अफसरों की लापरवाही से परवान नहीं चढ़ रही प्रधानमंत्री आवास योजना

  • अभी तक एलडीए नहीं शुरू कर सका निर्माण, 12 हजार मकानों का होना है निर्माण

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। एलडीए अफसरों की लापरवाही से राजधानी में प्रधानमंत्री आवास योजना परवान नहीं चढ़ पा रही है। प्राधिकरण को दिसंबर तक 12 हजार आवास बनाने है लेकिन छह माह बाद भी निर्माण का काम नहीं शुरू हो सका है। एलडीए को 2021 तक 48 हजार प्रधानमंत्री आवास बनाने का लक्ष्य दिया गया है। वहीं आवास विकास परिषद भी आवासों के निर्माण में सुस्त पड़ा है।
एलडीए और आवास विकास के अफसरों ने काफी मशक्कत के बाद मकानों के लिए पारा, बिजनौर, पीजीआई व गोमतीनगर विस्तार में जमीन की व्यवस्था की है, लेकिन अभी निर्माण शुरू नहीं हो सका है। अगले तीन वित्तीय वर्ष में आवास विकास परिषद और प्रदेश के सभी 28 प्राधिकरणों को गरीबों व मध्यम वर्ग के लिए चार लाख ईडब्लूएस के मकान बनाने का लक्ष्य दिया गया है। इस मामले में प्रमुख सचिव द्वारा नितिन रमेश गोकर्ण ने सभी मंडलों के मंडलायुक्त, जिलों के जिलाधिकारी, आवास आयुक्त समेत सभी प्राधिकरणों के उपाध्यक्षों को निर्देश जारी किए हैं। अफोर्डबल हाउसिंग इन पार्टनरशिप मद के अतंर्गत ईडब्लूएस भवनों का निर्माण किया जाना है। आवास विकास परिषद को प्रदेश में 1.20 लाख और एलडीए को 48 हजार आवास बनाने का लक्ष्य दिया गया है लेकिन अभी तक इस मामले में जमीन की उपलब्धता के अलावा कोई प्रगति नहीं हुई है।

 

Pin It