सीजीएम अखिलेश सिंह के नाम से कांपती है हजरतगंज पुलिस, कैसे करेगी गिरफ्तार

  • सीजीएम अखिलेश के खिलाफ दर्ज हैं रेप समेत कई धाराओं में मुकदमा
  • विभाग ने भी नहीं की कोई कार्रवाई, सभी हैं इस मामले में खामोश

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। अनपरा तापीय परियोजना के मुख्य महाप्रबंधक (सीजीएम) अखिलेश सिंह के खिलाफ पुलिस भले ही कार्रवाई करने की बात कर रही हो लेकिन हालत इसके उलट हैं। आरोपी कई बार लखनऊ में मौजूद रहा लेकिन पुलिस उसे गिरफ्तार करने की हिम्मत नहीं कर सकी। पुलिस सूत्रों की मानें तो अखिलेश सिंह के नाम से हजरतगंज पुलिस कांपती है। ऐसे में उसे गिरफ्तार करना बहुत बड़ी बात है। वहीं पुलिस का कहना है कि इस मामले में कोर्ट का स्ट्रे ऑर्डर है, लेकिन ऑर्डर की गोपनीयता क्या है, इसे कोई बता नहीं रहा है। दूसरी तरफ गौर करें तो सवाल उठता है कि पुलिस की यह कैसी कार्रवाई है जिसमें आरोपी स्ट्रे ऑर्डर पा जाता है और पुलिस को इसकी जानकारी बाद में लगती है। अखिलेश सिह पर एक युवती ने रेप सहित तमाम मामलों में मुकदमा दर्ज कराया है।
अनपरा तापीय परियोजना में मुख्य महाप्रबंधक अखिलेश सिंह के खिलाफ हजरतगंज में एक युवती ने रेप सहित कई अन्य धाराओं में मुकदमा दर्ज कराया है। यह मुकदमा 18 जून 2018 को दर्ज हुआ लेकिन कार्रवाई के नाम पर पुलिस ने कुछ नहीं किया। आरोप है कि अखिलेश सिंह ने युवती से झूठ बोलकर उससे शादी की। बाद में पता चला कि अखिलेश सिंह के चार बेटे और एक बेटी है। युवती का आरोप है कि इसकी जानकारी जब अखिलेश की पत्नी को हुई तो उसने भी उसे धमकी दी। युवती ने बताया कि अखिलेश उसे एक काम के सिलसिले में लखनऊ बुलाया और होटल रेजीडेंसी में धोखे से नींद की गोली खिलाकर कई बार बलात्कार किया।
युवती ने बताया कि बेहोशी से जब मैं जागी तो इसका विरोध किया। इस पर अखिलेश ने उसकी पिटाई कर दी। वह जैसे-तैसे कोतवाली पहुंची जहां कई बार दौड़ाने के बाद मुकदमा दर्ज किया गया लेकिन कार्रवाई नहीं की गई। युवती के मुताबिक कोतवाल कहते हैं इस मामले में कोर्ट से अखिलेश सिंह को स्ट्रे ऑर्डर मिला है।

होगी कार्रवाई: सीओ

हजरतगंज सीओ अभय कुमार मिश्रा का कहना है कि रेप संगीन जुर्म है। इसमें कठोर कार्रवाई होगी। किसी भी प्रकार की लापरवाही बर्दाश्त नहीं होगी।

Pin It