रायबरेली में न्यू फरक्का एक्सप्रेस हादसे का शिकार, 7 की मौत, 40 घायल

  • मृतकों में दो बच्चे और एक महिला शामिल, राहत और बचाव कार्य में जुटीं टीमें
  • गलत ट्रैक पर जाने से हुआ हादसा, रेलवे देगी 5-5 लाख का मुआवजा
  • फरक्का से नई दिल्ली जाते समय हरचंदपुर स्टेशन के पास पटरी से उतरी ट्रेन

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क

लखनऊ। फरक्का से चलकर रायबरेली होते हुए नई दिल्ली जा रही न्यू फरक्का एक्सप्रेस हरचंदपुर स्टेशन के पास हादसे का शिकार हो गई। टे्रन की नौ बोगियां पटरी से उतर गईं। हादसे में सात लोगों की मौत हो गई जबकि 40 अन्य घायल हो गए। घायलों को विभिन्न अस्पतालों में भर्ती कराया गया है। मृतकों में दो बच्चे और एक महिला शामिल है। एनडीआरएफ की दो टीमें घटनास्थल पर भेजी गई हैं। राहत और बचाव का काम तेजी से हो रहा है। घटना की सूचना के बाद रेलवे ने मृतकों के परिजनों को पांच-पांच लाख का मुआवजा देने का ऐलान किया है। मृतकों की संख्या बढ़ सकती है। ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा ने बताया कि मंत्री नंद गोपाल और स्वामी प्रसाद मौर्या मौके पर पहुंचे गए हैं।
उत्तर रेलवे के एडीआरएम काजी महाराज अलाम ने बताया कि 14003 न्यू फरक्का एक्सप्रेस बेपटरी हुई है। इसके लिए रेलवे ने हेल्पलाइन नंबर जारी कर दिए हैं। वहीं डीजीपी ओपी सिंह ने एनडीआरएफ की दो टीमों को घटनास्थल पर भेजा है। रायबरेली की एसपी सुजाता सिंह ने बताया कि अभी तक 7 लोगों की मौत हुई है। घायलों का इलाज कराया जा रहा है। मौके पर डीएम और सीएमओ भी मौजूद हैं। ट्रेन फरक्का से चलकर रायबरेली होते हुए नई दिल्ली जा रही थी। तभी हरचंदपुर आउटर के पास गलत ट्रैक पर जाने की वजह से यह हादसा हो गया। सुबह करीब छह बजे यह हादसा हुआ। हादसे के समय सभी यात्री गहरी नींद में थे। अचानक बोगियां पटरी से उतर गईं। देखते ही देखते चीख-पुकार मच गई। आवाज सुनते ही आसपास के लोग फौरन मदद को दौड़ पड़े। स्थानीय पुलिस और एंबुलेंस भी मौके पर पहुंच गई। रेल मंत्री पीयूष गोयल ने इस घटना में मारे गए लोगों के परिजनों को रेलवे की तरफ से 5-5 लाख रुपये का मुआवजा देने का ऐलान किया है।

कई ट्रेनें निरस्त, कई का बदला गया रूट

ट्रेन हादसे के चलते 13 ट्रेनें प्रभावित हुई हैं। रेलवे प्रशासन ने हादसे की जानकारी मिलते ही कई ट्रेनों का रूट बदल दिया और कई टे्रनों को निरस्त कर दिया। घटना में छह कोच पटरी से उतर गये, जिसके चलते दिल्ली और रायबरेली रेलवे ट्रैक बाधित हो गया।

मुख्यमंत्री ने जताया दुख, मुआवजे का ऐलान

सीएम योगी आदित्यनाथ ने ट्रेन हादसे पर दुख जताते हुए मृतकों के परिजनों को 2-2 लाख रुपये और गंभीर रूप से घायलों को 50-50 हजार रुपये के मुआवजे का ऐलान किया है।

कीमत नहीं, राफेल विमान डील की प्रक्रिया बताए सरकार: सुप्रीम कोर्ट

  • सीलबंद लिफाफे में जानकारी देने को कहा, 31 अक्टूबर को होगी अगली सुनवाई

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने सरकार से कहा है कि वह बताए कि उसने राफेल डील को कैसे अंजाम दिया है। इस डील की प्रक्रिया सरकार 29 अक्टूबर तक उपलब्ध कराए। मामले की अगली सुनवाई 31 अक्टूबर को होगी।
मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई ने अटॉर्नी जनरल से कहा कि सरकार से कहिए कि इस बारे में कोर्ट को सूचित किया जाए कि राफेल डील कैसे हुई। हम राफेल विमान की कीमत या एयरफोर्स के लिए इसकी उपयोगिता के बारे में नहीं पूछ रहे हैं। अटॉर्नी जनरल ने कहा कि यह राष्ट्रीय सुरक्षा का मामला है। यह जनहित याचिका नहीं है, बल्कि चुनावों के समय राजनीतिक फायदे के लिए लाई गई याचिका है। यह न्यायिक समीक्षा का मामला नहीं है। इस मामले में याचिकाकर्ता वकील मनोहर लाल व विनीत ढांडा ने मांग की है कि फ्रांस और भारत के बीच आखिर क्या समझौता हुआ है उसे सार्वजनिक किया जाए। राफेल की वास्तविक कीमत भी बताई जाए। गौरतलब है कि कांग्रेस राफेल की कीमतों को लेकर सरकार पर अनियमितता बरतने का आरोप लगाती रही है।

गडकरी बोले, सत्ता में आने के लिए किए बड़े-बड़े वादे, राहुल ने कहा, सही फरमाया

  • मराठी चैनल को दिए इंटरव्यू पर कांग्रेस ने केंद्रीय मंत्री पर बोला हमला, पहले भी पार्र्टी की किरकिरी करा चुके हैं गडकरी

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
नई दिल्ली। केंद्रीय सडक़ परिवहन मंत्री और भाजपा के वरिष्ठ नेता नितिन गडकरी ने ऐसा बयान दिया है, जिससे पार्टी की फजीहत हो सकती है। गडकरी एक मराठी चैनल को दिये इंटरव्यू में कहा कि हमें 2014 के लोकसभा चुनाव में लंबे-चौड़े वादे करने की सलाह दी गई थी क्योंकि हमें लग रहा था कि हम सत्ता में नहीं आएंगे। इस वीडियो को कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने साझा करते हुए ट्वीट किया है। कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि सही फरमाया, जनता भी यही सोचती है कि सरकार ने लोगों के सपनों और उनके भरोसे को अपने लोभ का शिकार बनाया है।
नितिन गडकरी ने मराठी में कहा कि हमलोग इस बात को लेकर आश्वस्त थे कि सत्ता में कभी नहीं आएंगे। हमें लंबे-चौड़े वादे पेश करने की सलाह दी गई। अब हम सत्ता में हैं और लोग हमारे उन वादों के बारे में पूछते हैं तो हम मुस्कुराते हुए आगे बढ़ जाते हैं। वीडियो में नितिन गडकरी और नाना पाटेकर मराठी कलर्स टीवी के शो में बातचीत कर रहे हैं। इससे पहले मराठा आरक्षण आंदोलन के दौरान गडकरी ने कहा था, मान लीजिए आरक्षण दे दिया जाता है लेकिन कोई नौकरी नहीं है नौकरियां कहां हैं? इस बयान पर भी कांग्रेस ने उन्हें घेरा था।

Pin It