तेल की बढ़ी कीमतों के खिलाफ कांग्रेस और सपा के भारत बंद और प्रदर्शन का यूपी के कई जिलों में भारी असर, हंगामा

  • बंद के दौरान पेट्रोल-डीजल के बढ़े दामों ने लोगों को किया और भी नाराज
  • महंगाई के मुद्दे पर कांग्रेस, सपा, बसपा समेत 21 दलों ने सरकार को घेरा
  • 2019 के चुनाव में तेल की कीमतों को बड़ा मुद्दा बनाने की तैयारी

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। पेट्रोल-डीजल की आसमान छूती कीमतों के खिलाफ कांग्रेस के भारत बंद को जनता का व्यापक स्तर पर समर्थन मिल रहा है। कांग्रेस को सपा, बसपा समेत 21 विपक्षी पार्टियों का बंद में समर्थन मिला है। मोदी सरकार के खिलाफ आए अविश्वास प्रस्ताव के दौरान संसद में जो विपक्ष बिखरा हुआ नजर आया था। आज विपक्ष के वही दल महंगाई के मुद्दे पर एकजुट हैं और उसी मोदी सरकार के खिलाफ सडक़ पर उतरकर प्रदर्शन कर रहे हैं।
मोदी सरकार के खिलाफ विपक्ष का एकजुट होकर सडक़ पर उतरना भाजपा के लिए अच्छा संकेत नहीं है। आज सुबह से देश के अलग-अलग राज्यों में कहीं ट्रेन रोकी गई तो कहीं बसों में तोडफ़ोड़ की गई। लखनऊ में कांग्रेस और सपा कार्यकर्ताओं ने रैली निकाली और सरकार विरोधी नारे लगाये। यहां बहुत सी दुकानें बंद रहीं। बिहार की राजधानी पटना में सांसद पप्पू यादव की जन अधिकार पार्टी के कार्यकर्ताओं ने ट्रेन रोकीं। केरल में बस सर्विस पूरी तरह से ठप है। कर्नाटक के मेंगलुरु में उपद्रवियों ने एक प्राइवेट बस पर पत्थर फेंके। महाराष्ट्र में राज ठाकरे की महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना के कार्यकर्ताओं ने बसों में पत्थरबाजी की। गुजरात के भरूच में कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने टायरों को आग लगाकर बसों को रोक दिया। ओडिशा में भी कांग्रेस समर्थकों ने बस और ट्रेनें रोकीं। इसके अलावा तेलंगाना में भी कांग्रेस कार्यकर्ता सडक़ों पर उतरे।

विपक्ष को सद्बुद्धि दें भगवान: योगी
विपक्ष के भारत बंद पर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ ने बड़ा बयान दिया है। उन्होंने कहा कि यह विपक्ष की नकारात्मक सोच का नमूना है। यदि उनकी सोच सकारात्मक होती तो उनका अस्तित्व बचा रहता। इसलिए भगवान उनको सद्बुद्धि दें।

विकास रोकने वालों ने नोटबंदी-जीएसटी लागू की: अखिलेश
अखिलेश यादव ने कहा कि बीजेपी की सरकार को घमंड आ गया है। आज पूरा विपक्ष महंगाई को लेकर धरना दे रहा है तो सरकार ने पेट्रोल व डीजल की कीमतें बढ़ा दीं। विकास रोकने वाले वो लोग हैं जिन्होंने नोटबंदी, जीएसटी लागू की है। नोटबंदी इसलिए की ताकी चीन से आयात बढ़ जाये। इस सरकार ने चीन से आयात बढ़ा लिया। दरअसल महंगाई के मुद्दे पर सपा की तरफ से प्रदेश भर में प्रदर्शन किए जा रहे हैं। इसमें सभी जिला मुख्यालयों पर सपा नेताओं और पार्टी पदाधिकारियों के नेतृत्व में प्रदर्शन किया गया। लखनऊ में सैकड़ों की संख्या में सपा कार्यकर्ता सडक़ों पर उतरे और नारेबाजी की। बाराबंकी में सपा नेता अरविंद सिंह गोप के नेतृत्व में जिला मुख्यालय के सामने महंगाई के खिलाफ प्रदर्शन किया गया।

पेट्रोल 23 व डीजल 22 पैसे बढ़ा
तेल के दामों में हो रहे इजाफे के खिलाफ कांग्रेस समेत 21 दलों ने भारत बंद बुलाया है। इस बीच आज भी पेट्रोल-डीजल के दाम बढ़ गये हैं। पेट्रोल के रेट में 23 पैसे की वृद्धि हुई है जबकि डीजल में 22 पैसे का इजाफा हुआ है। इन नए दामों के बाद दिल्ली में पेट्रोल की कीमत 80 रुपये 73 पैसे प्रति लीटर पहुंच गई है। जबकि मुंबई में एक लीटर पेट्रोल का दाम 88 रुपये 12 पैसे पहुंच गया है। वहीं, डीजल के रेट में भी राहत नहीं मिली है। आज इसके दाम में 22 पैसे की बढ़ोतरी हुई है, जिसके बाद दिल्ली में एक लीटर डीजल के लिए 72 रुपये 83 पैसे खर्च करने पड़ेंगे। जबकि मुंबई में एक लीटर डीजल का रेट बढक़र 77 रुपये 32 पैसे हो गया है।

बढ़ सकती हैं बीजेपी की मुश्किलें
2019 के लोकसभा चुनाव के पूर्व जिस तरह से विपक्षी दलों को पास लाने की रणनीति कांग्रेस ने बनाई है। उससे बीजेपी के माथे पर सिकन आना लाजिमी है। जिसमें आरजेडी ने कांग्रेस का साथ देने के लिए सडक़ पर उतरकर जान डाल दिया है। देश के सबके बड़े सूबे यूपी में कांग्रेस के सामने चुनौती है। जिसे अखिलेश यादव ने पूरा कर दिया है। समाजवादी पार्टी ने पूरे प्रदेश में धरना देने की हिदायत दी है। दरअसल कांग्रेस को लग रहा था कि राफेल से पार्टी को ताकत मिलेगी। लेकिन राफेल से जनता का सीधे कनेक्ट नहीं हो पाया है। ऐसे में पेट्रोल-डीज़ल का मुद्दा सीधे जनता से जुड़ा हुआ है। इस मसले से कांग्रेस को सियासी फायदे की उम्मीद है।

Pin It