उपभोक्ता फोरम के आदेश से एलडीए में हडक़ंप

  • फैसले की अनदेखी पर जज राजर्षि शुक्ला ने जताई नाराजगी

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। उपभोक्ता फोरम के आदेश का उल्लंघन एलडीए को भारी पड़ गया। अवमानना पर उपभोक्ता फोरम के न्यायाधीश राजर्षि शुक्ला के ताजा आदेश से एलडीए में हडक़ंप मच गया है।
मामला कुंवर बहादुर सिंह के वाद से जुड़ा है। एलडीए की हायर परचेज स्कीम के तहत उन्हें 1993 में एक मकान आवंटित किया गया था। इसके लिए वह 5,470 रुपये की किस्त जमा कर रहे थे। कुछ कारणों से वह कुछ किस्तें नहीं जमा कर सके। इसके चलते एलडीए ने मकान के बैनामे से इनकार कर दिया। इस पर कुंवर बहादुर सिंह ने 2009 में उपभोक्ता फोरम में वाद दायर कर न्याय की मांग की। वाद पर तत्कालीन न्यायाधीश विनोद शंकर चौबे ने एलडीए को 4 प्रतिशत ब्याज दर लगाकर 22 हजार रुपये लेकर बैनामा करने का आदेश दिया, लेकिन एलडीए ने आदेश नहीं माना। इसके बाद केस रिकवरी के लिए फोरम में चला गया, जिसके बाद आदेश हुआ कि वादी से 4.1 ब्याज दर पर 45,643 रुपये लेकर बैनामा कर दिया जाए। एलडीए ने इस आदेश को भी अनदेखा कर दिया। इस मामले पर सुनवाई होने पर उपभोक्ता फोरम के न्यायाधीश राजर्षि शुक्ला ने एलडीए वीसी को 24 अक्टूबर को पेश होने को कहा है।

Pin It