लोहिया अस्पताल: एक्सरे मशीन खराब, मरीज हलकान

  • दूर दराज से आए मरीजों की शिकायत पर अस्पताल प्रशासन के अधिकारी बेखबर

 4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। डॉ. राम मनोहर लोहिया संयुक्त चिकित्सालय में एक्सरे मशीन कई दिन से खराब है। इस कारण इलाज और जांच के सिलसिले में अस्पताल आने वाले लोगों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। आज सुबह दूर-दराज के गांवों से आकर बहुत से लोगों ने पर्चा बनवाने और जांच करवाने के लिए लंबी लाइन लगाई लेकिन जब जांच करवाने पहुंचे तो पता चला मशीन ही खराब है। इस मामले में अस्पताल प्रशासन के अधिकारियों से शिकायत की गई लेकिन उन्होंने मामले को गंभीरता से लेने के बजाय अनसुना कर दिया।
गोमतीनगर स्थित लोहिया अस्पताल में रोजाना सैकड़ों मरीज इलाज के सिलसिले में आते हैं। इन मरीजों में लखनऊ के ही नहीं बल्कि आस-पास के जिलों से भी सैकड़ों मरीज आते हैं। गंभीर बीमारी से पीडि़त मरीजों की संख्या इनमें अधिक होती है। लेकिन जब मरीज जांच करवाने पहुंचते हैं, तो कभी कर्मचारी समय से उपलब्ध नहीं रहते तो कभी एक्सरे या अन्य जांच मशीनें खराब होती हैं। इस कारण जल्दी जांच करवाने के चक्कर में सुबह सात बजे ही अस्पताल पहुंचकर पर्चा बनवाने की लाइन में लगे लोगों को निराश होना पड़ता है। इन मरीजों को पर्चा काउंटर पर भी सूचित नहीं किया जाता कि एक्सरे मशीन या फला मशीन खराब है। इसलिए आप किसी अन्य अस्पताल में जाकर जांच करवा लें। मरीजों के मुताबिक एक्सरे मशीन खराब होने से मरीजों को हो रही समस्या के बारे में अस्पताल प्रशासन के अधिकारियों से शिकायत की जा चुकी है, लेकिन उन्होंने न तो कोई आश्वासन दिया और न ही बताया कि मशीन कब तक ठीक हो जाएगी।

मोटी कमाई कर रहे निजी जांच केंद्र

लोहिया अस्पताल में जांच मशीनें खराब होने की वजह से मरीजों को निजी सेंटर में एक्सरे जांच करवानी पड़ती है। ये जांच केंद्र मरीजों से निर्धारित फीस के अलावा रिपोर्ट जल्दी देने के नाम पर 100-150 रुपये अधिक वसूलते हैं। चूंकि ओपीडी में डॉक्टर एक निश्चित समय तक ही बैठते हैं, इसलिए मरीज निजी जांच केंद्रों पर एक्सरे व अन्य जांच रिपोर्ट के बदले जो भी मांगा जाता है, उसका भुगतान करने को मजबूर हैं। इस मामले में शासन और प्रशासन की तरफ से बिल्कुल भी ध्यान नहीं दिया जा रहा है। जबकि कुछ डॉक्टर जांच पर कमीशन खा रहे हैं।

लखनऊ में ट्रक से टकराई रोडवेज बस, एक की मौत, आठ घायल

  • फैजाबाद रोड पर कामता चौराहे के पास हुआ हादसा

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। राजधानी लखनऊ के विभूतिखंड थाना क्षेत्र के कामता चौराहा के पास एक रोडवेज बस और ट्रक में जोरदार टक्कर हो गई। इस हादसे में बस में सवार एक व्यक्ति की मौके पर ही मौत हो गई, जबकि आठ लोग गंभीर रूप से घायल हो गए। यात्रियों की चीख पुकार सुनकर राहगीर दौड़े और पुलिस को इस घटना की जानकारी दी। वहीं सूचना पाकर मौके पर पहुंची पुलिस ने बस में फंसे लोगों को तीन घंटे तक रेस्क्यू ऑपरेशन चलाने के बाद बाहर निकाला। घायलों को एम्बुलेंस की मदद से डॉ. राम मनोहर लोहिया अस्पताल में भर्ती कराया गया है। यहां भर्ती सभी घायलों की हालत खतरे से बाहर बताई जा रही है। पुलिस ने क्षतिग्रस्त वाहनों को कब्जे में लेकर मामले की पड़ताल शुरू कर दी है। वहीं हादसे की खबर मिलते ही मृतकों के घरों में कोहराम मच गया। फिलहाल पुलिस पूरे मामले की पड़ताल में जुटी हुई है।
जानकारी के मुताबिक, घटना विभूतिखंड थाना क्षेत्र के कामता चौराहा के पास की है। गोरखपुर से कानपुर जा रही बस और ट्रक ओवरब्रिज के पास एक ही रूट पर आ गईं। चूंकि मेट्रो निर्माण के चलते एक साइड की लेन रात से सुबह तक के लिए बंद रहती है, इसलिए ट्रक भी ओवरब्रिज पर आ गया था। तभी सामने से आ रही रोडवेज बस और ट्रक में टक्कर हो गई। इस हादसे में ट्रक ड्राइवर और क्लीनर समेत बस में सवार आठ लोग बुरी तरह घायल हो गए। घायलों में तीन वर्षीय आलिया की हालत नाजुक बताई जा रही है। बस में सवार अम्बेडकर नगर निवासी रोहित (40) की मौके पर ही मौत हो गई। प्रत्यक्षदर्शियों की मानें तो पुलिस ने लोगों की मदद से तीन घंटे तक रेस्क्यू के बाद बस में फंसे लोगों को बाहर निकाला और सभी घायलों को लोहिया अस्पताल में भर्ती कराया।

मोबाइल से ही वेरिफाई होंगे गाड़ी के पेपर्स

  • नई पालिसी लाने में जुटी सरकार

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
नई दिल्ली। देशभर के करोड़ों वाहन चालकों के लिए बड़ी राहत की खबर है। सरकार जल्द ही डिजिटल ड्राइविंग लाइसेंस और आरसी के लिए नई पॉलिसी ला सकती है। इसके तहत, अगर कोई वाहन चालक अपनी गाड़ी के पेपर्स, ड्राइविंग लाइसेंस आदि घर पर भूल जाता है तो उसकी गाड़ी जब्त नहीं की जाएगी और न ही चालान काटा जाएगा। लेकिन, इसके लिए वाहन चालक के पास डिजिटल ड्राइविंग लाइसेंस और गाड़ी के पेपर्स होने जरूरी हैं।
सरकार की इस नई पॉलिसी से वाहन चालक अपने मोबाइल से ही अपनी गाड़ी के कागजात (पेपर्स) वेरिफाई करा सकते हैं। इसके अलावा परिवहन मंत्रालय ने भारी वाहनों के लिए भी नई पॉलिसी बनाई है। इन नई पॉलिसी के मुताबिक, सभी भारी वाहनों को हर दो साल में एक बार फिटनेस टेस्ट से गुजरना पड़ेगा। अगले दो दिनों में परिवहन मंत्रालय नए मोटर नियम के संशोधन के लिए एडवाइजरी जारी कर सकता है। परिवहन मंत्रालय ने इसके लिए सभी अथॉरिटीज से बात कर ली है।

सीएम योगी ने चुनावी रणनीति पर पार्टी के वरिष्ठ नेताओं के साथ की चर्चा

  • पार्टी मुख्यालय में उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य, दिनेश शर्मा समेत कई अन्य मंत्री भी मौजूद

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। भारतीय जनता पार्टी आगामी लोकसभा चुनावों को लेकर अभी से सक्रिय हो गई है। पार्टी का मकसद यूपी में अधिक से अधिक सीटें हासिल करना है। इसको लेकर पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह और भाजपा प्रदेश संगठन महामंत्री सुनील बंसल समेत कई पदाधिकारियों के बीच बैठकें हो चुकी हैं। इसके अलावा प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की भी संगठन के लोगों से वार्ता हुई है। ऐसे में सीएम योगी आदित्यनाथ ने आज पार्टी मुख्यालय पहुंचकर यूपी भाजपा प्रदेश अध्यक्ष महेंद्र नाथ पांडेय व संगठन के वरिष्ठ पदाधिकारियों के साथ लोकसभा चुनाव के संबंध में विस्तृत चर्चा की। साथ ही कार्यकर्ताओं से सक्रियता दिखाने की अपील की है।
मुख्यमंत्री योगी ने पार्टी के सभी मंत्रियों, संगठन के पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं से कहा कि वे सरकार की नीतियों और उपलब्धियों को जन-जन तक पहुंचाने का काम व्यापक स्तर पर करें। पार्टी कार्यकर्ता प्रदेश में एक-एक बूथ के अंतर्गत आने वाले सभी वोटर्स को सरकार की उपलब्धियां बताने और उनका समर्थन हासिल करने की कोशिश करें। बता दें, योगी मंत्रिमंडल में फेरबदल की चर्चाओं के बीच आयोजित इस बैठक में सरकार के कई मंत्रियों और संगठन के पदाधिकारियों को आनन-फानन में बुलाया गया था। इसलिए माना जा रहा है कि बैठक अति महत्वपूर्ण है।

अमेठी के गावों में अपना विस्तार कर रहा आरएसएस

  • संघ के बड़े पदाधिकारी भी होंगे शामिल

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। अमेठी संसदीय क्षेत्र में राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (आरएसएस) ने अपना विस्तार करना शुरू कर दिया है। संघ ने क्षेत्र को तीन जिलों और तीन सौ से अधिक मंडलों में बांट रखा है। अमेठी-रायबरेली के साथ जगदीशपुर जिले में विभाजित अमेठी संसदीय क्षेत्र का आधे से अधिक भाग काशी तो बाकी बचा भाग अवध क्षेत्र में आता है। अमेठी में 45 मंडल में कुल 145 शाखाएं लगती हैं तो जगदीशपुर में संघ ने कुल 52 मंडल बना रखे हैं। यहां कुल 90 शाखाएं संचालित होती हैं। सलोन में भी इनकी संख्या 20 के पार हो चुकी है।
संघ ने अपने स्वयंसेवकों से मिलने के लिए बाकायदा कार्यक्रम बना रखा है। सप्ताह में मंडली कार्यक्रम व माह में मिलन कार्यक्रम में सभी की आपस में मुलाकात होती है। इसमें संघ के बड़े पदाधिकारी भी शामिल होते हैं। चूंकि अमेठी में हर साल प्राथमिक शिक्षा वर्ग का आयोजन होता है। इसमें नए स्वयंसेवकों को संघ से जोड़ा जाता है और उन्हें सात दिन का प्रशिक्षण दिया जाता है। इसलिए अमेठी में संघ की सक्रियता को भांपकर कांग्रेस ने अपने सेवादल के सिपाहियों को मजबूत करना शुरू कर दिया है। अमेठी में सेवादल की जिला इकाई के पुनर्गठन के साथ ही प्रशिक्षण शिविर का भी आयोजन होने जा रहा है।

Pin It