संघ के खिलाफ बयान पर फंसे राहुल, कोर्ट ने तय किए आरोप

  • भाषण में महात्मा गांधी की हत्या के पीछे बताया था राष्टï्रीय स्वयं सेवक संघ का हाथ
  • महाराष्टï्र के भिवंडी कोर्ट ने आईपीसी की धारा 499 व 500 के तहत तय किए आरोप

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क

नई दिल्ली। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी मंगलवार को राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ मानहानि मामले में महाराष्ट्र की भिवंडी कोर्ट में पेश हुए। राहुल ने अपनी सफाई में कहा कि मैं दोषी नहीं हूं। हालांकि कोर्ट ने राहुल पर आईपीसी की धारा 499 और 500 के तहत आरोप तय किए। इस दौरान राहुल के साथ पूर्व मुख्यमंत्री अशोक चव्हाण और अशोक गहलोत भी
मौजूद रहे।

संघ कार्यकर्ता राजेश कुंटे ने 2014 में भिवंडी में राहुल गांधी का भाषण सुनने के बाद उनके खिलाफ केस दर्ज किया था। राहुल ने उस भाषण में कहा था कि महात्मा गांधी की हत्या के पीछे आरएसएस का हाथ था। अदालत में आरएसएस के खिलाफ टिप्पणी करने के लिए उनके खिलाफ मानहानि का मामला दायर किया गया है। राहुल गांधी ने छह मार्च, 2014 को एक चुनावी रैली में महात्मा गांधी की हत्या को आरएसएस से जोड़ा था। दो मई को कोर्ट ने कांग्रेस अध्यक्ष से 12 जून को हाजिर होने को कहा था। आज अदालत ने उनकी अर्जी पर सुनवाई की। कांग्रेस अध्यक्ष ने समरी ट्रायल की जगह दर्ज विस्तृत सुबूत मांगे थे। सुनवाई के दौरान जज ने कहा कि आपने आरएसएस को बदनाम किया। कोर्ट ने कहा कि इस मामले में धारा 499 के तहत यह अपमान है और धारा 500 के तहत यह दंडनीय भी है। कांग्रेस अध्यक्ष के वकील नारायण अय्यर ने कहा था कि यह मामला ऐतिहासिक तथ्यों से संबंधित है, इसलिए उन्हें कई दस्तावेजों का सहारा लेना पड़ेगा और विशेषज्ञों के बयान दर्ज करवाने होंगे। दूसरी ओर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने भाजपा पर निशाना साधते हुए कहा कि मेरे ऊपर केस करते रहिए मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता है। ये मेरी और उनकी विचारधारा की लड़ाई है। मैं लड़ंूगा और जीतूंगा।

सुप्रीम कोर्ट का भी खटखटाया था दरवाजा

इससे पहले राहुल गांधी ने इस मामले को खारिज कराने के लिए सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया था। इस पर शीर्ष अदालत ने कहा था कि उन्हें इस तरह से किसी संस्था को बदनाम नहीं करना चाहिए था अगर वे इस मामले में अफसोस जाहिर नहीं करते हैं तो उन्हें कोर्ट में ट्रायल का सामना करना पड़ेगा। गांधी ने इसे खारिज करते हुए अदालती कार्यवाही में शामिल होने की बात कही थी।

सीएम योगी ने जनता को सौंपा हाईटेक आलमबाग बस अड्डा

  • करोड़ों की लागत से बने बस अड्डे में तमाम सुविधाएं
  • कुंभ में यात्रियों को विशेष सुविधाएं देने का ऐलान
  • प्रदेश में 21 हाईटेक बस अड्डों के निर्माण की घोषणा

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क

लखनऊ। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आज अत्याधुनिक आलमबाग बस टर्मिनल जनता को सौंप दिया। इस दौरान मुख्यमंत्री ने लखनऊ से अयोध्या स्वामी नारायण मंदिर छपिया के लिए दो संकल्प सेवाओं को रवाना भी किया।

मुख्यमंत्री ने अपने संबोधन में कहा कि यह पहला मल्टी कनेक्शन टर्मिनल है। परिवहन निगम ने बेहतर काम किया है। यह मुनाफे में चल रहा है। विभाग ने एक साल में 122 करोड़ का मुनाफा कमाया है। आलमबाग बस अड्डे की तर्ज पर प्रदेश में 21 और बस अड्डों का निर्माण किया जाएगा। वहीं 23 बस स्टैंडों का नवनिर्माण किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि हमारी सरकार बनने से पहले आवास के नाम पर यूपी 17वें नम्बर पर था, पर अब पहले नंबर पर है। महिला सुरक्षा के लिए भी सरकार बड़े स्तर पर काम कर रही है। सरकार ने प्रदेश की सडक़ों को गड्ढा मुक्त किया है। सरकार कई जिलों में मेट्रो की सुविधा शुरू करने की योजना बना रही है। सीएम ने कहा कि दिव्यांगों को पूरे भारत में जहां-जहां यूपी परिवहन निगम की बसें चलती हैं सभी में फ्री सीटें उपलब्ध करायी गई हैं। इस दौरान सीएम योगी ने कुंभ 2019 के लिए परिवहन निगम की ओर से विशेष सुविधाएं देने का भी ऐलान किया।

ये मिलेंगी सुविधाएं

  • मेट्रो से लिंक होगा बस स्टेशन, पांच लिफ्ट।
  • यात्री जरूरत की खरीदारी भी कर सकेंगे।
  • एसी फूड कोर्ट, थिएटर की सुविधा।
  • बैंकों के एटीएम व अन्य सेवाओं का लाभ।
  • एसी कैंटीन में बैठे यात्रियों को मिलेगी बसों की छूटने की जानकारी।
  • एयरपोर्ट की तर्ज पर लगेज स्कैनर, 25 हजार यात्रियों की क्षमता, 50 बसें साथ खड़ी हो सकेंगी।
  • 50 से अधिक बसों की अंडरग्राउंड पार्किंग।

सोशल मीडिया के जरिए सरकार लगा सकती है भ्रष्टïाचार पर लगाम: नीलकंठ तिवारी

  • कहा, समाज और राष्टï्र के निर्माण में बड़ी भूमिका निभाएगा सोशल मीडिया
  • सूचना राज्यमंत्री ने कार्यशाला का किया शुभारंभ

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क

लखनऊ। शासकीय योजनाओं और कार्यों के प्रचार-प्रसार में सोशल मीडिया की प्रासंगिकता विषय पर लोकभवन में आयोजित कार्यशाला का शुभारंभ सूचना राज्यमंत्री नीलकंठ तिवारी, प्रमुख सचिव सूचना अवनीश अवस्थी और मुख्यमंत्री के सूचना सलाहकार मृत्युंजय कुमार ने दीप प्रज्ज्वलित कर किया।

इससे पूर्व श्री तिवारी ने सोशल सेल का भी निरीक्षण किया।
अपने संबोधन में सूचना राज्यमंत्री नीलकंठ तिवारी ने कहा कि आने वाले दिनों में सोशल मीडिया समाज और राष्ट्र निर्माण में बड़ी भूमिका निभाएगा। सरकार जनहित की तमाम योजनाओं को लागू करती है, लेकिन इनका फीडबैक नहीं मिल पाता है। सरकार प्रदेश में हर विभाग के लाभार्थी को सोशल मीडिया के जरिए जोडऩे जा रही है। इसके माध्यम से एक नेटवर्किंग बनाई जा रही है ताकि कोई भी अधिकारी किसी के साथ गलत न कर सके। सोशल मीडिया के जरिए सरकार भ्रष्टïाचार और सामाजिक कुरीतियों को दूर करेगी। आने वाले दिनों में यह संचार का सटीक माध्यम साबित होगा। प्रमुख सचिव सूचना अवनीश अवस्थी ने कहा कि सोशल मीडिया के जरिए योजनाओं का लाभ गांव और गरीब तक पहुंचाना सरकार का उद्देश्य है। उन्होंने अपील की कि सभी लोग अपने-अपने जिलों में सरकार की जनहितकारी योजनाओं को सोशल मीडिया के माध्यम से लोगों तक पहुंचाएं। हम लोग सोशल मीडिया को मजबूत करने की दिशा में आगे बढ़ रहे हैं।
मुख्यमंत्री के सूचना सलाहकार मृत्युंजय कुमार ने कहा कि सोशल मीडिया समाज को जोडऩे का एक माध्यम है। सरकार के साइबर सेल को चलाने वाले लोगों को साइबर लॉ की भी जानकारी होनी चाहिए। देश के मुख्यमंत्रियों में सोशल मीडिया पर सबसे अधिक फॉलोइंग योगी आदित्यनाथ की है। सूचना निदेशक उज्ज्वल कुमार ने कहा कि पहले हम लोग सिर्फ न्यूजपेपर के जरिए सूचनाएं प्राप्त करते थे लेकिन समय के साथ माहौल बदल गया। अब हम एक मिनट में कहीं पर सूचनाएं भेज सकते हैं। इस का दुरूपयोग भी हो रहा है। इसको रोकने की व्यवस्था भी की जा रही है।

Pin It