दो करोड़ लोगों को रोजगार दिलाएगी सरकार: योगी

  • एक जिला-एक उत्पाद योजना से पैदा होंगे अवसर
  • नई व्यवस्था से छोटे व मझोले उद्योगों को होगा फायदा
  • सभी व्यापारियों से जीएसटी में पंजीकरण कराने की अपील

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने एक जिला-एक उत्पाद योजना (ओडीओपी) से प्रदेश के दो करोड़ लोगों को रोजगार दिलाने की बात कही है। उन्होंने प्रत्येक उद्यमी से जीएसटी के तहत रजिस्ट्रेशन कराने की अपील की, जिससे उन्हें केंद्र और राज्य की योजनाओं का लाभ आसानी से मिल सके। साथ ही एमएसएमई सेक्टर को आगे बढऩे में हरसंभव मदद करने का वादा किया है।
मुख्यमंत्री योगी मंगलवार को इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान में इंडियन इंडस्ट्रीज एसोसिएशन (आईआईए) की ओर से आयोजित उत्तर प्रदेश उद्यमी महासम्मेलन को संबोधित कर रहे थे। इस दौरान मुख्यमंत्री ने कहा कि तमाम विषम परिस्थितियों के बावजूद देश में यूपी का विशिष्ट स्थान है। प्रदेश सरकार यहां एमएसएमई सेक्टर के विकास के लिए कई नीतियां लाई है। अगले महीने सरकार ‘एक जिला-एक उत्पाद योजना’ के तहत विराट सम्मेलन आयोजित करने जा रही है। इसके लिए जहां बजट में पर्याप्त राशि की व्यवस्था की गई है, वहीं इससे दो करोड़ लोगों को स्वावलंबी बनाने में मदद मिलेगी।
उन्होंने कहा कि मार्च-2017 में जब सत्ता संभाली थी, तब यूपी से उद्योग पलायन के मूड में थे। सैमसंग, एलजी और टीसीएस ने यहां से जाने का इरादा जाहिर किया था। विगत एक वर्ष में माहौल एकदम बदल गया है। उद्यमी भी कह रहे हैं कि गुंडा टैक्स बंद हो गया है। गोलियों का मुंह अपराधियों की तरफ हो गया है। विपक्षी नेताओं पर निशाना साधते हुए कहा कि जो लोग औद्योगीकरण के विरोधी रहे हैं, वे भी अब विकास की बात कर रहे हैं।

इंवेस्टर्स को लुभाने के लिए आयोजित होंगे कार्यक्रम

मुख्यमंत्री ने कहा कि 29 जुलाई को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की मौजूदगी में 60 हजार करोड़ रुपये की परियोजनाओं का भूमिपूजन होगा। ये प्रस्ताव फरवरी में आयोजित इन्वेस्टर्स समिट में आए थे। भविष्य में हर तीन महीने पर इस तरह के आयोजन होंगे। सीएम ने कहा कि यूपी में एमएसएमई सेक्टर के विकास की अपार संभावनाएं हैं। जिला और मंडल स्तर पर उद्योग बंधु की बैठकें हर महीने करने के निर्देश दे दिए गए हैं। राज्यस्तरीय बैंकर्स कमेटी की बैठक भी हर तिमाही पर की जा रही है। उन्होंने कहा कि प्रत्येक उद्यमी को जीएसटी के तहत अपना रजिस्ट्रेशन कराना चाहिए। अगर वे इसके दायरे में नहीं आते हैं तो रिटर्न फाइल करते समय इसका जिक्र कर देना चाहिए।

प्लास्टिक पर बैन जरूरी

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि प्लास्टिक के उत्पादों से न सिर्फ कैंसर जैसी घातक बीमारियां हो रही हैं, बल्कि इससे जलभराव की समस्या भी पैदा हो रही है। इसलिए उद्यमी पॉलीथिन बैन करने में अपना सहयोग दें। उन्होंने कहा कि प्लास्टिक के कारण सीवर और ड्रेनेज चोक हो जाते हैं। हम सफाई कर्मियों को दोष देते हैं, पर यह नहीं देखते कि इसके लिए हम खुद जिम्मेदार हैं।

 

Pin It