मौत की ट्रेन

61 की मौत | 72 घायल

91 किमी की रफ्तार से चल रही थी टे्रन

  • रावण दहन देख रहे लोगों को काटती चली गई ट्रेन
  • मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह पहुंचे घटनास्थल पर, जांच के आदेश
  • केंद्र ने दो व राज्य सरकार ने किया पांच लाख के मुआवजे का ऐलान
  • राष्टï्रपति, प्रधानमंत्री समेत विभिन्न दलों के नेताओं ने जताया शोक

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
अमृतसर। विजय दशमी के मौके पर अमृतसर में शुक्रवार देर शाम रावण दहन देखने के लिए रेल पटरियों पर खड़े लोगों के ट्रेन की चपेट में आने से 61 लोगों की मौत हो गई जबकि 72 से अधिक घायल हो गए है। कई शवों की अभी तक शिनाख्त नहीं हो सकी है। जख्मी लोगों का तरणतारण, जालंधर, गुरदासपुर और अमृतसर में इलाज चल रहा है। मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह भी घटना स्थल का पहुंच गए हैं। घटना की जांच के आदेश दिए गए हैं। राष्टï्रपति रामनाथ कोविंद, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समेत विभिन्न पार्टियों के नेताओ ने हादसे पर दुख व्यक्त किया है। केंद्र ने मृतकों के परिजनों को दो लाख और राज्य सरकार ने पांच-पांच लाख का मुआवजा देने का ऐलान किया है। हादसे के बाद कुछ ट्रेनों को कैंसिल और कुछ का रूट बदला गया है। पंजाब सरकार ने एक दिन के शोक की घोषणा की है।
अमृतसर के जोड़ा फाटक इलाके में रेलवे ट्रैक पर लोग रावण दहन देख रहे थे तभी डीएमयू ट्रेन इन लोगों पर मौत बन कर बरसी। सिर्फ पांच सेकेंड में चारों तरफ मौत का भयानक मंजर पसर गया। मौके पर कम से कम 300 लोग मौजूद थे जो पटरियों के निकट एक मैदान में रावण दहन देख रहे थे। हादसे की वजह प्रशासनिक लापरवाही बताई जा रही है। रेल अधिकारी स्थानीय प्रशासन को जिम्मेदार ठहरा रहे हैं। सीएम अमरिंदर सिंह मौके पर पहुंचे। मुख्यमंत्री ने घायलों से मुलाकात की। डीआरएम विवेक कुमार ने कहा कि सिगनल ग्रीन था सिग्नल का कोई वायलेशन नहीं है। गाड़ी की मैक्सिमम स्पीड 91 किलोमीटर प्रति घंटा रही होगी।

कैसे हुआ हादसा
अधिकारियों ने बताया कि रावण दहन और पटाखे फूटने के बाद भीड़ में से कुछ लोग रेल पटरियों की ओर बढऩे लगे जहां पहले से ही बड़ी संख्या में लोग खड़े होकर रावण दहन देख रहे थे। उसी वक्त दो विपरीत दिशाओं से एक साथ दो ट्रेनें आईं और लोगों को बचने का बहुत कम समय मिला। इस घटना के बाद मौके पर चीख-पुकार मच गई। क्षत-विक्षत शव घटना के घंटों बाद भी घटनास्थल पर पड़े थे क्योंकि नाराज लोग प्रशासन को शव हटाने नहीं दे रहे थे। रावण की भूमिका निभाने वाले दलबीर सिंह की भी मौत हो गई है। घरवालों के मुताबिक लोगों की जान बचाने के दौरान उनकी मौत हो गई।

सीएम योगी दुखी
अमृतसर ट्रेन हादसे पर सीएम योगी आदित्यनाथ ने दुख जताते हुए ट्वीट किया। उन्होंने कहा कि मैं ईश्वर से दिवंगत आत्माओं की शांति एवं दुर्घटना में घायलों के शीघ्र स्वास्थ्य लाभ की कामना करता हूं।

अखिलेश ने उठाया सरकार पर सवाल
सपा के राष्टï्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने अमृतसर ट्रेन हादसे में मारे गये लोगों के प्रति गहरा दुख व्यक्त कर कहा कि घायलों को तत्काल उच्चतम स्तर का उपचार उपलब्ध कराना सरकार की नैतिक जिम्मेदारी है। यह दुर्घटना रेलवे और प्रशासन की बदइंतजामी और लापरवाही का दर्दनाक परिणाम है।

कई ट्रेनें रद्द
हादसे के तीन घंटे बाद भी जालंधर-अमृतसर मार्ग पर रेल सेवा पूरी तरह से बाधित रही। 26 ट्रेनें जगह-जगह या तो रोक दी गईं या रद्द कर दी गईं। रेलवे ने हादसे के पीडि़तों के परिजनों के लिए एक हेल्पलाइन नंबर जारी किया है।

हिरासत में ड्राइवर
मीडिया रिपोट्र्स के मुताबिक टे्रन के ड्राइवर को हिरासत में लिया गया है। उसने कहा कि रावण जलने की वजह से आसपास काफी धुआं था। घटनास्थल पर रोशनी की भी व्यवस्था नहीं थी, इसलिए उसे कुछ दिखाई नहीं दिया। रेल अधिकारी का भी कहना है कि वहां काफी धुआं था, जिसकी वजह से ड्राइवर कुछ भी देखने में असमर्थ था। इसके अलावा ट्रेन भी घुमावदार मोड़ पर थी। रेल ड्राइवर की पहचान को सार्वजनिक नहीं किया गया है। रेल अधिकारी उससे पूछताछ कर रहे हैं।

आयोजन की नहीं ली गई थी अनुमति: मनोज सिन्हा
रेल राज्य मंत्री मनोज सिन्हा शुक्रवार की देर रात करीब 12.40 पर पहुंचे। उन्होंने कहा कि रेलवे ट्रैक के पास मौजूद लोग पटाखों के कारण ट्रेन की आवाज नहीं सुन सके और ट्रेन की चपेट में आ गए। रेलवे ट्रैक के पास हुए दशहरा आयोजन की अनुमति नहीं ली गई थी। ट्रेन की स्पीड ज्यादा होने के विषय पर उन्होंने कहा कि यह जांच का विषय है। जांच में जो तथ्य सामने आएंगे, उस मुताबिक कार्रवाई की जाएगी।

मेरठ में भाजपा पार्षद की दबंगई दारोगा और महिला वकील को पीटा

  • पार्षद गिरफ्तार और दारोगा लाइन हाजिर
  • किसी बात पर होटल संचालक से हुआ था विवाद, वीडियो वायरल
  • दारोगा की पिटाई के बाद उसे ही लाइन हाजिर करने से पुलिस महकमे में रोष

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। मेरठ के एक होटल में हुए विवाद पर भाजपा पार्षद ने एक दारोगा और महिला वकील की पिटाई कर दी। घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया है। महिला वकील ने केस दर्ज कराया है। पुलिस ने आरोपी पार्षद को गिरफ्तार कर लिया है। आरोपी मेरठ के वार्ड नंबर 40 से भाजपा पार्षद हैं।
शुक्रवार की देर रात मेरठ के कंकरखेड़ा इलाके में स्थित होटेल में दारोगा सुखपाल सिंह एक महिला वकील के साथ खाना खाने पहुंचे थे। इस दौरान दारोगा का होटल के मालिक से किसी बात पर विवाद हो गया। होटल मालिक ने स्थानीय भाजपा पार्षद मनीष पंवार को विवाद की जानकारी दी। पार्षद ने पहले दारोगा से बहस शुरू की और फिर उसे कई थप्पड़ जड़ दिए। महिला वकील ने जब बीच बचाव करने का प्रयास किया तो होटल मालिक और पार्षद ने उससे भी मारपीट की। पुलिस ने आरोपी पार्षद को गिरफ्तार कर लिया है। वही भाजपा पार्षद का आरोप है कि महिला और दरोगा होटल में बैठकर शराब पी रहे थे। घटना के बाद दारोगा को लाइन हाजिर कर दिया गया है। इससे पुलिस महकमे में रोष है।

 

Pin It