मृतक आश्रितों के भुगतान पर कुंडली मारे बैठा नगर निगम

  • एक साल बीतने के बाद भी नहीं मिला मृत सफाई कर्मी के परिवार को लाभ

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। नगर निगम में मृत कर्मियों के आश्रितों को परिवारिक पेंशन समेत तमाम देयकों के भुगतान के लिए बाबुओं की परिक्रमा करनी पड़ रही है। आलम यह है कि मृतक आश्रितों को कई वर्षों तक भटकने के बाद भी उनको पेंशन और अन्य सुविधाएं नहीं दी जाती है। कई मामले प्रकाश में आने के बाद भी आश्रित परिवारों की ओर ध्यान नहीं दिया जा रहा है। दूसरी ओर नगर निगम के कर्मचारी संघ के पदाधिकारी भी इस मामले में कुछ नहीं कर पा रहे हैं।
नगर निगम जोन-एक के गणेशगंज में सफाई कर्मी के पद पर कार्यरत गुलजारी लाल की मौत 26 दिसम्बर 2017 में हुई थी। मौत के बाद अभी तक गुलजारी लाल के परिवार को कोई भुगतान नहीं किया गया है। मामले को लेकर मृतक गुलजारी लाल की पत्नी ललिता ने नगर आयुक्त इन्द्रमणि त्रिपाठी से गुहार लगाई है। सण्डीला के निचला महतवाना निवासी ललिता का कहना है कि पति की मौत के एक साल बीत गए लेकिन अभी तक बीमा, भविष्य निधि, पेंशन, अर्जित अवकाश आदि का भुगतान नहीं मिला है। बता दें कि यह कोई पहला मामला नहीं है जब नगर निगम में किसी मृतक आश्रित के परिवार को सालों से चक्कर लगाने पड़ रहे हो बल्कि मौजूदा समय में दर्जनों मामले प्रकाश में आ चुके हैं।

भविष्य निधि, अर्जित अवकाश समेत तमाम देयक बकाया, भुगतान के नाम पर लिया जाता है कमीशन

मामला संज्ञान में आया है। प्रकरण की जांच करा कर देयकों का भुगतान कराया जाएगा। दोषी के खिलाफ कार्रवाई होगी।
-अनिल मिश्र, अपर नगर आयुक्त

लेखा विभाग के अफसर पैसा लेकर भुगतान कर रहे हैं। विभाग में किसी प्रकार का सिस्टम विकसित नहीं हो सका है। इसके कारण विभिन्न समस्याएं सामने आ रही हैं।
-शशि मिश्रा,अध्यक्ष, उत्तर प्रदेश नगर निगम-जलकल कर्मचारी संघ

Pin It