आईसीयू से लैस होगा बलरामपुर गंभीर रोगियों को मिलेगी राहत

  • महानिदेशालय को भेजा गया प्रस्ताव, उपकरण व स्टॉफ की भी मांग
  • अस्पताल में रोजाना दस फीसदी आते हैं अति गंभीर मरीज

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। बलरामपुर अस्पताल में जल्द ही गंभीर मरीजों को आईसीयू की सुविधा मिलेगी। अब उन्हें इलाज के लिए दर-दर भटकना नहीं पड़ेगा। अस्पताल प्रशासन ने 16 बेड का आईसीयू बनाने के लिए प्रस्ताव महानिदेशालय को भेजा है, जिसमें उपकरण की मांग भी की गई है। अफसरों का कहना है कि प्रस्ताव पर मुहर लगते ही आईसीयू की व्यवस्था अस्पताल में की जाएगी।
बलरामपुर अस्पताल में रोजाना करीब 100 मरीजों की भर्ती होती है। इसमें 10 फीसदी अति गंभीर होते हैं। ऐसे मरीजों के लिए आईसीयू की जरूरत होती है। आईसीयू न होने के चलते तीमारदार मरीजों को केजीएमयू या निजी संस्थान लेकर जाते हैं। मरीजों की दुश्वारियों को कम करने के लिए अस्पताल में ही 16 बेड का आईसीयू बनाने की तैयारी चल रही है। इसके लिए एसएस ब्लॉक में जगह तय कर ली गई है। निदेशक डॉ. राजीव लोचन ने बताया कि साढ़े छह करोड़ की लागत से आईसीयू बनकर तैयार होगा। इसके लिए उपकरण व स्टॉफ की भी मांग की गई है।

चिकित्सकीय टीम का दौरा
लखनऊ। मोहनलालगंज के ग्राम अमवा मुर्तजापुर और खरगी का पुरवा का बुधवार को जिला कुष्ठ अधिकारी डॉ. पीके अग्रवाल, डब्ल्यूएचओ से डॉ. सिद्धार्थ, नगराम सीएचसी अधीक्षक डॉ. कैलाश बाबू, स्वास्थ्य शिक्षा अधिकारी, बीएचडब्ल्यू और आरबीएसके की टीम ने दौरा किया। इस दौरान एसीएमओ डॉ. डीके बाजपेयी ने अस्थाई चिकित्सालय की व्यवस्था सुचारू रूप से रखने के निर्देश कर्मचारियों को दिए। वहीं उप चिकित्साधिकारी डॉ. केपी त्रिपाठी ने गांव वालों को नियमित साफ-सफाई रखने, क्लोरीन के इस्तेमाल व बच्चों के नियमित टीकाकरण करने के संबंध में विस्तार से बताया। रक्त का नमूना भी लिया गया।

खुले में शौच मुक्त अभियान तेज, नगर निगम लेगा जनता से सहयोग

  • 2 अक्टूबर तक शहर को खुले में शौच मुक्त बनाने के लिए बैठक

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। शहर को 2 अक्टूबर तक खुले में शौच से मुक्त किया जाना है। इसको लेकर बुधवार को नगर निगम मुख्यालय में नगर आयुक्त की अध्यक्षता में स्वच्छता मिशन की बैठक अयोजित की गई।
नगर आयुक्त ने कहा कि 2 अक्टूबर तक शहर को खुले में शौच से मुक्तकरना है। इसके तहत शहर में 114 रेड जोन चिह्नित किए गए हैं। इन रेड जोन में लोग शौच के लिए खुले स्थानों का प्रयोग करते हैं जिससे खुले में शौच प्रथा को बढ़ावा मिल रहा है। उन्होंने कहा कि आरडब्ल्यू और एनजीओ के सहयोग से खुले में शौच रोकने का प्रयास किया जाएगा। इसके लिए नगर आयुक्त ने साथी हाथ बढ़ाओ के तहत लोगों से सहयोग की अपील की। उन्होंने कहा कि बिना समुदाय के सहयोग से शहर को खुले मे शौच से मुक्त नहीं किया जा सकता। इस बैठक में अपर नगर आयुक्त मनोज कुमार व अनिल मिश्रा, एनजीओ, एसडब्ल्यूपीएस समेत आरडब्ल्यू और तमाम लोग मौजूद रहे।

 

Pin It