बूथों पर प्रचार का खेल जारी, अब विज्ञापन एजेंसी की सिफारिश में जुटी ट्रैफिक पुलिस

  • बूथ आवंटित करने के लिए ट्रैफिक पुलिस ने नगर निगम को लिखा पत्र
  • नगर निगम ने कहा चौराहे पहले से आवंटित, बिना अनुमति एजेंसी करती है अवैध प्रचार

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। शहर में ट्रैफिक बूथ के नाम पर प्रचार का खेल जारी है। इस खेल में यातायात विभाग भी शामिल हो गया है। शहर के फुटपाथों पर सौ से अधिक ट्रैफिक बूथ वैध और अवैध रूप से संचालित हैं। तमाम ऐसे पुलिस बूथ हैं जिन पर केवल विज्ञापन प्रदर्शित किए जा रहे हैं। आलम यह है कि ऐसे पुलिस बूथों का उपयोग न तो ट्रैफिक पुलिस कर रही है न ही सिविल पुलिस। बावजूद इसके यातायात विभाग विज्ञापन एजेंसियों के लिए नगर निगम से पैरवी करने में जुटा है।
बाबा घुईसरनाथ एडवरटाइजर्स एजेंसी ने बीते दिनों ट्रैफिक पुलिस को पत्र भेज कर शहर के चौराहों पर पुलिस बूथ की अनुमति मांगी थी। एजेंसी ने बाराबिरवां (अवध चौराहा), पॉलिटेक्निक चौराहा और लालबत्ती चौराहे पर ट्रैफिक बूथ की अनुमति मांगी थी।
इसी क्रम में यातायात पुलिस ने नगर निगम से बाबा घुईसरनाथ एडवरटाइजर्स के लिए ट्रैफिक बूथ की पैरवी की जबकि इन चौराहों पर पहले से ही पुलिस बूथ आवंटित हैं। जवाब में नगर निगम ने ट्रैफिक बूथ आवंटित करने से साफ मना कर दिया। अपर नगर आयुक्त अनिल मिश्र ने बताया कि उक्त स्थनों पर पहले से ट्रैफिक बूथ आवंटित हैं। ऐसे में कोई अनुमति नहीं दी जा सकती।

एजेंसी पर अवैध प्रचार का आरोप
नगर निगम ने बाबा घुईसरनाथ एडवरटाइजर्स को जहां एक ओर विज्ञापन लगानेे की अनुमति नहीं दी वहीं दूसरी ओर एजेंसी पर अवैध प्रचार का आरोप भी लगाया। अपर नगर आयुक्तने अपने पत्र में लिखा है कि उक्त प्रचार एजेंसी पिकड़ली मोड पर दूसरी प्रचार एजेंसी के ट्रैफिक बूथ पर अवैध रूप से प्रचार कर रही है, जिसको हटवाने के लिए निर्देश दें।

 

Pin It