कुंवर ग्लोबल स्कूल में शानदार तरीके से मनाया गया स्वतंत्रता दिवस

  • 4पीएम के संपादक संजय शर्मा मुख्य अतिथि के रूप में हुए शामिल

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। देवा रोड स्थित कुंवर ग्लोबल स्कूल में शानदार तरीके से स्वतंत्रता दिवस मनाया गया। इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि 4पीएम के संपादक संजय शर्मा ने बच्चों का आह्वान किया कि वह एक सफल आदमी बनने से पहले इंसान बनें। उन्होंने कहा कि सफल वही होता है जो भीतर से खुश होता है और भीतर से वही खुश होता है जिसके लिए समाज में कुछ करने की इच्छा होती है। कार्यक्रम में बच्चों ने शानदार सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किए। स्वतंत्रता दिवस पर आयोजित कार्यक्रम में विशिष्ट अतिथि मिस्टर इंडिया रहे दारा सिंह भी मौजूद रहे। दारा सिंह ने बच्चों से कहा कि अपने अभिभावकों और गुरुजनों का सम्मान करें और उनकी अच्छी बातों को जीवन में उतारें।
कुवर ग्लोबल स्कूल के चेयरमैन राजेश दयाल ने स्कूल के विषय में बताते हुए कहा कि यह इकलौता स्कूल है, जहां व्यक्तिगत रूप से एक-एक बच्चे के सर्वांगीण विकास पर ध्यान रखा जाता है। स्कूल में स्वतंत्रता दिवस की तैयारियों के लिए बच्चों ने बहुत मेहनत की थी। इस दौरान सर्वप्रथम मुख्य अतिथि संजय शर्मा ने विद्यालय में ध्वजारोहण किया और राष्ट्रगान के बाद स्कूल में सांस्कृतिक कार्यक्रम शुरू हुए। अपने संबोधन में श्री शर्मा ने कहा कि लखनऊ के बहुत सारे स्कूलों के पास कहने के लिए हो सकता है कि हमारे यहां बड़े अफसरों, नेताओं और जजों के बच्चे पढ़ते हैं। वह अपने स्कूल की चकाचौंध से आपको प्रभावित कर सकते हैं मगर लखनऊ में ग्लोबल स्कूल एकमात्र ऐसा स्कूल है जो आत्मा के आधार पर बनाया गया है। उन्होंने कहा कि अपने बेटे के निधन के बाद स्कूल के चेयरमैन राजेश दयाल के जीवन में अंधेरा छा गया था लेकिन उन्होंने नकारात्मकता छोड़ कर कुछ अलग करने का फैसला लिया। इसलिए आज सैकड़ों बेटों को अपने स्कूल में पढऩे का अवसर उपलब्ध करा रहे हैं। उन्होंने कहा कि जिस तरह राजेश सिंह यहां के एक बच्चे को अपना बेटा मानकर उनकी सेवा करते हैं उनके लिए घुड़सवारी स्विमिंग से लेकर गाय के दूध के लिए गौशाला खुली है वह अपने आप में एक आदर्श है।
उन्होंने बच्चों से कहा कि जीवन में अभी से अपना गोल तय करें कि उन्हें भविष्य में क्या बनना है और अर्जुन की चिडिय़ा की आंख की तरह उसी गोल को पूरा करने में जुट जाएं। इस कार्यक्रम के विशिष्ट अतिथि दारा सिंह ने कहा कि बच्चों का जीवन बहुत सरल होता है उन्हें अपने गुरु अभिभावकों से सीखना चाहिए और उनकी अच्छी बातों को जिंदगी भर अनुसरण करना चाहिए। वहीं राजेश दयाल ने कहा कि बच्चे के निधन से मैं टूट गया था मगर इस स्कूल ने मुझे जीने की नई प्रेरणा दी है। मुझे खुशी है कि ग्लोबल स्कूल के बच्चे आज अलग से ही अपने व्यक्तित्व के कारण पहचाने जाते हैं। आने वाले समय में विद्यालय में बच्चों के सर्वांगीण विकास के लिए और कोशिशें की जाएंगी। जिससे बच्चों के भविष्य को और उज्ज्वल बनाया जा सके। इसी कार्यक्रम में कुंवर ग्लोबल स्कूल के अलग-अलग हाउस की टीम के कैप्टन का भी चयन हुआ।
कुंवर ग्लोबल स्कूल की स्टूडेंट काउंसिल सेशन में हेड ब्वॉय शांतनू सिंह, हेड गर्ल दिव्या श्रीवास्तव, स्पोट्र्स कैप्टन रुद्र प्रसाद सान्याल, कल्चरल कैप्टन स्तुति जायसवाल को चुना गया। इसके अलावा हाउस कैप्टन्स आर्यव हाउस में अतिशय अग्रवाल, मैट्री हाउस में मोहम्मद हाशिर खान, प्रशस्ति हाउस में कार्तिक कालरा, शौर्य हाउस में देव तुलसियान, वाइस हाउस कैप्टन्स आर्यव हाउस में आराध्या सिंह, मैट्री हाउस में पवनी अग्रवाल, प्रशस्ति हाउस में साक्षी कुमारी, शौर्य हाउस में ध्रुव का चयन हुआ है।

संपत्ति के लिए बड़े भाई ने कर दी छोटे की हत्या

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। मडिय़ांव पुलिस ने छोटे भाई की हत्या करने वाले बड़े भाई को गिरफ्तार कर लिया है। उसके पास से चाकू सहित अन्य कई सामान भी बरामद हुआ है।
एसएसपी कलानिधि नैथानी ने बताया कि फैजुल्लागंज निवासी विजेंद्र कुमार ने मडिय़ांव थाने में अपने सात वर्षीय बेटे यशु सिंह के गायब होने की शिकायत की थी। इसके बाद यशु का शव यासीनबाग में मिला। इस मामले में पुलिस ने जांच की तो पता चला कि घटनास्थल की तरफ यशु के बड़े भाई सूरज सिंह को जाते हुए देखा गया था। सीसीटीवी फुटेज में भी वह दिखाई पड़ा। जब पुलिस ने सूरज से कड़ाई से पूछताछ की तो उसने अपना जुर्म कबूल कर लिया। पुलिस के मुताबिक सूरज ने सम्पत्ति की लालच में अपने छोटे भाई की हत्या की है। सूरज ने बताया कि उसके पिता अक्सर कहा करते थे कि तुम नालायक हो कोई काम नहीं करते हो, इसलिए सम्पत्ति में से तुम्हे कुछ नही दूंगा। सारी संपत्ति यशु को दे दूंगा। बस यही सोच कर मंैने उसका गला दबाकर हत्या कर दी।

एलडीए की जनता अदालत में कब्जा न मिलने से नाराज आवंटी ने काटा हंगामा

  • अफसरों ने समझा बुझाकर फरियादी को कराया शांत

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। एलडीए में आयोजित जनता अदालत में आज अव्यवस्थाएं देखने को मिलीं। अदालत में आने वाले फरियादियों के बैठने का भी इंतजाम नहीं था। इन सब के बीच नाराज एक आवंटी जमीन पर बैठ गया और अफसरों की कार्यप्रणाली पर नाराजगी जाहिर की। इस पर प्राधिकरण के कर्मचारियों ने उसको उठाने का प्रयास किया तो आवंटी ने परिसर में हंगामा शुरू कर दिया। मामले की गंभीरता को देखते हुए व्यवस्थाधिकारी अशोक पाल ने फरियादी को समझा बुझा कर एलडीए उपाध्यक्ष प्रभु एन सिंह से मिलवाया, तब जाकर मामला शांत हुआ।
फरियादी हरिओम गुप्ता ने बताया कि एलडीए से लाटरी के द्वारा बसंतकुंज हरदोई रोड योजना पर उसकी पत्नी सावित्री देवी को भवन संख्या एस-1/357 आवंटित हुआ था। लेकिन आठ साल बाद भी उनको कब्जा नहीं दिया गया। सावित्री ने बताया कि उक्त भवन पर सुमन गुप्ता का कब्जा है जिसको एलडीए खाली नहीं करवा पा रहा है। कुछ दिन पहले उपाध्यक्ष के आदेश पर सावित्री देवी को दूसरा भवन संख्या एच-1/353 दिया गया। लेकिन सावित्री का आरोप है कि दोबारा जो मकान उनको दिया गया उसमें भी कोई रह रहा है। इसी तरह कानपुर रोड निवासी नवल किशोर ने बताया कि वह 19 साल से प्राधिकरण के चक्कर काट रहे हैं लेकिन आज तक उनके मकान की रजिस्ट्री नहीं की गई। इसलिए वह परेशान हैं।

कप्तान से शिकायत पर दारोगा ने आपा खोया पीडि़त को थाने में बैठाकर धमकाया और दी गाली

  • कहा, कप्तान के पास शिकायत लेकर जाओगे तो करूंगा बुरा सलूक
  • कोतवाली में बैठाकर किया प्रताडि़त, भाई से कहा तुम्ही ने अपनी बहन को भगाया
  • हजरतगंज कोतवाली में तैनात दारोगा विनोद सोनकर की करतूत

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। एक तरफ कप्तान साहब जहां लोगों की समस्याएं सुलझाने के लिए दिन रात मेहनत कर रहे हैं। वहीं दूसरी तरफ उन्हीं के मातहत उनके आदेश देने पर अपना आपा खो रहे हैं। कप्तान से शिकायत करने वाले पीडि़त को डराने-धमकाने का काम किया जा रहा है। इतना ही नहीं पीडि़त से से कह भी रहे हैं कि तुम कप्तान के पास गए थे इसीलिए तुम्हारी यह हालत की है। इसलिए ध्यान रहे अगली बार से शिकायत लेकर कप्तान के पास मत जाना।
मामला हजरतगंज कोतवाली का है। लखनऊ विश्वविद्यालय में कार्यरत एक व्यक्ति की पुत्री पांच दिन से लापता है। इस मामले में पुलिस ने कई बार दौड़ाने के बाद मुकदमा दर्ज किया, लेकिन कार्रवाई के नाम पर कुछ नहीं हुआ। पीडि़त ने इस मामले में एक युवक पर शक जाहिर करते हुए पुलिस को आरोपी का नाम व पता भी बताया लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई तो वह 14 अगस्त को कमांड पहुंचा और इसकी जानकारी एसएसपी कलानिधि नैथानी को दी। एसएसपी ने विवेचक विनोद सोनकर से बात की और कहा कि इस मामले में इंस्पेक्टर का सहयोग लो और लडक़ी को बरामद करो।
कप्तान के इस आदेश के बाद तो विनोद सोनकर अपना आपा खो बैठे। लडक़ी के भाई को कोतवाली में बैठा दिया। गाली देते हुए कहा कि तुम कप्तान के पास गए थे, इसीलिए तुमको बैठाया हूं। यही नहीं विनोद सोनकर ने उससे कहा कि तुमने ही अपनी बहन को भगाया है।

लेटर भी लिखवाया

पीडि़त ने बताया कि 14 अगस्त की देर शाम दारोगा ने लडक़ी के भाई को उठाया और दूसरे दिन 15 अगस्त को तीन बजे के बाद कोतवाली से छोड़ा। छोडऩे के दौरान उसने एक पत्र पर हस्ताक्षर भी कराया कि इनको सही-सलामत सौंपा जा रहा है।

आरोपी मंत्री का करीबी

पीडि़त ने जिसके ऊपर आशंका जताई है उसके पिता एक कैबिनेट मंत्री के चालक हैं। इसीलिए पुलिस उसके खिलाफ कार्रवाई नहीं कर रही है।

 

 

Pin It