प्रदेश की कानून व्यवस्था दुरुस्त करने की कवायद

  • अब थानों में तैनात होंगे चार इंस्पेक्टर, डीजीपी ने जारी किया आदेश
  • सभी इंस्पेक्टरों के कार्यों का किया गया विभाजन लंबित मामलों का होगा निपटारा

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। प्रदेश की कानून व्यवस्था को दुरुस्त करने की कवायद तेज हो गई है। अपराधों पर अंकुश लगाने के लिए अब हर थाने पर चार इंस्पेक्टर नियुक्त किए जाएंगे। डीजीपी कार्यालय की ओर से आदेश जारी कर दिया गया है। सभी इंस्पेक्टरों के कार्यों का विभाजन किया गया है।

कानून व्यवस्था को दुरुस्त करने के लिए अब सूबे के थानों में नया फार्मूला लागू किया जा रहा है। इसके मुताबिक अब प्रदेश के 414 थानों में एक मुख्य इंस्पेक्टर के अलावा तीन सहयोगी भी होंगे। यह मुख्य इंस्पेक्टर की मदद करेंगे। डीजीपी कार्यालय से जारी पत्र के मुताबिक प्रत्येक थाने पर चार प्रभारी निरीक्षक तैनात होंगे, जिनमें से एक को पूरे थाने की कमान सौंपी जायेगी और बाकी तीन को उसकी सहायता के लिये तैनात किया जायेगा। एक इंस्पेक्टर कानून व्यवस्था और दूसरा प्रशासन देखेगा। तीसरे इंस्पेक्टर को इनके सहयोग की जिम्मेदारी सौंपी गई है। मुख्य इंस्पेक्टर थाना का सर्वेसर्वा होंगे और तीनों अतिरिक्त इंस्पेक्टर व एसएसआई के काम का पर्यवेक्षण करेंगे। यदि कोई गम्भीर घटनाा होगी तो वे मौके का मुआयना करेंगे। इसके अलावा डाक और जनसुनवायी का कार्य देखेंगे। इंस्पेक्टर कानून व्यवस्था क्राइम कंट्रोल, ट्रैफिक, धरना प्रदर्शन आदि पर नजर रखेंगे। इंस्पेक्टर प्रशासन सभी प्रकार के प्रशासनिक कार्यों की देखरेख करेंगे। चौथे इंस्पेक्टर सहयोगी की भूमिका में होंगे। पुलिस का कहना है कि यह व्यवस्था इसलिये जारी की गयी है कि ताकि एक ही प्रभारी निरीक्षक पर ज्यादा भार न पड़े और काफी समय से लंबित मामलों का निपटारा किया जा सके।

फुट पेट्रोलिंग

प्रधानमंत्री नरेंन्द्र मोदी द्वारा दिये गये फिटनेस मंत्र को स्वीकार करते हुये डीजीपी ओपी सिंह ने राजधानी पुलिस के साथ पांच किलोमीटर की फुट पेट्रोलिंग की। इस मौके पर उनके साथ एडीजी कानून व्यवस्था आनन्द कुमार, एडीजी जोन राजीव कृष्ण आईजी रेंज सुजीत पाण्डे, एसएसपी लखनऊ दीपक कुमार, एसपी उत्तरी अनुराग वत्स, एसपी ग्रामीण डॉ. गौरव ग्रोवर समेत अन्य अधिकारी भी मौजूद रहे।

Pin It