हेलीकॉप्टर की हवा से उड़ गई रेड कार्पेट बाल-बाल बचे नगर विकास मंत्री सुरेश खन्ना

  • बदायूं में एक कार्यक्रम में हिस्सा लेने गये थे नगर विकास मंत्री

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। प्रदेश सरकार के नगर विकास मंत्री सुरेश खन्ना शुक्रवार को हुए एक हादसे में बाल-बाल बच गये। बदायूं में एक कार्यक्रम में शामिल होने गये सुरेश खन्ना के हेलीकॉप्टर की तेज हवा से हेलीपैड के पास बिछा रेड कार्पेट उडऩे लगा। यह देखकर वहां मौजूद अधिकारियों के होश उड़ गये। किसी तरह पुलिसकर्मियों ने मोर्चा संभाला और खड़े होकर रेड कार्पेट को कवर किया। यदि पुलिस सजग न रहती तो कोई भी बड़ा हादसा हो सकता था। फिलहाल किस अधिकारी ने मंत्री जी के स्वागत में रेड कार्पेट बिछाने की इजाजत दी थी, इसकी जानकारी की जा रही है।
प्रदेश में मुख्यमंत्री और मंत्रियों को खुश करने के लिए रेड कार्पेट बिछाने का चलन नया नहीं है। इससे पूर्व सीएम योगी आदित्यनाथ के स्वागत में भी कई जगह रेड कार्पेट बिछाए जा चुके हैं। ताजा मामला संसदीय कार्य एवं नगर विकास मंत्री सुरेश खन्ना से जुड़ा है। वह बदायूं दौरे पर गए थे। अधिकारियों ने कैबिनेट मंत्री को खुश करने के लिए हेलीपैड के पास और गेस्ट हाऊस में रेड कार्पेट बिछवाया था। पुलिस लाइन में उतरने के बाद मंत्री को गार्ड ऑफ ऑनर दिया गया। इसके बाद जब मंत्री सुरेश खन्ना वापस जाने के लिए हेलीकॉप्टर में बैठे और पॉयलट ने हेलीकॉप्टर को टेक ऑफ कराने का प्रयास किया तो रेड कार्पेट उडऩे लगी। कार्पेट हेलीकॉप्टर के काफी करीब पहुंचने वाली थी कि तभी वहां मौजूद पुलिसकर्मियों ने सतर्कता दिखाई और तुरंत कार्पेट खींच कर उस पर खड़े हो गये। एक पल के लिए हेलीकॉप्टर में बैठे मंत्री, पॉयलट और वहां मौजूद हर किसी की सांसे ऊपर नीचे होने लगी थीं। यदि कार्पेट हेलीकॉप्टर के पंखे में फंस जाता तो बड़ा हादसा हो सकता था। फिलहाल जब तक मंत्री सुरेश खन्ना हेलीकॉप्टर से उड़े नहीं सभी अधिकारी वहीं खड़े रहे।
अब हर कोई एक दूसरे से सवाल पूछ रहा है कि आखिर मंत्री को खुश करने के लिए रेड कार्पेट बिछाने का आदेश किसने दिया था। खैर आदेश देने वाले का नाम तो कुछ दिनों में सामने आ जाएगा लेकिन यदि कोई बड़ा हादसा हो जाता तो किसी के पास उसका जवाब नहीं होता।

बिना हेलमेट बाइक पर कर रहे थे ट्रिपलिंग, कप्तान ने दिए जांच के आदेश

  • एएसपी यातायात करेंगे जांच, इसके बाद होगी कार्रवाई

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। समता मूलक चौराहे के पास एक ही बाइक पर वर्दी पहनकर बिना हेलमेट ट्रिपलिंग करने वाले पुलिसकर्मियों के खिलाफ एसएसपी ने जांच के आदेश दिए है। इसकी जांच एएसपी यातायात करेंगे। इसकी खबर 4पीएम ने 14 सितम्बर के अंक में प्रमुखता से प्रकाशित की थी।
बता दें कि एक बाइक पर तीन पुलिसकर्मी बिना हेलमेट सवार होकर जा रहे थे। रास्ते में एक व्यक्ति ने ये नजारा देखा तो उनको नसीहत दी और कहा कि बहुत सही है…कानून-व्यवस्था। उसके कहने का आशय यह था कि जब पुलिसकर्मी ही खुद कानून तोड़ेंगे तो कानून की रक्षा कौन करेगा लेकिन पुलिसकर्मियों ने उसी को गाली देते हुए कह दिया कि चल भाग यहां से।

इस वीडियो में दो होमगार्ड हैं और एक पीआरडी का जवान है। मामले की जांच एएसपी यातायात को दे दी गई है। जल्द ही इनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।
कलानिधि नैथानी, एसएसपी

पर्रिकर इलाज के लिए दिल्ली एम्स रवाना

अमित शाह से बाचतीत कर दी स्वास्थ्य की जानकारी

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर को इलाज के लिए आज सुबह दिल्ली स्थित एम्स ले जाया गया। वह 6 सितंबर को अमेरिका में मेडिकल जांच कराने के बाद वापस लौटे थे। उनका गोवा के कैंडोलिम में इलाज चल रहा था लेकिन स्थिति गंभीर होने पर उन्हें एयर एंबुलेंस से दिल्ली के लिए रवाना किया गया। वहीं खबरें यह भी आ रही हैं कि पर्रिकर ने भाजपा अध्यक्ष अमित शाह और पीएम नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर काम संभाल पाने में असमर्थ होने की जानकारी दी है।
पर्रिकर ने अमित शाह से बात कर अपने स्वास्थ्य से संबंधित जानकारी दी। उसके फौरन बाद उन्हें एयर एंबुलेंस से एम्स ले जाने का फैसला किया गया। अमेरिका से लौटे पर्रिकर ने अभी तक सीएम का काम नहीं संभाला है। अमेरिका में तीन महीने लंबे चले उपचार के दौरान पर्रिकर ने शासन के संचालन के लिए सुदीन धावलिककर, फ्रांसिस डीसूजा और विजय सरदेसाई की एक मंत्रिमंडल सलाहकार समिति का गठन किया था। जो सारा काम देख रही है।

महागठबंधन को समर्थन देगी भीम आर्मी

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। जेल से रिहा हुए भीम आर्मी के मुखिया चंद्रशेखर उर्फ रावण 2019 में बीजेपी को सत्ता से उखाड़ फेंकने की हुंकार भर रहे हैं। इसी कड़ी में भीम आर्मी चीफ के राइट हैण्ड कमल वालिया ने बताया कि 2019 के चुनाव में भीम आर्मी ‘महागठबंधन’ को अपना समर्थन देगी। उन्होंने कहा कि हमारा मकसद बीजेपी को हराना है, जिससे उसका सूपड़ा यूपी में पूरी तरह से साफ हो जाए। यह भी कहा कि वह सुनिश्चित करेंगे कि बीजेपी की 2019 के लोकसभा चुनावों में हार हो। भीम आर्मी सरकार के दबाव में नहीं झुकेगी और बीजेपी को आम चुनावों में सत्ता से बाहर खदेडऩे के लिये संवैधानिक तरीके से लड़ेगी।

Pin It