सही नीयत से काम कर रही प्रदेश सरकार: सीएम योगी

  • सबका साथ सबका विकास की अवधारणा से जनता हो रही लाभान्वित

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। नीति आयोग की चौथी बैठक में हिस्सा लेने पहुंचे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा राज्य सरकार सबका साथ सबका विकास की अवधारणा पर प्रदेश को स्वच्छ, स्वस्थ, समर्थ तथा सर्वोत्तम प्रदेेश बनाने की दिशा में काम कर रही है। केन्द्र तथा राज्य सरकार के समन्वित प्रयास से प्रदेश की समस्याओं को हल करने के कई रास्ते निकले हैं। जनता की खुशी के लिए सही नीयत से काम किया जा रहा है।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में आयोजित नीति आयोग की बैठक के दौरान यूपी की कई समस्याओं को हल करने संबंधी प्रस्ताव केंद्र सरकार ने पास कर दिए।
मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि प्रदेश में अच्छी चिकित्सा सुविधा प्रदान करने के लिये 6 मण्डल स्तरीय और 4 जिला स्तरीय अस्पतालों में डायलिसिस सेवाएं प्रारंभ की गई है। इसके अलावा 150 एडवान्स लाइफ सपोर्ट एम्बुलेन्स सेवा की शुरुआत भी हुई है।
प्रदेश में यह अभियान चार चरणों में चलाया गया है। इस योजना के प्रथम चरण में जनपद श्रावस्ती के सिरसिया ब्लाक के समस्त 29 उप केन्द्रों को हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर के रूप में विकसित किया जाएगा। दूसरे चरण में 10 चयनित जनपदों इलाहबाद, बस्ती, बरेली, मेरठ, झांसी, फर्रूखाबाद, वाराणसी, गोरखपुर, मिर्जापुर तथा सीतापुर के 300 उपकेन्द्रों को हेल्थ एण्ड वेलनेस सेण्टर के रूप में उच्चीकृत करने के लिए चयनित किया गया है। तीसरे चरण मे 8 महत्वाकांक्षी जनपदों में 60-60 हेल्थ एण्ड वेलनेस सेंटर स्थापित करने के साथ ही प्रदेश के शेष जनपदों में 30-30 उपकेन्द्रों तथा 714 प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों एवं 255 सामुदायिक स्वास्थ्य को आरोग्य केन्द्र के रूप में सुदृढ़ किया जायेगा।

इंश्योरेंस मॉडल पर चलाया जाएगा पीएम राष्ट्रीय सुरक्षा मिशन

मुख्यमंत्री योगी के मुताबिक प्रदेश में प्रधानमंत्री राष्ट्रीय सुरक्षा मिशन को संचालित करने के लिए प्रस्तावित योजना को इन्श्योरेन्स मॉडल पर चलाये जाने का फैसला लिया गया है। इससे प्रदेश के लगभग 1.18 करोड़ परिवारों को नि:शुल्क चिकित्सा सुविधा का लाभ सुलभ होगा। गोरखपुर में एम्स का निर्माण कार्य शुरू हो गया है। फैजाबाद, बस्ती, बहराइच, फिरोजाबाद तथा शाहजहांपुर में जिला चिकित्सालयों को उच्चीकृत कर राजकीय मेडिकल कॉलेज के रूप में स्थापित करने की कार्रवाई शुरू हो गयी है। वहीं दूसरे चरण में एटा, हरदोई, प्रतापगढ़, फतेहपुर, सिद्घार्थ नगर, देवरिया, गाजीपुर और मीरजापुर में नये 8 मेडिकल कालेजों को स्वीकृति प्रदान की गई है।

Pin It