पुराने लखनऊ में ओवरब्रिज निर्माण की कवायद तेज

  • कंस्ट्रक्शन का सामान रखने के लिए डीएम से मांगी जगह

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। पुराने शहर में बनने वाले तीनों ओवरब्रिज का निर्माण कार्य शुरू करने की कवायद तेजी से चल रही है। सेतु निगम के अफसर कंस्ट्रक्शन का सामान रखने की जगह नहीं तलाश पा रहे हैं। उन्होंने डीएम कौशलराज शर्मा से मिलकर जगह की व्यवस्था करवाने की मांग की है। इसके अलावा रूट के बारे में संबंधित विभागों ने अभी अपनी रिपोर्ट सेतु निगम को नहीं सौंपी है। विभागों की रिपोर्ट मिलने के बाद ही कंस्ट्रक्शन शुरू करने के लिए जगह निर्धारित की जाएगी।
गुरु गोविंद सिंह मार्ग से लेकर डीएवी कॉलेज, चरक क्रॉसिंग से लेकर हैदरगंज तिराहा और हैदरगंज तिराहे से मिल एरिया पुलिस चौकी के पास तक तीन ओवरब्रिज का निर्माण होना है। गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने 409.07 करोड़ रुपये की लागत से बनने वाले तीनों ओवरब्रिज की घोषणा छह अगस्त को की थी। दावा किया गया था कि दस दिन के भीतर पुलों का निर्माण शुरू कर दिया जाएगा, लेकिन अब तक निर्माण कार्य के लिए जगह तक चिन्हित नहीं की जा सकी है। सेतु निगम के एक अधिकारी ने बताया कि पुलों का निर्माण तभी शुरू किया जा सकता है जब जल संस्थान, नगर निगम और लेसा की रिपोर्ट आ जाएगी। उसी के आधार पर यह तय किया जाएगा कि निर्माण कार्य कहां से शुरू किया जाए। अभी तीनों विभाग अंडररग्राउंड पाइप व तारों को लेकर मंथन कर रहे हैं। हालांकि सेतु निगम ने चरक क्रॉसिंग से हैदरगंज जाने वाले ओवरब्रिज का एक सिरा नींबू पार्क के पास बनाने का फैसला किया है, लेकिन अभी सेतु निगम के अफसरों को निर्माण कार्य के लिए उपयोग में लाई जाने वाली मशीनें और निर्माण सामग्री रखने के लिए स्थान नहीं मिल रहा है।

Pin It