नवरात्रि: महाअष्टमी पर सजे दुर्गा पूजा पंडाल

 4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
नवरात्रि का त्यौहार देश भर में श्रद्घा और विश्वास के साथ मनाया जा रहा है। इसी कड़ी में आज महाअष्टमी के मौके पर राजधानी के कालीबाड़ी मंदिर, चंद्रिका देवी मंदिर, भुइयन माता मंदिर समेत अनेकों मंदिरों में माता के दर्शन करने के लिए भक्तों की भीड़ लगी रही। वहीं रामकृष्ण मठ में कन्या पूजन किया गया। जबकि सदर कैंट स्थित दुर्गा पूजा पंडाल में राफेल विमान समेत अन्य पंडालों में कई खूबसूरत झांकियां देखने को मिल रही हैं।

शिवपाल ने बंगले में किया गृह प्रवेश

  • पार्टी ऑफिस के तौर पर होगा बंगले का इस्तेमाल

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। समाजवादी पार्टी छोडक़र सेक्युलर मोर्चा बनाने वाले शिवपाल सिंह यादव ने आज महाअष्टमी के मौके पर अपने नए सरकारी बंगले में गृह प्रवेश किया। शिवपाल ने सरकार की तरफ से आवंटित 6 एलबीएस आवास पर विधिवत पूजा-पाठ किया और फिर गृह प्रवेश किया। हालांकि शिवपाल आज यहां रात्रि विश्राम नहीं करेंगे। यह बंगला पार्टी ऑफिस के तौर पर इस्तेमाल किया जाएगा।
शिवपाल ने गृह प्रवेश के बाद कहा कि ‘आज हमने घर में प्रवेश कर लिया है और यहां पूजा पाठ हो गया है। कल से यहां पर पार्टी का काम-काज शुरू हो जाएगा। प्रदेश की जनता का विश्वास बहुत से दलों से उठ गया है। इसलिए हमने समाजवादी सेक्युलर मोर्चा बनाया है। इसी बंगले से बैठकर हम काम करेंगे और यहीं पर हम लोगों से मिलेंगे। वहीं महागठबंधन के सवाल पर कहा कि अगर गठबंधन में हमें शामिल किया जाएगा तो हम उस पर जरूर विचार करेंगे।

दिल्ली कोर्ट में सरेंडर कर सकता है गन लहराने वाला आशीष पांडेय!

  • होटल में सरेआम पिस्टल लहराने वाले बसपा नेता को तलाशने में जुटी पुलिस
  • लखनऊ से दिल्ली तक कई ठिकानों पर कर चुकी है छापेमारी, नहीं मिला सुराग

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। दिल्ली के फाइव स्टार होटल में गन लहराने वाला बसपा नेता का बेटा आशीष पांडेय अभी भी फरार है। इस मामले में लखनऊ पहुंची दिल्ली पुलिस को खाली हाथ लौटना पड़ा है। वहीं आशीष पांडेय के नेपाल फरार होने की आशंका में यूपी एसटीएफ नेपाल बॉर्डर से लगे बस्ती और महाराजगंज जिले में उसकी तलाश कर रही है। हालांकि परिवार के लोगों का कहना है कि आशीष पांडेय आज किसी भी वक्त दिल्ली के कोर्ट में सरेंडर कर सकता है।
बता दें मंगलवार को दिल्ली पुलिस आशीष के लखनऊ स्थित संतुष्टि अपार्टमेंट में 301 नंबर फ्लैट पर पहुंची। उधर क्राइम ब्रांच की एक टीम आशीष के गोमतीनगर के विभव खंड स्थित घर पहुंची। यहां आशीष घर पर नहीं मिला। पुलिस अम्बेडकरनगर वाले घर पर भी पहुंची थी, लेकिन वह वहां भी नहीं मिला। बता दें, आरोपी आशीष पांडेय यूपी के नेता और पूर्व बसपा सांसद राकेश पांडेय का बेटा है। आशीष पर आरोप है कि वह शराब के नशे में पांच सितारा होटल के महिला टॉयलेट में घुस कर बदतमीजी कर रहा था। जब महिला ने इसका विरोध किया तो उसने उसे जान से मारने की धमकी दी।

दिल्ली-हावड़ा रेल मार्ग पर अप लाइन ट्रैक चटका

इटावा। दिल्ली-हावड़ा रेल मार्ग पर आज सुबह अप लाइन पर ट्रैक चटक जाने से यातायात ठप हो गया। घटना को लेकर रेलवे के अधिकारियों में हडक़ंप मच गया। भुवनेश्वर से दिल्ली जा रही राजधानी एक्सप्रेस को रेड सिग्नल पर रोक दिया गया। जानकारी के मुताबिक भरथना और साम्हों के बीच सुबह 6:20 बजे पटरी चटक गई। इस कारण करीब एक घंटे तक अप लाइन पर ट्रेनों का संचालन रुका रहा। वहीं पटरी को करीब एक घंटे में दुरस्त करके अप लाइन के ट्रैक को चालू कर दिया गया।

केरल के सबरी माला मंदिर में प्रवेश के लिए अड़ीं महिलाएं

  • क्षेत्र में तनाव, भारी संख्या में पुलिस बल तैनात

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
केरल। केरल के प्रसिद्ध सबरीमाला मंदिर के कपाट खुलने का काउंट डाउन शुरू हो गया है। मंदिर के कपाट आज शाम को खुलेंगे। जैसे-जैसे मंदिर के कपाट खुलने का समय नजदीक आ रहा है, वैसे-वैसे तनाव भी बढ़ता जा रहा है।
सुप्रीम कोर्ट द्वारा हर आयु की महिलाओं के मंदिर के प्रवेश पर लगी पाबंदी हटाने का फैसला आने के बाद पहली बार मंदिर के कपाट खुल रहे हैं। हालांकि कोर्ट के फैसले के बावजूद महिलाओं के मंदिर में प्रवेश को रोकने की कोशिश की जा रही है। कोर्ट के फैसले के चलते हर उम्र की हजारों महिला श्रद्धालु भगवान अयप्पा के दर्शन के लिए मंदिर परिसर में जुटने लगी हैं। वहीं, दूसरी ओर वो लोग भी वहां डेरा जमाए बैठे हैं, जो महिलाओं के प्रवेश के सख्त खिलाफ है। बता दें, सबरीमाला में महिलाओं के खिलाफ महिलाएं ही मैदान में उतर आईं हैं। जहां बड़ी संख्या में महिलाएं 10-50 साल की उम्र की महिलाओं के मंदिर प्रवेश के खिलाफ प्रदर्शन कर रही हैं। ये प्रदर्शन निलक्कल बेस कैंप के पास हो रहा है, जो कि मंदिर परिसर से करीब 20 किलोमीटर दूर स्थित है । इस बीच मंदिर परिसर के बाहर विरोध-प्रदर्शन और तनाव के मद्देनजर सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं। सुरक्षाकर्मियों को निलेक्कल और पंपा बेस कैंप पर तैनात किया गया है।

घर में शादी है तो एक महीना छुट्टी जाओ, फिर थोड़े आएगा ये मौका

  • एएसपी ग्रामीण गौरव ग्रोवर ने सामने रखी पुलिसकर्मियों की परेशानी, एसएसपी कलानिधि नैथानी ने लगाई मुहर
  • पुलिसकर्मियों के अंदर बढ़ रहे तनाव को देखते हुए उनकी शिकायतें दूर करने के लिए अधिकारी कटिबद्घ
  • आईजीआरएस की तर्ज पर गौरव ग्रोवर ने बनाया डीजीआरएस

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। यार घर में शादी पड़ी है पता नही कितने दिन की छुट्टïी मिलेगी, साहब क्या कहेंगे अवकाश देंगे या नहीं कुछ समझ में नहीं आ रहा है। यदि इस तरह की समस्या से पुलिसकर्मी परेशान हैं तो अब उन्हें चिंता करने की जरूरत नहीं है क्योंकि इस समस्या का समाधान एएसपी ग्रामीण गौरव ग्रोवर ने निकाल लिया है। उन्होंने विभागीय शिकायत निवारण प्रणाली(डीजीआरएस ) बनाई है। इसलिए अब पुलिसकर्मियों को अपनी समस्या और शिकायतों को लेकर परेशान होना नहीं पड़ेगा। क्योंकि अवकाश को कई भागों में बांटकर हर पुलिसकर्मी को अवकाश देने का निर्णय लिया गया है। क्योंकि एएसपी ग्रामीण गौरव ग्रोवर की इस व्यवस्था पर एसएसपी कलानिधि ने पुलिसकर्मियों की परेशानी को देखते हुए मुहर लगा दी है।
बता दें कि पहले जिस किसी भी पुलिसकर्मी के घर पर शादी होती थी वह अवकाश को लेकर परेशान रहता था। अवकाश के लिए अधिकारियों से मिलता तो अधिकारी फोर्स कम होने का बहाना बनाकर उसके अवकाश को कम कर देते थे। लेकिन अब ऐसा नहीं हो रहा है। एएसपी ग्रामीण गौरव ग्रोवर ने बताया कि अब जिस पुलिसकर्मी के घर शादी पड़ी है उसे एक माह का अवकाश दिया जा रहा है।
यदि वह पुलिसकर्मी सिर्फ बीस दिन का अवकाश मांग रहा है तो भी उसे एक माह का अवकाश दिया जा रहा है। ऐसा इसलिए है, क्योंकि शादी बार-बार नहीं होती है। यह एक ऐसा मौका है जिसके लिए हर व्यक्ति इंतजार करता है। वहीं घर की मरम्मत कराने के नाम पर 20 दिन, बीमारी के नाम पर एक माह व परिवार में किसी सदस्य की मौत होती है तो एक माह का अवकाश दिया जा रहा है।

डीजीआरएस का हुआ स्वागत

एएसपी ग्रामीण गौरव ग्रोवर के मुताबिक पुलिसकर्मियों के सामने समस्या बहुत आती है। कभी वेतन को लेकर तो कभी अन्य मामलों को लेकर। ऐसे में यदि ग्रामीण थानों पर पुलिसकर्मी तैनात है तो उसे अधिकारियों से मिलने शहर आना पड़ता है, जहां उसका पूरा दिन बर्बाद हो जाता है। लेकिन अब ऐसा बिल्कुल भी नहीं है। इसके लिए डीजीआरएस बनाया गया है। इसमें एक व्हाट्सएप नंबर भी जारी किया गया है। जिसे सिर्फ पुलिसकर्मी उपयोग कर सकते हैं। इसके साथ ही एक प्रोफार्मा भी है जिसको भरकर दे सकते हैं। इस फोन नंबर पर शिकायत आते ही उसे संबंधित विभाग को भेज दिया जाता है जहां उसकी समस्या का समाधान हो जाता है। अब तक लगभग दो सौ शिकायतें प्राप्त हुई है जिसमें डेढ़ सौ से ऊपर शिकायतों का समाधान किया जा चुका है।

क्या कहते हैं एएसपी ग्रामीण

एएसपी ग्रामीण गौरव ग्रोवर ने कहा कि इस व्यवस्था से जहां पुलिसकर्मियों के अंदर हौसला आया है। वहीं विभाग के प्रति उनका विश्वास भी बढ़ता है। मैं एसएसपी सर का शुक्रगुजार हूं कि उन्होंने मेरे निर्णय का समर्थन किया।

 

Pin It