पाक महिला जासूस की रंगीली बातों में आकर बीएसएफ के जवान ने दे दी देश की ख़ुफिया जानकारी

  • एटीएस ने नोएडा से किया गिरफ्तार, खुफिया जानकारी और नक्शे भेजता था जवान
  • पाकिस्तान के नंबर पर महिला से लगातार बात करता था सिपाही
  • महिलाओं के जरिए जवानों को फंसा रही पाक खुफिया एजेंसी आईएसआई

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क

लखनऊ। भारत की खुफिया एजेंसी इस बात से बहुत परेशान है कि आईएसआई खूबसूरत महिलाओं के जरिए सेना और सुरक्षा बलों के अफसरों और जवानों को फंसा रही है और उनसे देश की खुफिया जानकारी हासिल कर रही है। एटीएस ने बीएसएफ के एक कॉन्स्टेबल को गिरफ्तार किया है जो इसी तरह पाकिस्तान की एक महिला की रसीली बातों में आ गया और उसे देश की खुफिया जानकारी भेजने लगा। कॉन्स्टेबल को महिला ने अपनी मोहब्बत के जाल फंसाया और फिर उसे ब्लैकमेल करके जानकारियां लेनी शुरूकर दी। बताया जाता है कि इस तरह कई लोगों को व्हाट्सएप व फेसबुक के जरिए ब्लैकमेल करने का पाकिस्तान का यह नया पैंतरा है। एक बार जब जवान इस जाल में फंसते हैं तो उससे अश्लील चैटिंग शुरू होती है। मोहब्बत में अंधा जवान अपने अश्लील वीडियो महिला को भेजता हैं जिसके बाद उससे कहा जाता है कि या तो जैसा कहा जा रहा है वैसा करो वरना यह टेप जारी कर दिये जायेंगे।
बीएसएफ जवान अच्युतानंद मिश्रा पर विदेशी खुफिया एजेंसी को गुप्त सूचनाएं देने का आरोप है। बीएसएफ के इस जवान को यूपी एंटी टेरर स्क्वायड (एटीएस)ने नोएडा से गिरफ्तार किया है। बीएसएफ जवान अच्युतानंद मिश्रा मूल रूप से मध्यप्रदेश के रीवा जनपद का रहने वाला है। बीएसएफ जवान सोशल मीडिया पर एक महिला द्वारा हनीट्रैप का शिकार हुआ। उसके बाद वह विदेशी एजेंसियों को सेना की खुफिया जानकारी देने लगा। गिरफ्तार जवान पाकिस्तान के नंबर पर लगातार महिला से बात कर रहा था। गिरफ्तार जवान ने पूछताछ में इस बात को स्वीकार किया है कि उसने महिला के फेक आईडी पर चैट के माध्यम से सेना की खुफिया जानकारी के साथ नक्शे और कुछ दस्तावेज आईएसआई को दिए हैं। गिरफ्तार जवान के खिलाफ सुरक्षा गोपनीयता एक्ट की धारा 3, 4, 5 और 9, 121ए व इनफार्मेशन टेक्नोलॉजी एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है। एटीएस इस बात का भी पता लगा रही है कि खुफिया जानकारी के लिए कहीं पैसों का लेनदेन तो नहीं हुआ। साथ ही यह भी पता लगाने की कोशिश की जा रही है कि कहीं और जवान तो इस महिला के शिकार नहीं हुए हैं। गौरतलब है कि पिछले दिनों ही यूपी एटीएस ने हिजबुल के संदिग्ध आतंकी कमर-उज-जमां को गिरफ्तार किया था। कमर गणेश चतुर्थी के मौके पर किसी बड़े हमले की तैयारी में था।

सिपाही के फोन से मिले हैं सबूत: डीजीपी
डीजीपी ओपी सिंह ने बताया कि सिपाही के मोबाइल फोन से साइबर सबूत मिले हैं। इस नेटवर्क में कौन-कौन लोग हंै, इसे कितना पैसा मिलता था, सिपाही ने आईएसआई को क्या सूचनाएं भेजी हैं, इसकी जानकारी की जा रही है। इसके साथ ही सशस्त्र बलों के जवानों को और सक्रिय किया जायेगा।

अब अपराध होगा तीन तलाक, मोदी कैबिनेट ने अध्यादेश को दी मंजूरी

  • छह महीने में संसद से पास कराना होगा अध्यादेश, पीडि़ता या उसका सगा रिश्तेदार दर्ज करा सकेगा केस

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की कैबिनेट ने आज तीन तलाक को दंडनीय अपराध बनाने वाले अध्यादेश को मंजूरी दे दी। संसद के मानसून सत्र के दौरान राज्यसभा में हंगामे और राजनीतिक सहमति न बन पाने की वजह से तीन तलाक पर संशोधन बिल पास नहीं हो सका था। अध्यादेश छह महीने तक लागू रहेगा। इस दौरान सरकार को इसे संसद से पारित कराना होगा।
अध्यादेश को मंजूरी मिलने के साथ अब तीन तलाक पर संशोधन बिल के प्रावधानों के मुताबिक कानूनी कार्रवाई की जा सकेगी। इसके मुताबिक तीन तलाक मामले में पीडि़ता या उसका सगा रिश्तेदार केस दर्ज करा सकेगा। मजिस्ट्रेट को जमानत देने का अधिकार दिया गया है। संशोधन से पहले इसे गैरजमानती और संज्ञेय अपराध की श्रेणी में रखा गया था। मजिस्ट्रेट के सामने पति-पत्नी में समझौते का विकल्प खुला रहेगा। अध्यादेश को मंजूरी मिलने के बाद उत्तर प्रदेश में शिया वक्फ बोर्ड के चेयरमैन वसीम रिजवी ने कहा कि यह महिलाओं की जीत है। कट्टरपंथी समाज के खिलाफ हिंदू और मुस्लिम समाज पीडि़त महिलाओं के साथ हैं। गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट ने तीन तलाक को लेकर केंद्र सरकार से छह महीने में कानून बनाने के लिए कहा था। भाजपा सरकार ने इस बिल को संसद में पारित कराने की कोशिश की लेकिन वह सफल नहीं हो सकी लिहाजा उसने अध्यादेश के जरिए इसे लागू किया है।

तीन तलाक पर अध्यादेश लाना जरूरी था। इससे मुस्लिम महिलाओं को इंसाफ मिलेगा। इस मामले में विपक्ष को सियासत नहीं करनी चाहिए।
-रविशंकर प्रसाद,कानून मंत्री

भाजपा ने मुस्लिम महिलाओं के न्याय के लिए नहीं बल्कि अपने सियासी फायदे के लिए यह अध्यादेश जारी किया है।
-रणदीप सुरजेवाला वरिष्ठï कांग्रेस नेता

बिना हेलमेट भाजपा महिला मोर्चा ने निकाली बाइक रैली

  • यातायात नियमों की धज्जियां उड़ते देखती रही पुलिस

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। एक ओर प्रदेश सरकार की पुलिस सडक़ सुरक्षा को लेकर बिना हेलमेट लगाए दो पहिया चालकों के खिलाफ अभियान चला रही है वहीं भाजपा महिला मोर्चा के कार्यकर्ता यातायात नियमों की धज्जियां उड़ा रहे हैं। आज शहर में महिला मोर्चा के कार्यकर्ताओं ने बिना हेलमेट बाइक रैली निकाली लेकिन पुलिस मूकदर्शक बनी रही। महिला मोर्चा की राष्टï्रीय अध्यक्ष विजया रहाटकर के आगमन पर कार्यकर्ताओं ने वीवीआईपी गेस्ट हाउस से हजरतगंज स्थित बीजेपी कार्यालय तक रैली निकाली। भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष महेंद्रनाथ पांडेय ने हरी झंडी दिखाकर रैली को रवाना किया। रैली में कार्यकर्ताओं ने यातायात नियमों को दरकिनार कर बिना हेलमेट के बाइक रैली निकाली।

 

Pin It