयोध्या प्राथमिकता में नहीं है। यह हिंदू समाज के लिए सर्वोच्च प्राथमिकता में है। आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत पहले कह चुके हैं कि मंदिर के निर्माण में देर नहीं होनी चाहिए। सरकार मंदिर के लिए कानून बनाए। वहीं मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने राम मंदिर पर दीपावली में खुशखबरी देने का ऐलान किया है।

मुलायम की बहू अपर्णा यादव भी पक्ष में
मुलायम सिंह यादव की बहू अपर्णा यादव राम मंदिर के पक्ष में हैं। उन्होंने कहा कि अयोध्या भगवान राम की जन्मभूमि है, वहां राम मंदिर बनना ही चाहिए। अपर्णा ने यह भी साफ कर दिया कि वह किसी पार्टी के साथ नहीं बल्कि भगवान राम के साथ हैं। अपर्णा ने कहा अयोध्या, राम जन्मभूमि है। ऐसा हमारे रामायण में लिखा है। वहां राम मंदिर का निर्माण होना ही चाहिए।

मंदिर निर्माण पर राहुल गांधी से मांगा सहयोग
महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़णवीस ने एक निजी चैनल से बातचीत करते हुए कहा कि राम मंदिर निर्माण के लिए कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को आगे आकर सहयोग करना चाहिए। उन्होंने कहा कि राहुल गांधी आजकल मंदिर-मंदिर जा रहे हैं। वे अयोध्या में राम मंदिर बनाने के लिए भी मदद करें और राज्यसभा में अगर बिल पेश हो तो उसका समर्थन करें।

क्या है प्राइवेट मेंबर बिल
भारत की संसद में किसी भी कानून को बनाने की प्रक्रिया किसी भी सदन (लोकसभा या राज्यसभा) में बिल पेश करने से शुरू होती है। बिल को सरकार के मंत्री या किसी संसद सदस्य की तरफ से पेश किया जा सकता है। अगर सरकार के मंत्री बिल पेश करते हैं तो उसे गवर्नमेंट बिल और दूसरी स्थिति को प्राइवेट मेंबर बिल कहते हैं। यानी संसद में सरकारी विधेयकों के अलावा सदस्यों को व्यक्तिगत विधेयक लाने का भी अधिकार है। हालांकि इन विधेयकों का कानून की शक्ल लेना पार्टी लाइन या फिर सरकार के रुख से तय होता है। लोकसभा और राज्यसभा में हर शुक्रवार को दोपहर बाद का समय निजी विधेयक (प्राइवेट मेंबर बिल) पेश करने के लिए तय है।

जौनपुर में हीरा व्यवसायी को गोली मारकर पौने दो करोड़ लूटे

  • बदमाशों ने ओवरटेक कर रोकी कार, बदमाशों का नहीं मिला सुराग

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। बाइक सवार दो बदमाशों ने कल देर रात हीरा व्यवसायी से करीब एक करोड़ 70 लाख के आभूषण व रुपये लूट लिए। हीरा व्यवयासी ने जब विरोध किया तो बदमाशों ने उनको गोली मार दी। रायबरेली निवासी हीरा व्यवसायी लोकेश दुबे को जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां उनकी नाजुक हालत को देखते हुए वाराणसी रेफर किया गया है।
रायबरेली के हीरा व्यवसायी नागेश दुबे सुबह अपनी कार से वाराणसी और जौनपुर में हीरा सप्लाई करने निकले थे। वाराणसी में सप्लाई और वसूली के बाद जौनपुर पहुंचे थे। वे वहां से रात में निकले। वे जैसे ही बसालतपुर छुंछा घाट पहुंचे बाइक सवार दो बदमाशों ने उन्हें ओवरटेक कर रोक लिया। बदमाशों ने उन्हें गोली मार दी और गाड़ी में रखी ज्वेलरी व रुपये लेकर फरार हो गए। बदमाशों का सुराग अभी नहीं मिला है।

सहकारी समिति के कर्मचारियों ने भाजपा कार्यालय को घेरा, पुलिस से धक्का-मुक्की

  • विभिन्न मांगों को लेकर किया प्रदर्शन

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। संयुक्त सहकारी समिति कर्मचारी समन्वय समिति उत्तर प्रदेश के बैनर तले आज हजारों कर्मचारियों ने विभिन्न मांगों को लेकर भाजपा कार्यालय का घेराव किया। यहां से जब वे विधानभवन की ओर बढऩे लगे तो पुलिस ने उनको रोक दिया। इस दौरान उग्र कर्मचारियों और पुलिस में हल्की झड़प हुई। पुलिस ने सभी को खदेड़ दिया।
आज सुबह ही हजारों की संख्या में सहकारी समिति के कर्मचारी राजधानी की सडक़ों पर उतर आए। समिति के प्रांतीय अध्यक्ष नवनाथ पांडेय ने बताया कि उनकी वेतन संबंधी व अन्य मांगों को लेकर सरकार और विभाग की ओर से कोई सकारात्मक पहल नहीं किए जाने के कारण घेराव के लिए मजबूर होना पड़ा। कर्मचारियों की मांग है कि सचिव एवं अन्य कर्मचारियों को राज्य कर्मचारियों की भांति नियमित वेतन और संपूर्ण बकाया वेतन का भुगतान किया जाए और सेवानिवृत्त की आयु को 62 वर्ष की जाए।

 

Pin It