हथियारों के बाद अब कुत्तों की भी देखभाल करेगा लॉजिस्टिक विभाग

  • हथियारों के बाद अब डीजीपी कार्यालय से जारी किया गया पत्र, इसके पूर्व सीबीसीआईडी उठा रही थी जिम्मेदारी

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क

लखनऊ। हथियारों की देखभाल करने वाला लॉजिस्टिक विभाग अब डॉग स्क्वायड की भी देखभाल करेगा। इसके लिए डीजीपी कार्यालय से पत्र जारी हो चुका है। हालांकि सीबीसीआईडी जैसे महत्वपूर्ण विभाग से डॉग स्क्वायड को दूसरे विभाग में क्यों स्थानांतरित किया गया यह एक सवाल बना हुआ है। पुलिस सूत्रों का कहना है कि ऐसा किसी के इशारे पर डीजीपी कार्यालय से किया गया है।
बता दें कि अनिल कुमार पुलिस उपाधीक्षक स्थापना ने 10 मई 2018 को एक पत्र जारी करते हुए सभी जोन के अपर पुलिस महानिदेशक को बताया है कि पुलिस महानिदेशक के आदेश पर परिवहन, आरमोरर, घुड़सवार के साथ ही डॉग स्क्वायड विभाग की जिम्मेदारी लॉजिस्टिक विभाग को दी जाती है। इतना ही नहीं इन विभागों में कार्यरत निरीक्षक, उपनिरीक्षक एवं इसके नीचे स्तर के पुलिसकर्मियों व अधिकारियों का स्थानान्तरण अपर पुलिस महानिदेशक लॉजिस्टिक विभाग को दी जाती है। अब कुत्तों की खरीदारी और उनको ट्रेंड करने का कार्य लॉजिस्टिक विभाग ही करेगा। कुत्तों की भी देखभाल करेगा लॉजिस्टिक विभाग

निरीक्षक के स्थानान्तरण में ये हैं शामिल
स्थानान्तरण को लेकर स्थापना बोर्ड का गठन भी किया गया है। निरीक्षक के स्थानान्तरण में डीजीपी को अध्यक्ष, अपर पुलिस महानिदेशक लॉजिस्टिक, अपर पुलिस अधीक्षक, पुलिस उपाधीक्षक लॉजिस्टिक को सदस्य बनाया गया है।

निरीक्षक के नीचे कर्मचारियों के स्थानान्तरण में ये हैं शामिल
निरीक्षक के नीचे पद पर तैनात पुलिसकर्मियों के स्थानान्तरण के लिए अपर पुलिस महानिदेशक लॉजिस्टिक को अध्यक्ष, पुलिस अधीक्षक या अपर पुलिस अधीक्षक, पुलिस उपाधीक्षक लॉजिस्टिक को सदस्य बनाया गया है।

क्या है लॉजिस्टिक विभाग

प्रदेश में मौजूद पुलिस विभाग के असलहों की देखभाल की जिम्मेदारी लॉजिस्टिक विभाग की होती है। इसमें असलहों की खरीद व उनकी मरम्मत कराने सहित कई कार्य होते हैं।

क्या है डॉग स्क्वायड

प्रदेश पुलिस ·े पास डॉग स्क्वायड होता है। इसमें विभिन्न प्र·ार ·े ·ुत्ते रखे जाते हैं। इन ·ुत्तों ·ी मदद से पुलिस जहां अपराधियों ·ो प·ड़ती है वहीं ·ई जगह घटनाएं होने से बच भी जाती है।

Pin It