पिछड़ों के साथ छल कर रही भाजपा: माया

  • पिछड़ा वर्ग आयोग को संवैधानिक दर्जा देने संबंधी विधेयक पर दी प्रतिक्रिया
  • कहा, देश भर में चुनावी स्वार्थ की राजनीति कर रही भाजपा सरकार

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। बसपा सुप्रीमो मायावती ने कहा है कि दलितों और आदिवासियों की तरह अन्य पिछड़ा वर्ग के लोगों को उनके हक से वंचित रखने का प्रयास करने वाली भाजपा अब लोकसभा और कुछ राज्यों के विधानसभा चुनाव में इनको छलना चाहती है। सरकार की तरफ से पिछड़ा वर्ग आयोग को संवैधानिक दर्जा देने का विधेयक लाया जाना भाजपा के चुनावी स्वार्थ की राजनीति का परिणाम है।
मायावती ने कहा है कि भाजपा की चाल, चरित्र और चेहरा हमेशा से ही पिछड़ा वर्ग और इनके आरक्षण का घोर विरोधी रहा है। इन्होंने मंडल आयोग की रिपोर्ट को देश में लागू करने का देशभर में विरोध किया था। इसलिए भाजपा से ओबीसी वर्ग को सावधान रहना चाहिए। उन्होंने कहा कि पिछले सवा चार वर्षों के शासनकाल में केंद्र सरकार ने कुछ नहीं किया। अब जबकि लोकसभा और मध्य प्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ़ में विधानसभा चुनाव नजदीक आ गए हैं। तब पिछड़ा वर्ग आयोग को संवैधानिक दर्जा देने संबंधी विधेयक संसद में लाकर इस वर्ग को लुभाने का प्रयास किया जा रहा है। दरअसल यह ओबीसी वर्ग को छलने का भाजपा सरकार का यह प्रयास है, जिससे इन वर्गों को सावधान रहने की जरूरत है। आम चुनाव से पहले भाजपा की तरह-तरह की नाटकबाजी को जनता अच्छे से समझ रही है। जनता इनके बहकावे में नहीं आने वाली है।
मायावती ने कहा कि भाजपा के शीर्ष नेतृत्व को इस बात का जवाब देश को देना बाकी है कि इन्होंने पिछड़े वर्गों के 27 फीसदी आरक्षण दिए जाने से संबंधित मंडल आयोग की सिफारिशों को लागू करने का विरोध देशभर में क्यों किया था? इसके विरोध में ही 1990 में वीपी सिंह की गठबंधन वाली गैर कांग्रेसी सरकार को क्यों गिरा दिया था? उन्होंने कहा है कि भाजपा की केंद्र और राज्य सरकारों की सोच ओबीसी की हितैषी कतई नहीं है।

Pin It