डेंगू ने खोली स्वास्थ्य विभाग और नगर निगम के अभियानों की पोल, लगातार बढ़ रहे मरीज

  • एंटी लार्वा के छिडक़ाव और फॉगिंग में बरती जा रही लापरवाही
  • अब तक 150 लोग आ चुके चपेट में, बढ़ेगा प्रकोप

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क

लखनऊ। डेंगू ने स्वास्थ्य विभाग और नगर निगम के रोकथाम अभियानों की पोल खोल दी है। फॉगिंग और लार्वा छिडक़ाव के दावों के बावजूद राजधानी लखनऊ में डेंगू लगातार अपने पैर पसार रहा है। पिछले तीन दिनों में डेंगू के 10 नए मरीज सामने आए हैं। इनमें चार की हालत बेहद नाजुक हैं। पिछले दो महीने में करीब 150 लोग डेंगू की चपेट में आ चुके हैं।
शहरवासियों को डेंगू और मच्छरजनित बीमारियों से बचाने के लिए नगर निगम और स्वास्थ्य विभाग अभियान चलाने के दावे कर रहा है लेकिन डेंगू के मरीजों की संख्या विभागों की कार्यप्रणाली पर सवालिया निशान लगा रही है। डेंगू का बढ़ता प्रकोप खतरे की घंटी है क्योंकि दिवाली तक इन मामलों में और वृद्धि होने की आशंका है। जिस तेजी से डेंगू फैल रहा है, उस लिहाज से सावधानी बरतने की जरूरत है। अस्पतालों में दो दर्जन से अधिक मरीज भर्ती हैं। जिस इलाके में डेंगू के मरीज मिले हैं उन इलाकों को लेकर स्वास्थ्य विभाग ने सख्त आदेश दिए हैं। इन सभी क्षेत्रों में एंटी लार्वा के छिडक़ाव फॉगिंग का दावा किया जा रहा है। इसके अलावा स्वस्थ विभाग और नगर निगम के अफसरों लोगों को अपने घरों के आसपास जलभराव नहीं होने देने की हिदायत भी दे रहे हैं। वहीं प्रभावित क्षेत्रों में डेंगू के प्रकोप से साफ है कि यहां एंटी लार्वा और फागिंग में लापरवाही बरती जा रही है।

इन क्षेत्रों में प्रकोप

राजाजीपुरम, कैसरबाग, गोमतीनगर, लालकुआं, आलमबाग, नक्खास, तालकटोरा, डालीगंज, चारबाग, त्रिवेणी नगर, तेलीबाग, चिनहट, माडल हाउस, फैजुल्लागंज।

तापमान ने बढ़ाया खतरा

डेंगू के मरीजों की संख्या में वृद्धि हो रही हैं। दिन में 26 डिग्री सेल्सियस से ऊपर और रात में 15 डिग्री सेल्सियस तापमान इन मच्छरों के लिए अनुकूल है। राजधानी में यह स्थिति अगले 20 दिनों तक जारी रहेगा।

बरतें सावधानी
बारिश का पानी निकालने वाली नालियों, बाल्टियों, प्लास्टिक कवर व अन्य जगह पर पानी रूकने न दें। फव्वारों, पक्षियों के बर्तनों, गमलों आदि का पानी एक हफ्ते में बदल दें। बच्चें को सुलाने वाले कैरियर और अन्य बिस्तर को मच्छरदानी से ढक दें। लंबी बाजू की शर्ट, पैंट और जुराबें पहनकर मच्छरों से बचें। सूर्य के उदय और अस्त होने के समय घर के अंदर रहें क्योंकि मच्छर इस वक्त सबसे ज्यादा सक्रिय होते हैं।

 

Pin It