विरासत को जिंदा रखने में सहायक हैं डाक टिकट

  • डाक टिकटों में दिखती है सभ्यता व संस्कृति की झलक

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। देश भर में राष्ट्रीय डाक सप्ताह मनाया जा रहा है। इसी कड़ी में शुक्रवार को राजधानी में आयोजित फिलेटली दिवस के दौरान निदेशक डाक सेवा लखनऊ कृष्ण कुमार यादव ने कहा कि किसी भी राष्ट्र की सभ्यता, संस्कृति एवं विरासत की झलक टिकटों में दिखती है। हर डाक टिकट के पीछे एक कहानी होती है जो युवाओं का जोडऩे का काम करती है। इसलिए हमें डाक टिकटों के महत्व को समझना होगा।
निदेशक ने कहा कि डाक टिकट इतिहास, कला, विज्ञान, व्यक्तित्व, वनस्पति, जीव-जन्तु, राजनयिक सम्बन्ध एवं जनजीवन से जुड़े विभिन्न पहलुओं को दर्शाते हैं। उन्होंने डाक टिकटों को नन्हा राजदूत बताते हुए कहा कि डाक टिकट ही है जो विभिन्न देशों का भ्रमण करता है और उन्हें अपनी सभ्यता, संस्कृति और विरासत से अवगत कराता है। लखनऊ जीपीओ के चीफ पोस्टमास्टर योगेंद्र मौर्य ने बताया कि फिलेटली डे पर तमाम स्कूली बच्चों ने डाकघर की कार्यप्रणाली के बारे में भी सीखा और राष्ट्रीय स्तर की प्रतियोगिताओं में भाग लिया। इस अवसर पर मधुसूदन मिश्र, टीपी सिंह, आरएन यादव आदि उपस्थित रहे।

Pin It