नए भारत की अभिव्यक्ति है स्टैच्यू ऑफ यूनिटी: मोदी

  • पीएम मोदी ने सरदार पटेल की दुनिया की सबसे ऊंची प्रतिमा का किया अनावरण
  • एक भारत, श्रेष्ठ भारत के लिए पटेल के दिखाए रास्ते पर चलते रहने का किया आह्वान

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सरदार वल्लभ भाई पटेल की जयंती पर उनकी 182 मीटर की सबसे ऊंची प्रतिमा स्टैच्यू ऑफ यूनिटी का आज अनावरण किया। पीएम ने इस मौके पर देश की एकता और जिंदाबाद का नारा लगाते हुए एक भारत, श्रेष्ठ भारत के लिए पटेल के दिखाए रास्ते पर चलते रहने का आह्वान किया। उन्होंने कहा कि स्टैच्यू ऑफ यूनिटी नए भारत की अभिव्यक्ति है।
प्रधानमंत्री ने कहा कि आज का यह दिन भारत के इतिहास में बेहद अहम है। आज भारत के वर्तमान ने अपने इतिहास के एक स्वर्णिम पुरुष को उजागर करने का काम किया है। पीएम मोदी ने कहा कि सरदार पटेल के आह्वïान पर राजा रजवाड़ों ने अपने राज्यों का विलय कर दिया था और देखते ही देखते भारत एक हो गया। उन्होंने कहा कि यह प्रतिमा देश के सम्मान, किसानों के स्वाभिमान और इंजीनियरिंग व तकनीकी सामथ्र्य का भी प्रतीक है। इस मौके पर पीएम ने सरकार की उपलब्धियां भी गिनाईं।

विरोधियों पर साधा निशाना
पीएम मोदी ने विरोधियों पर हमले का मौका नहीं गंवाया। उन्होंने कहा कि आज देश के उन सपूतों का सम्मान हो रहा है जिन्हें चाह कर भी इतिहास में भुलाया नहीं जा सकता। मोदी ने परोक्ष रूप से कांग्रेस पर हमला करते हुए कहा कि आज महापुरुषों की प्रशंसा के लिए भी हमारी आलोचना होने लगती है।

भारत के शिल्पी थे सरदार पटेल: सीएम योगी

राज्यपाल राम नाईक और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने लौह पुरुष सरदार वल्लभ भाई पटेल की जयंती के मौके पर हजरतगंज स्थित सरदार पटेल की प्रतिमा पर माल्यार्पण किया। इसके अलावा रन फॉर यूनिटी को झंडी दिखाकर रवाना किया। सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि पूरा देश भारत के महान सपूत वल्लभ भाई पटेल की जयंती पूरे उत्साह के साथ मना रहा है। पटेल ने भारत की सीमाओं को एकता और अखंडता की डोर में बांधा था। जिस तरह बाबा साहब भीमराव आंबेडकर संविधान के शिल्पी थे उसी तरह सरदार पटेल भारत के शिल्पी थे। इस अवसर पर विधानसभा के सामने से मार्च-पास्ट व रन फॉर यूनिटी का कार्यक्रम रखा गया था। इसमें आम जन व छात्रों ने भाग लिया। इस मौके पर कई मंत्री व विधायक, मुख्य सचिव अनूप चंद्र पांडेय, डीजीपी ओपी सिंह समेत विभिन्न विभागों के अधिकारी मौजूद रहे।

सुप्रीम कोर्ट ने कहा राफेल की कीमत बताए सरकार, अटॉर्नी जनरल बोले, यह संभव नहीं

  • शीर्ष न्यायालय ने दस दिन के भीतर बंद लिफाफे में मांगी विमान सौदे की जानकारियां

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
नई दिल्ली। राफेल विमान सौदे पर सियासी लड़ाई के बीच सुप्रीम कोर्ट ने आज इस मामले पर दायर याचिकाओं पर सुनवाई करते हुए कहा कि केंद्र सरकार विमान की कीमत, इसके लाभ और ऑफसेट पार्टनर चुनने की प्रक्रिया का विवरण बंद लिफाफे में दे। इस पर अटॉर्नी जनरल ने कहा कि ये जानकारियां साझा नहीं की जा सकती हैं।
मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई की अगुवाई वाली पीठ ने राफेल डील पर सुनवाई करते हुए केंद्र सरकार को राफेल की कीमतें, निर्णय लेने की प्रक्रिया और ऑफसेट पार्टनर चुनने की प्रक्रिया संबंधित विवरण सील बंद लिफाफे में 10 दिन के भीतर देने को कहा है। इस पर अटॉर्नी जनरल केके वेणुगोपाल ने ऑफीशियल सीक्रेट एक्ट का हवाला देते हुए कहा कि यह जानकारियां साझा नहीं की जा सकतीं। कोर्ट ने कहा कि यदि ऐसा है तो सरकार हलफनामे के जरिए अपनी आपत्ति दर्ज कराए।

क्या अखिलेश यादव के ऊपर हुआ था तंत्र-मंत्र… इसका खुलासा खुद स्वामी कैलाशानन्द ने 4पीएम के संपादक संजय शर्मा से किया। इस बातचीत के प्रमुख अंश देखने के लिए यहाँ पर क्लिक करें…. 

 

Pin It