भाई की मौत, मां विधवा, अब कैसे होगी बहनों की शादी

  • बिजली विभाग में संविदा पर कार्यरत राकेश की करंट लगने से हुई थी मौत

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क

लखनऊ। परिवार में एकमात्र कमाने वाले राकेश की करंट लगने से मौत के बाद परिवार पर संकट आ गया है। एक ओर विधवा मां है तो दूसरी तरफ तीन-तीन बहने हैं। राकेश बिजली विभाग में संविदा पर तैनात था। कुछ दिन पूर्व विभाग की लापरवाही के कारण करंट लगने से उसकी मौत हो गई थी। मौत से पूरा परिवार सदमे में आ गया है। परिजनों के सामने आर्थिक संकट खड़ा हो गया है। घर में मौजूद तीनों बेटियों की शादी अब कौन करेगा? विधवा मां के सामने यह सवाल मुंहबाए खड़ा है।
मामला विकास नगर थाना क्षेत्र के 652-352 सबौली सेक्टर सी जानकीपुरम का है। जहां राकेश अपनी बूढ़ी मां शांति देवी व अपनी तीन बहनों सुमन, किरन, लक्ष्मी के साथ रहता था। वह बिजली विभाग में संविदा पर तैनात था, लेकिन चार दिन पहले जिस घर में खुशियां बस्ती थी आज वहां पर दुखों का डेरा है। राकेश ही परिवार का सहारा था। उसी के खर्च पर पूरा परिवार चलता था। परिजनों का कहना है कि चार दिन पहले उनकी ड्यूटी समाप्त हो गई थी इसके बाद भी ठेकेदार ने बुलाया और लाइन ठीक करने को कहा। लाइन ठीक करने के दौरान राकेश पोल पर चढ़ा। इसी दौरान विभाग के कर्मचारियों ने विद्युत सप्लाई भी ऑन कर दी जिससे राकेश की मौके पर ही मौत हो गई। इस मामले में राकेश के परिजनों को मात्र 1,20,000 मुआवजा दिया गया, जबकि उसी राकेश की तीन बड़ी बहनें हैं जिनकी उम्र क्रमश: 40 साल 35 साल 32 साल है। राकेश की मां शांति बताती हैं राकेश बड़ी बहन की शादी के लिए लडक़ा देख रहा था लेकिन यह घटना होने से सबके सामने अंधेरा छा गया है।

Pin It