संक्षिप्त खबरें

डॉ. मनीषा शर्मा खुदकुशी मामले में अब लैपटॉप की डिटेल लेने की तैयारी में पुलिस
लखनऊ। केजीएमयू की जूनियर रेजिडेंट डॉ. मनीषा शर्मा के खुदकुशी के मामले में पुलिस अभी भी खाली हाथ है। पुलिस का कहना है कि डॉ. मनीषा की कॉल डिटेल से भी अहम सुराग मिले हैं। खुदकुशी से पहले उसने किसी एक शख्स को कई बार कॉल की थी। उस शख्स की तलाश के लिए उसके मोबाइल नंबर की लोकेशन खंगाली जा रही है। प्रथम दृष्टया जांच में डॉ. उधम के खिलाफ कुछ सबूत मिले हैं, जिसके बाद उन पर गिरफ्तारी की तलवार लटक रही है। इंस्पेक्टर वजीरगंज पंकज सिंह के मुताबिक बुद्धा हॉस्टल से बरामद लैपटॉप को खोलने का प्रयास किया गया, लेकिन उसमें डॉ. मनीषा ने पासवर्ड लगा रहा था, इस वजह से उसे खोल पाना बेहद मुश्किल है। पासवर्ड को खोलने के लिए कम्प्यूटर विशेषज्ञों की मदद ली जा रही है। पुलिस को आशंका है कि लैपटॉप में खुदकुशी से जुड़े कुछ दस्तावेज होंगे, जिसे हासिल कर आरोपित को कड़ी सजा दिलाने में मदद मिल सकती है। पुलिस का कहना है कि डॉ. उधम से एक बार फिर गुरुवार को भी पूछताछ की गई है। जांच में आरोप साबित होने पर डॉ. उधम को गिरफ्तार किया जाएगा। उधर, मनीषा की खुदकुशी के बाद बुद्धा हॉस्टल में गम का माहौल है।

Pin It