राम मंदिर निर्माण में देरी से नाराज संतों को मनाने फिर अयोध्या दौरे पर सीएम योगी

  • मंदिर आंदोलन के पुरोधा रामचंद्र दास परमहंस की पुण्यतिथि पर आयोजित संत सम्मेलन में करेंगे शिरकत
  • बस्ती में संतों से की वार्ता, निर्माण कार्यों का शिलान्यास व पेयजल व प्रकाश व्यवस्था का किया शुभारंभ

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क

लखनऊ। राम मंदिर निर्माण में हो रही देरी से नाराज संतों को मनाने के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ एक बार फिर अयोध्या दौरे पर। यहां वे मंदिर आंदोलन के पुरोधा रामचंद्र दास परमहंस की पुण्यतिथि पर आयोजित संत सम्मेलन में शिरकत करेंगे। माना जा रहा है कि इस मौके पर वह राम मंदिर निर्माण में हो रही देरी से नाराज संतों से बातचीत करेंगे। वहीं दूसरी ओर अयोध्या के संतों का कहना है कि सरकार की कोई बहानेबाजी नहीं चलेगी। उसे राम मंदिर का निर्माण कराना ही होगा।
आगामी लोकसभा चुनाव को देखते हुए एक बार फिर राम मंदिर का मुद्दा गर्म होने लगा है। मंदिर निर्माण को लेकर अयोध्या के साधु-संत कई बार मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मुलाकात कर चुके हैं। इसके अलावा सीएम खुद साधु-संतों से मुलाकात कर चुके हैं। भाजपा भी इस मुद्दे को भी गरमाना चाहती है। वहीं महंत सुरेश दास का कहना है कि सरकार की कोई बहानेबाजी नहीं चलेगी। मंदिर निर्माण कराना ही होगा। सरकार कानून बना कर राम मंदिर का निर्माण कराए। साधु-संतों के गुस्से को देखते हुए भाजपा सतर्क हो गई है और उसने इनको मनाने की जिम्मेदारी मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को सौंपी है। यही वजह है कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ संतों से लगातार वार्ता कर रहे हैं। इसी सिलसिले में सीएम आज बस्ती और फैजाबाद के अयोध्या दौरे पर हैं। बस्ती में जहां सीएम योगी संत समागम में शिरकत की। इस दौरान सीएम योगी आदित्यनाथ में तपसी धाम में पूजा अर्चना की। साथ ही तपसी समाधि स्थल पर वृक्षारोपण, पेयजल व प्रकाश कार्यों का शुभारंभ किया। इस दौरान मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने स्वतंत्रता दिवस की बधाई देते हुए लोगों से अपील की कि सभी लोग कसम खाये कि हम स्वतंत्रता दिवस से प्लास्टिक का प्रयोग नहीं करेंगे। सरकार बिना भेदभाव के विकास कार्य कर रहे हैं। सभी के कल्याण के लिए सरकार विभिन्न योजनाए चला रही है। इसके बाद मुख्यमंत्री योगी अयोध्या के लिए रवाना हो गए। यहां उन्होंने उदासीन आश्रम में बने आधुनिक गौशाला के उद्घाटन और मंदिर आंदोलन के पुरोधा राम चंद्रदास परमहंस की 15वीं पुण्यतिथि के मौके पर आयोजित संत सम्मेलन में हिस्सा लिया। सीएम योगी के कार्यक्रम को लेकर प्रशासन ने सुरक्षा व्यवस्था कड़ी कर दी है।

हिंदू महासभा के कार्यकर्ता भी पहुंचे

आज यहां राम मंदिर निर्माण का बिगुल फूंकने हजारों हिंदू महासभा के कार्यकर्ता भी अयोध्या पहुंचे। हिंदू समाज पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष कमलेश तिवारी ने ऐलान किया है कि राम मंदिर के निर्माण के लिए हजारों कार्यकर्ता राम की पौड़ी से राम जन्मभूमि तक पैदल मार्च करेंगे।

मंदिर निर्माण में देरी से नाराज साधु-संतों का कहना है कि सरकार को राम मंदिर निर्माण कराना ही होगा। महंत सुरेश दास का कहना है कि कोई बहानेबाजी नहीं चलेगी। सरकार संसद में कानून बनाकर राम मंदिर का निर्माण कराए। साधु-संतों की नाराजगी को दूर करने के लिए सीएम योगी आदित्यनाथ लगातार उनसे वार्ता कर रहे हैं।

मोदी सरकार ने वह कर दिखाया जो 70 सालों में नहीं हुआ: कांग्रेस

रुपये में ऐतिहासिक गिरावट पर विपक्ष हमलावर

  • इतिहास में पहली बार अमेरिकी डॉलर के मुकाबले 70 के निचले स्तर पर आया रुपया

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
नई दिल्ली। रुपये में आज ऐतिहासिक गिरावट दर्ज हुई। रुपया पहली बार डॉलर के मुकाबले 70 के निचले स्तर पर आ गया। रुपये में जारी गिरावट पर विपक्ष ने मोदी सरकार पर हमला बोला है। कांग्रेस ने ट्वीट किया कि मोदी सरकार ने वह कर दिखाया जो 70 सालों में कभी नहीं हुआ। वहीं आम आदमी पार्टी ने ट्वीट कर कहा, जनता झेल रही है मार, रुपया पहुंचा 70 के पार, अब तो जागो मोदी सरकार!
रुपये में गिरावट लगातार दूसरे दिन जारी रही। सोमवार को इसने 69.93 का आंकड़ा छू लिया था और आज यह डॉलर के मुकाबले 69.84 पर खुलने के बाद 70.085 के सबसे निचला स्तर पर आ गया। तुर्की की करंसी लीरा की वैल्यू में भारी गिरावट आने के बाद इमर्जिंग देशों की मुद्राओं में कमजोरी आई है, जिसकी गिरफ्त में रुपया भी आ गया। डॉलर के मुकाबले रुपया 70 का लेवल पार कर चुका था। भारतीय मुद्रा में अभी बिकवाली रुकी नहीं है।

अमेरिकी सख्ती का असर
तुर्की से मेटल इंपोर्ट पर अमेरिका द्वारा दोगुनी इंपोर्ट ड्यूटी लगाने के फैसले के बाद फॉरेक्स मार्केट में भूचाल आ गया। तुर्की की करंसी लीरा जो कि पहले से ही बेहाल थी, अब निचले स्तर का नया रेकॉर्ड बना रही है। इस साल इसमें करीब 40 फीसदी की गिरावट आ चुकी है।

सेना ने लिया शहीद पुष्पेंद्र का बदला, दो पाक सैनिकों को मारा

  • एलओसी पर भारतीय सेना की बड़ी कार्रवाई

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
श्रीनगर। भारतीय सेना ने 20 जाट रेजिमेंट के शहीद जवान पुष्पेंद्र का बदला ले लिया है। सेना के जवानों ने 24 घंटे के अंदर कश्मीर के तंगधार इलाके में नियंत्रण रेखा पर दो पाकिस्तानी सैनिकों को मार गिराया। माना जा रहा है कि सर्जिकल स्ट्राइक के बाद पहली बार भारतीय सेना ने एलओसी पर इतनी बड़ी कार्रवाई की है। सेना ने यह कदम लगातार हो रहे सीजफायर उल्लंघन और आतंकवादियों की घुसपैठ का बदला लेने के लिए किया है।
रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता ने एक बयान जारी कर कहा कि हमारी सेना ने दो पाकिस्तानी सैनिकों को मार गिराया है। सेना ने यह कदम बिना उकसावे के लगातार सीजफायर उल्लंघन और आतंकवादियों की बार-बार हो रही घुसपैठ की कोशिशों का बदला लेने के लिए उठाया है। गौरतलब है कि पाकिस्तान की ओर से सीजफायर उल्लंघन और आतंकवादियों को भारतीय सीमा में घुसपैठ कराने की नापाक कोशिश जारी है।

Pin It