स्मार्ट सिटी के काम में ढिलाई बरतने वाले अफसरों पर होगी कार्रवाई: योगी

  • कहा, पानी व सीवर की सुविधा उपलब्ध कराने में तत्परता दिखाएं संबंधित विभागों के अधिकारी
  • 15 दिसंबर तक नदियों में गिरने वाले नालों के पानी पर रोक लगाने के सख्त निर्देश

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रदेश के 10 शहरों को स्मार्ट बनाने के कामों में रुचि न लेने वाले अफसरों को चिन्हित कर दंडित करने के निर्देश दिए हैं। इसके साथ ही कड़े शब्दों में कहा कि 15 दिसंबर के बाद नालों का गंदा पानी नदियों में बिल्कुल भी न गिरने दें। पानी व सीवर कनेक्शन देने के अभियान में और तेजी लाई जाए।
मुख्यमंत्री ने मंगलवार को स्मार्ट सिटी, अमृत और नमामि गंगे परियोजनाओं की समीक्षा की। इस दौरान उन्होंने कहा कि जनवरी 2019 में कुंभ शुरू हो रहा है। इसलिए नदियों को साफ रखने के भरसक प्रयास किए जाएं। नादियों में गिरने वाले नालों को हरहाल में रोका जाए। टेनरियों का गंदा पानी गंगा में जाने से रोका जाए। इसके साथ ही फैक्ट्रियों में ट्रीटमेंट प्लांट अनिवार्य रूप से चलवाए जाएं। उन्होंने शहरों में अभियान चलाकर पानी व सीवर कनेक्शन देने का निर्देश दिए। जल निगम को 13 लाख घरों में पानी व 9.70 लाख घरों में सीवर का कनेक्शन देने का लक्ष्य दिया गया है। इसके बाद भी पानी के सवा दो लाख व सीवर के ढाई लाख कनेक्शन ही दिए गए। योगी ने प्रमुख सचिव नगर विकास मनोज कुमार सिंह को निर्देश दिए हैं कि पानी व सीवर कनेक्शन देने के अभियान में और तेजी लाई जाए।

छह लाख नए लाभार्थियों को मिलेगी वृद्धावस्था पेंशन
लखनऊ। आर्थिक रूप से कमजोर छह लाख नए लाभार्थियों को वृद्धावस्था पेंशन दी जाएगी। यह वे लोग हैं जो हाल ही में मुख्यमंत्री द्वारा कराए गए सर्वेक्षण में सामने आए हैं। इन्हें किसी भी प्रकार की पेंशन योजना का लाभ नहीं मिल रहा है। मुख्यमंत्री ने समाज कल्याण विभाग को एक माह के भीतर इनकी पेंशन स्वीकृत करने के निर्देश दिए हैं। बता दें, मुख्यमंत्री ने सर्वेक्षण कर ऐसे पात्रों की सूची बनाने के निर्देश दिए थे जिन्हें पात्रता के बावजूद किसी भी पेंशन योजना का लाभ नहीं मिल पा रहा है। सरकार को ऐसे छह लाख बुजुर्ग मिले हैं। मुख्यमंत्री का निर्देश मिलते ही समाज कल्याण मंत्री रमापति शास्त्री ने मंगलवार को प्रमुख सचिव मनोज सिंह से एक माह के भीतर इनकी पेंशन स्वीकृत करने के लिए कहा है। इन्हें सरकार 400 रुपये महीना वृद्धावस्था पेंशन देगी।

स्मार्ट सिटी में होगा बीस हजार करोड़ का काम
मुख्यमंत्री ने स्मार्ट सिटी परियोजना में 10 शहरों लखनऊ, वाराणसी, कानपुर, आगरा, झांसी, इलाहाबाद, अलीगढ़, मुरादाबाद, सहारनपुर व बरेली में होने वाले कामों की समीक्षा की। स्मार्ट सिटी में 20 हजार करोड़ रुपये का काम होना है। स्मार्ट सिटी की प्रगति अच्छी नहीं है। इसलिए मुख्यमंत्री ने निर्देश दिया कि स्मार्ट सिटी परियोजना में टेंडर देने के साथ काम जल्द शुरू कराए जाएं। शहरों में ट्रैफिक की व्यवस्था ठीक की जाए। वहीं सडक़ें बेहतर करने के साथ अन्य जरूरी काम भी कराए जाएं।

Pin It