मुआवजे को लेकर टूटा किसानों का धैर्य एक ने की आत्महत्या की कोशिश

  • सुरक्षा कर्मियों ने बचाया किसानों ने एलडीए पर लगाया उपेक्षा का आरोप

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क

लखनऊ। लखनऊ विकास प्राधिकरण किसानों की मांगों को लेकर सजग नहीं है। पिछले एक माह से एलडीए गेट पर मुआवजे के लिए धरना दे रहे किसानों पर कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा है। इसी के चलते किसानों का आक्रोश सोमवार को देखने को मिला। धरने पर बैठे एक किसान रामू ने आत्महत्या का प्रयास किया। उसने अपना गला गमछे से कस लिया। यह देखकर गेट पर मौजूद सुरक्षा कर्मियों व अन्य लोगों में हडक़ंप मच गया। आनन-फानन में सुरक्षा कर्मियों ने किसान को बचाने का प्रयास किया। इस पर किसानों और सुरक्षा कर्मियों के बीच तीखी झड़प शुरू हो गई।
भारतीय किसान यूनियन अवध के अध्यक्ष राम सिंह के नेतृत्व में ये धरना एलडीए के यूको बैंक गेट के बाहर एक महीने से दिन-रात जारी है। शाम को किसान ने आत्महत्या की कोशिश की। वह किला गांव कानपुर रोड योजना का रहने वाला है। धरने पर बैठे कानपुर रोड के इन किसानों की मुख्य मांग मुआवजा बढ़ाने की है जिस पर एलडीए अफसर तैयार नहीं है। अफसरों का कहना है कि ये धरना प्रदर्शन अवैध है और किसानों से धरना समाप्त करने की अपील की जा चुकी है। अफसरों का कहना है कि किसानों को हटाने के लिए एसएसपी को पत्र लिखा जा चुका है, लेकिन अभी तक उन्हें हटाया नहीं गया है।

अफसरों का कहना है कि ये धरना प्रदर्शन अवैध है और किसानों से धरना समाप्त करने की अपील की जा चुकी है।

 

 

Pin It