दशहरा पर जलाने के लिए तैयार हो रहा रावण

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। देश भर में नवरात्रि और दशहरा पर्व मनाया जा रहा है। राजधानी की विभिन्न रामलीला समितियों, मंडलियों और समूहों की तरफ से रावण तैयार किया जा रहा है। ऐशबाग रामलीला मैदान में रावण का भव्य पुतला बनाया जा रहा है। जिसे आधा दर्जन कलाकार बनाने में जुटे हैं। वहीं नवरात्रि के अंतिम दिन घर-घर में कन्या पूजन किया गया। भक्तों ने माता का रूप मानी जाने वाली कन्याओं के चरण धो कर, रोली लगाकर और आरती उतारकर पूजन किया। उन्हें भोजन करवाकर आशीर्वाद लिया। मंदिरों में भी माता के दर्शन के लिए सुबह से ही भक्तों की भीड़ जुटी रही।

चंदौली में अराजकतत्वों ने एडीजे स्पेशल कोर्ट में लगाई आग

  • पुलिस व फोरेंसिक की टीमें जांच पड़ताल में जुटीं

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
चंदौली। चंदौली जिले में बुधवार को देर रात अराजकतत्वों ने एडीजे स्पेशल कोर्ट में आग लगा दी। इस आग से हजारों फाइलें राख हो गई है। कोर्ट में आगजनी की सूचना मिलते ही पुलिस और फायर ब्रिगेड की टीमें मौके पर पहुंची। कड़ी मशक्कत के बाद आग को बुझाया गया लेकिन तब तक सैकड़ों फाइलें आग में जलकर राख हो चुकी थीं। पुलिस और फोरेंसिक की टीमें मामले की जांच पड़ताल में जुटी हैं।
एडीजे स्पेशल कोर्ट पंडित कमलापति त्रिपाठी राजकीय स्नातकोत्तर डिग्री कॉलेज के प्रांगण में है। बुधवार देर रात आग के कारण कार्यालय में रखी चार अलमारियों की लगभग हजारों फाइलें जलकर राख हो गई। जानकारी होते ही मौके पर कई जज व पुलिस अधीक्षक पहुंच गए। फायर ब्रिगेड ने सुलग रही फाइलों पर पानी की बौछार की। इस बड़े मामले की जांच के लिए फोरेंसिक टीम बुलाई गई है।
बता दें, जिला न्यायालय की दो कोर्ट एडीजे स्पेशल व एडीजे एफटीसी स्पेशल कॉलेज परिसर में चलती है। न्यायालय में गैंगस्टर, एससी-एसटी एक्ट, हत्या, सिविल व नक्सलियों से संबंधित वादों की सुनवाई होती है। बुïधवार को रोज की तरह कोर्ट में सुनवाई हुई। इसके बाद कार्यालय बंद हो गया। देर रात कुछ अराजकतत्वों ने कोर्ट परिसर की दक्षिणी खिडक़ी काटी और अलमारी में आग लगा दी। आगे इस ढंग से लगाई गई कि रात भर फाइलें सुलगती रहे। रात भर में चार अलमारी में रखी सारी फाइलें जलकर राख हो गई। आज सुबह धुआं देख स्थानीय लोगों ने पुलिस के साथ कोर्ट कर्मियों को इसकी जानकारी दी। इससे पूर्व भी तीन बार कोर्ट में आग लग चुकी है। फिलहाल पुलिस ने पूछताछ के लिए कोर्ट के चौकीदार पवन पांडे को हिरासत में लिया है। उससे पूछताछ की जा रही है।

भाजयुमो के नौ जिलाध्यक्ष घोषित

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क

लखनऊ। भारतीय जनता युवा मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष सुभाष यदुवंश ने युवा मोर्चा के नौ जिलाध्यक्षों की घोषणा की है। भाजयुमो के प्रदेश मीडिया प्रभारी धनजंय शुक्ला ने बताया कि भाजयुमो के प्रदेश प्रभारी एवं प्रदेश महामंत्री अशोक कटारिया और प्रदेश अध्यक्ष सुभाष यदुवंश ने सूची जारी की है। इस सूची में पश्चिम क्षेत्र में मेरठ के जिलाध्यक्ष अंकुर मुखिया, कानपुर क्षेत्र से इटावा जिले के सत्यम राजपूत, गोरखपुर क्षेत्र के जिला बस्ती से शिवांशु मिश्रा एवं बलिया से पीयूष चौबे, काशी क्षेत्र के जिला सोनभद्र से विशाल पांडेय, प्रतापगढ़ से रवि गुप्ता, इलाहाबाद महानगर से विनय मिश्रा, कौशाम्बी से सुनील मिश्रा एवं वाराणसी से सौरभ मिश्रा (पिंटू) को जिलाध्यक्ष का कार्यभार सौंपा गया है।

मध्य प्रदेश में राजधानी एक्सप्रेस से टकराया ट्रक, ड्राइवर की मौत

  • हादसे में ट्रेन के दो डिब्बे पटरी से उतरे

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
नई दिल्ली। मध्य प्रदेश के रतलाम रेल मंडल में आज सुबह एक बेकाबू ट्रक ने त्रिवेंद्रम से निजामुद्दीन की ओर जा रही त्रिवेंद्रम राजधानी एक्सप्रेस को टक्कर मार दी, जिसमें ट्रेन के दो कोच बी-7 व बी-8 पटरी से उतर गए। इस ट्रेन हादसे में ट्रक ड्राइवर की घटनास्थल पर ही मौत हो गई है, जबकि ट्रेन में यात्रियों को कोई नुकसान नहीं पहुंचा है।
जानकारी के मुताबिक यह हादसा रतलाम रेल खंड में आज सुबह 6:44 बजे हुआ । इस घटना की सूचना मिलते ही रतलाम रेल मंडल के वरिष्ठ अधिकारियों का दल घटनास्थल की ओर रवाना हो गया और चिकित्सा राहत दल भी दुर्घटनास्थल पहुंच गये। इस हादसे की वजह से ट्रैक पर रेल यातायात बाधित हो गया। जम्मूतवी और उज्जैन-दाहोद मेमू ट्रेन रतलाम स्टेशन पर खड़ी रही। वहीं अवध एक्सप्रेस, दाहोद-भोपाल डेमू ट्रेन भी नहीं आईं। इसके अलावा इंदौर-पुणे सहित कई ट्रेनों का संचालन बाधित हुआ। इस वजह से नवरात्रि के आखिरी दिन अपने घरों को जाने वाले यात्री स्टेशन पर हैरान-परेशान नजर आए।

सिर्फ सीसीटीवी फुटेज पर ही टिकी है पुलिस तो इससे ज्यादा शर्मनाक और क्या हो सकता है: राजर्षि शुक्ला

  • ऐसी खानापूर्ति करने वाली पुलिस और पुलिसिंग न रहे तो बेहतर
  • अधिकारियों से पूछा, क्या पहले की पुलिस फुटेज से ही पकड़ती थी अपराधी

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क

लखनऊ। सिर्फ सीसीटीवी फुटेज पर ही क्या पुलिस की जांच टिकी हुई है? क्या इसके अलावा पुलिस के पास और कोई रास्ता नहीं बचा है? क्या पुलिस उन चोरों का इंतजार कर रही है जो चोरी करने के बाद स्वयं पुलिस के पास आएंगे और कहेंगे कि साहब हमें गिरफ्तार कर लीजिए या फिर पुलिस भी भगवान के सहारे पड़ी रहती है। यदि ऐसा है तो हमें ऐसी पुलिस और पुलिसिंग नहीं चाहिए। क्या आज से कई वर्ष पूर्व पुलिस सीसीटीवी कैमरे के सहारे ही जांच और कार्रवाई करती थी। यदि यह कहा जाए कि पुलिस नाकारा हो गई है तो गलत नहीं होगा। यह बातें किसी और ने नहीं बल्कि उपभोक्ता फोरम के जज राजर्षि शुक्ला ने कही हैं, जिनके भाई प्रमुख सचिव राजनीतिक पेंशन विभाग राजन शुक्ला के घर तीन दिन पूर्व चोरी हुई थी। पुलिस अब तक कोई सुराग नहीं लगा पाई है।
राजर्षि शुक्ला ने कहा कि हाल ही में हुई कई घटनाएं इस बात को साबित कर रही हैं कि पुलिस नाकारा हो गई है। विवेक हत्याकांड हो या फिर इलाहाबाद में दारोगा की पीट-पीट कर हत्या हो, राजभवन के पास लूट व हत्या का मामला हो। देखा जाए तो कई ऐसे मामलों में कोर्ट को संज्ञान लेना पड़ता है। सवाल उठता है कि जब सब कुछ कोर्ट को करना है तो पुलिस किस काम की है। उन्होंने कहा कि सीएसआई टॉवर में चोरी का यह पहला मामला नहीं है। इससे पहले भी चोरी की छोटी-छोटी घटनाएं होती रही हैं और पुलिस मामले को दबाती रही है। एक तरफ जहां गार्ड कह रहा है कि वह रात को दो बजे जब फ्लैट की तरफ गया था तो ताला बंद था लेकिन सीसीटीवी फुटेज में वह गया ही नहीं था। वहीं दूसरी तरफ लाखों रुपये तक मेंटीनेंस चार्ज लेने के बाद भी यदि सीसीटीवी कैमरे खराब मिल रहे हैं तो इसमें गलती किसकी है। उन्होंने कहा कि जब भी किसी पुलिस अधिकारी के सीयूजी नंबर पर फोन करो तो पता चलता है कि उसके अधीनस्थ कर्मचारी कॉल रिसीव करते हैं और बताते हैं कि साहब मीटिंग में हैं या फिर वीवीआईपी ड्यूटी में हैं। सवाल उठता है कि फोन उठ नहीं सकता तो वहां आम लोगों की सुरक्षा कैसे होगी।
बता दें कि प्रमुख सचिव राजनीतिक पेंशन विभाग राजन शुक्ला के फ्लैट में चोरी के मामले में दो दिन बाद भी पुलिस के हाथ खाली हैं। सीएसआई टॉवर में कुल 30 कैमरे लगे हैं। यहां 11 गार्ड भी तैनात हैं। घटना के 36 घंटे बाद बुधवार को सीओ चक्रेश मिश्र के नेतृत्व में पुलिस टीम ने 30 कैमरे खंगाले। प्रमुख सचिव 13 अक्टूबर दोपहर करीब 12 बजे निकले थे। ऐसे में उनके निकलने के बाद से सोमवार रात 12 बजे तक की फुटेज देखी जा रही है। सर्विलांस के आधार पर संदिग्ध लोगों के बारे में जानकारी जुटाई गई है। सीएसआई टॉवर के ए ब्लॉक में 50 पीसीएस और बी ब्लॉक में तकरीबन 50 आईएएस अधिकारियों का परिवार रहता है। सुरक्षा में निजी कंपनी ओमेक्स के सुरक्षाकर्मी तैनात हैं। श्री शुक्ला ने बताया कि पुलिस ने बुधवार तक का समय लिया था लेकिन आज गुरुवार हो गया है। अब तक कोई रिजल्ट नहीं आया है।

 

Pin It